एडवांस्ड सर्च

केजरीवाल ने 21 विधायकों को बनाया संसदीय सचिव, शुरू हुआ बवाल

अरविंद केजरीवाल के अपने 21 विधायकों को संसदीय सचिव बनाने पर विवाद शुरू हो गया है. बीजेपी नेता विजेंद्र गुप्ता ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा है कि 21 विधायकों को मंत्रियों की तरह सुविधाएं दी जाएंगी, जिससे दिल्ली की जनता पर बोझ पड़ेगा. गौर करने वाली बात यह है कि 1993 में दिल्ली विधानसभा के दोबारा गठन के बाद से किसी भी सरकार में तीन से ज्यादा संसदीय सचिव नहीं रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited by: रोहित गुप्ता]नई दिल्ली, 15 March 2015
केजरीवाल ने 21 विधायकों को बनाया संसदीय सचिव, शुरू हुआ बवाल BJP नेता विजेंद्र गुप्ता

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के अपने 21 विधायकों को संसदीय सचिव बनाया है, जिस पर विवाद शुरू हो गया है. बीजेपी नेता विजेंद्र गुप्ता ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा है कि 21 विधायकों को मंत्रियों की तरह सुविधाएं दी जाएंगी, जिससे दिल्ली की जनता पर बोझ पड़ेगा. गौर करने वाली बात यह है कि 1993 में दिल्ली विधानसभा के दोबारा गठन के बाद से किसी भी सरकार में तीन से ज्यादा संसदीय सचिव नहीं रहे हैं.

To settle widening fissures in AAP, its MLAs are being handed down lollypops by being appointed as Parliament Secretaries in the govt. 2/4

विजेंद्र गुप्ता ने ट्वीट किया कि इन सचिवों को मंत्रियों की तरह गाड़ी, दफ्तर और दूसरी सुविधाएं मिलेंगी. उन्होंने उपराज्यपाल नजीब जंग को पत्र लिखकर इन नियुक्तियों को रोकने की अपील की है. गुप्ता का आरोप है कि केजरीवाल सरकार ने अपनी पार्टी की सरकार की बढ़ती अंदरूनी दरार को रोकने के लिए विधायकों को लॉलीपॉप थमा दिए हैं.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी एक साथ 21 सचिवों की नियुक्ति पर सवाल उठाते हुए कहा कि मैंने अपने किसी भी कार्यकाल में तीन से ज्यादा संसदीय सचिव नियुक्ति नहीं किए और इसके लिए भी हमें केंद्र से इजाजत लेनी पड़ती थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay