एडवांस्ड सर्च

दिल्ली: कुत्तों और बंदरों के आंतक से निपटने के लिए बनी विधायकों की कमेटी

दिल्ली के विधायक सोमनाथ भारती की अध्यक्षता में गठित कमेटी में विधायक अलका लांबा, ओम प्रकाश शर्मा, सौरभ भारद्वाज और राजेश ऋषि को शामिल किया गया है.

Advertisement
aajtak.in
सना जैदी/ मणिदीप शर्मा नई दिल्ली, 11 August 2018
दिल्ली: कुत्तों और बंदरों के आंतक से निपटने के लिए बनी विधायकों की कमेटी प्रतीकात्मक तस्वीर

कुत्ते-बंदर कैसे पकड़े जाएं इस का समाधान अब विधायक निकालेंगे. सुनने में ज़रूर अटपटा सा लगेगा लेकिन ये सच है. दरअसल, दिल्ली में बढ़ रही कुत्तों और बंदरों की समस्या अब आम नहीं है. पहले संसद में खुद उपराष्ट्रपति ने इस समस्या को उठाया था और अब दिल्ली विधानसभा में भी बंदरों और कुत्तों की समस्या का विषय जोरों पर रहा.

दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को लगभग आधा दर्जन विधायकों ने सदन को बताया कि उनके इलाके में कुत्तों और बंदरों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. जिसके कारण ना सिर्फ स्थानीय लोगों को बल्कि खुद विधायकों को भी रात के वक़्त घर से निकलते वक्त डर लगता है.

इस विषय पर विधायकों ने एक मत में MCD को ज़िम्मेदार ठहराते हुए बंदर व कुत्ते पकड़ने की ज़िम्मेदारी दिल्ली सरकार को अपने हाथ में लेने की सलाह भी दे डाली. विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने भी इस विषय पर चिंता व्यक्त की और दिल्ली विधानसभा में घटित एक घटना का ज़िक्र करते हुए बताया कि विधानसभा में भी बंदरों के आतंक के कारण एक व्यक्ति की जान जाते जाते बची. इस विषय की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली विधानसभा ने 5 विधायकों सौरभ भारद्वाज, अलका लांबा, राजेश ऋषि, ओपी शर्मा की एक कमेटी बनाई है, जिसकी अध्यक्षता सोमनाथ भारती करेंगे.

बंदरों और कुत्तों के काटने से कई लोगों की मौत के मामले भी कई बार सामने आ चुके हैं, वहीं वर्ष 2007 में तत्कालीन उप महापौर एसएस बाजवा को भी बंदरों के कारण अपनी जान से हाथ धोने पड़े थे. दिल्ली में लोगों की आबादी तो बढ़ ही रही है, जिनके लिए सिर छुपाने के लिए जगह ढूंढना बहुत मुश्किल होता जा रहा है लेकिन ये विधायक इन कुत्तों के लिए अलग-अलग मोहल्ला बसाने की बात कह रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay