एडवांस्ड सर्च

कलाम-शास्त्री चित्र अनावरण कार्यक्रम में नहीं पहुंचे केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल दिल्ली विधानसभा में पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की तस्वीरों के अनावरण के अवसर पर उपस्थित नहीं रहे. इसे लेकर विपक्ष ने उन पर सवाल खड़े किए हैं.

Advertisement
aajtak.in
मणिदीप शर्मा / अजीत तिवारी नई दिल्ली, 10 August 2018
कलाम-शास्त्री चित्र अनावरण कार्यक्रम में नहीं पहुंचे केजरीवाल अरविंद केजरीवाल

दिल्ली विधानसभा सदन में पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की तस्वीरों का अनावरण किया गया. कार्यक्रम में चीफ गेस्ट सीएम अरविन्द केजरीवाल के नहीं पहुंचने पर विपक्ष ने सवाल खड़े किए. वहीं स्पीकर रामनिवास गोयल के मुताबिक सीएम अपने घर जरूरी बैठक ले रहे थे इसी कारण सम्मान समारोह में शामिल नहीं हो सकें.

इस बात में दो राय नहीं की पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और पूर्व राष्ट्रपति कलाम साहब की तस्वीरों को दिल्ली विधानसभा सदन में लगाना सम्मानजनक फैसला था. इसलिए सम्मान समारोह के लिए मुख्य अथिति सीएम अरविंद केजरीवाल को भी आना था, लेकिन दिल्ली विधानसभा से महज कुछ ही मीटर की दूरी पर अपने घर में होने के बावजूद केजरीवाल कार्यक्रम में नही पहुंचे.

वैसे विधानसभा के किसी भी सत्र के लिए अरविन्द केजरीवाल की लगातार कम मौजूदगी विपक्ष के निशाने पर रहती है. लेकिन कलाम साहब और लाल बहादुर शास्त्री को दिए जा रहे इस सम्मान समारोह से केजरीवाल का कन्नी काटना विपक्ष को बिलकुल रास नहीं आया. बीजेपी विधायक ओपी शर्मा ने केजरीवाल की इस मामले में कड़ी आलोचना की है. ओपी शर्मा, विधायक, बीजेपी ने कहा कि केजरीवाल को सम्मान की नहीं पार्टी के लिए सामान की जरूरत है इसलिए वो घर पर बैठक करते रहे.

विधानसभा सदन में कलाम साहब और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की तस्वीरें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, बाल गंगाधर तिलक और सुभाष चंद्र बोस के साथ जोड़ी गयी हैं. स्पीकर रामनिवास गोयल के मुताबिक सदन की सभा में दो और महानुभावों की मौजूदगी प्रेरणा देगी. स्पीकर ने कार्यक्रम में सीएम केजरीवाल के न आने का भी बखूबी बचाव किया.

सत्र के बीते 4 दिनों में सीएम केजरीवाल दिल्ली विधानसभा से कन्नी काट चुके हैं. विपक्ष ये भी आरोप लगाता है कि सीएम केजरीवाल के लिए राजनितिक बैठकें विधानसभा आने से ज्यादा जरूरी लगती हैं. विपक्षी बीजेपी के मुताबिक सीएम केजरीवाल दिल्ली विधानसभा सिर्फ पीएम मोदी को कोसने भर के लिए कुछ ही मिनटों के लिए आते हैं, जो एक तरह से पूरी दिल्ली का अपमान है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay