एडवांस्ड सर्च

पीएम मोदी के बाद AAP के निशाने पर क्यों हैं राहुल गांधी?

आम आदमी पार्टी इन दिनों पीएम नरेंद्र मोदी की बजाए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर सवालों की बौछार करने में व्यस्त है. इसकी एक बड़ी वजह अप्रैल के महीने में होने वाले नगर निगम चुनाव मानी जा रही है.

Advertisement
aajtak.in
पंकज जैन / सुरभि गुप्ता नई दिल्ली, 07 March 2017
पीएम मोदी के बाद AAP के निशाने पर क्यों हैं राहुल गांधी? कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी

आम आदमी पार्टी इन दिनों पीएम नरेंद्र मोदी की बजाए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर सवालों की बौछार करने में व्यस्त है. इसकी एक बड़ी वजह अप्रैल के महीने में होने वाले नगर निगम चुनाव मानी जा रही है. 'आप' नेताओं की हैरानी की एक वजह हाल ही में हुए एमसीडी के उपचुनाव में कांग्रेस वोटर्स की बढ़त भी हो सकती है. मंगलवार को राहुल गांधी के एमसीडी चुनाव के लिए प्रचार करने रामलीला मैदान पहुंचने से पहले ही 'आप' नेताओं ने 5 सवाल पूछकर कांग्रेस से जवाब मांगा.

'पर्यटक की तरह दिल्ली आए हैं राहुल'
आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पाण्डेय ने आरोप लगाते हुए कहा, 'दिल्ली में 15 साल सरकार में रहने और पिछले 20 साल से नगर निगम की सत्ता में रहने के बावजूद कांग्रेस पार्टी दिल्ली की जनता की समस्याओं को दूर नहीं कर पाई. दिल्ली और केंद्र में एकसाथ सरकार होने के बाद भी जनता ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को शून्य पर समेट दिया था. फिलहाल राहुल गांधी एक पर्यटक की तरह फिर से दिल्ली पधारे हैं और पूरे देश में कांग्रेस का बंटाधार करने के बाद दूसरी बार दिल्ली में कांग्रेस को शून्य का उपहार देते दिख रहे हैं.'

आम आदमी पार्टी के राहुल गांधी से पांच सवाल-

1. राहुल गांधी दिल्ली की जनता को एमसीडी में रहते हुए उनकी पार्टी का कोई एक महत्वपूर्ण काम बताएं.

2. चुनाव से ठीक पहले 2008 में राहुल गांधी की पार्टी ने तकरीबन 1300-1400 कॉलोनियों के बाशिंदों को फर्जी प्रॉविजनल सर्टिफिकेट बांटे थे. इसके बाद 895 को ही नोटिफाई किया और उसके बाद कहा कि ‘नहीं’ बाकी सब तो सरकारी जमीनों पर हैं तो उनके मामले में बड़ी मुश्किल होगी क्योंकि 312 कॉलोनियां हैं प्रॉफिट लैंड पर हैं और उनको नियमित करेंगे. दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि फर्जी सर्टिफिकेट बांटकर दिल्ली की जनता को मूर्ख बनाने के लिए क्या राहुल गांधी अपनी पार्टी की तरफ माफी मागेंगे?

3. दिल्ली नगर निगम में पार्षद भाजपा और कांग्रेस दोनों के हैं और जो भी स्थिति आज एमसीडी की है, वो इन दोनों की वजह से ही है. बीजेपी शासित एमसीडी जानबूझकर सफाईकर्मियों की सैलरी नहीं देती है और फिर मजबूर होकर सफाई कर्मचारी हड़ताल करते हैं. बीजेपी-कांग्रेस पोषित जो यूनियन हैं वो इस हड़ताल में सफाई कर्मियों के दर्द को इन-कैश करते हुए कचरा फैलाते हैं, तो दिल्ली की जनता बहुत परेशान होती है. कांग्रेस के योगदान से हुई इस कचरे की राजनीति से दिल्ली की जनता को जो तकलीफ हुई है, क्या राहुल गांधी दिल्ली की जनता से इस परेशानी के लिए माफी मागेंगे?

4. शीला दीक्षित लगातार कहती रहीं कि बिजली कंपनियों का ऑडिट नहीं हो सकता क्योंकि हाई कोर्ट का स्टे है. अब आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद हमने पड़ताल किया तो पता चला कि ऐसा कोई स्टे है ही नहीं. हमने इसकी जांच शुरू करवाई तो इसके खिलाफ बिजली कम्पनियां हाई कोर्ट चली गईं. तो राहुल गांधी को दिल्ली की जनता को बताना चाहिए कि उनकी पार्टी बिजली कंपनियों के हितों को बचाना चाहती है या जनता के हितों को सुरक्षित रखना चाहती है?

5. राहुल गांधी से पूछना चाहते हैं कि 15 साल उनकी पार्टी राज्य की सरकार में रही. इसके पहले एमसीडी को भी वो चला रहे थे, तो 15 साल के कांग्रेस शासनकाल के दौरान दिल्ली में बिजली के दाम क्यों बढ़ते रहे?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay