एडवांस्ड सर्च

दूसरों को बिजली देने वाला छत्तीसगढ़ खुद गर्मी से बेहाल

छत्तीसगढ़ देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जहां सैकड़ों की तादात में छोटे-बड़े बिजली घर हैं. राज्य की बीजेपी सरकार ने नए बिजली घर बनाने के लिए आद्योगिक घरानों से दर्जनों MOU साइन कर रखे हैं. देश में छत्तीसगढ़ की पहचान जीरो पावर कट वाले राज्य के रूप में भी होती है.

Advertisement
aajtak.in
सुनील नामदेव रायपुर, 07 April 2017
दूसरों को बिजली देने वाला छत्तीसगढ़ खुद गर्मी से बेहाल बिजली टावर (प्रतीकात्मक तस्वीर)

छत्तीसगढ़ देश का पावर हब कहलाता है. लेकिन गर्मी की शुरुआत होते ही राज्य बिजली की संकट से जूझ रहा है. एक ओर तापमान में लगातार तेजी आ रही है, दिन का तापमान राज्य के ज्यादातर हिस्सों में 43 डिग्री तक चढ़ गया है. दूसरी ओर राज्य की एक के बाद एक बड़ी बिजली उत्पादन वाली यूनिट ठप्प हो रही है.

छत्तीसगढ़ देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जहां सैकड़ों की तादाद में छोटे बड़े बिजली घर हैं. राज्य की बीजेपी सरकार ने नए बिजली घर बनाने के लिए आद्योगिक घरानों से दर्जनों MOU साइन कर रखे हैं. देश में छत्तीसगढ़ की पहचान जीरो पावर कट वाले राज्य के रूप में भी होती है. लेकिन अब ये तमगा उससे छिन सकता है, क्योंकि राज्य का कोई भी हिस्सा ऐसा नहीं है जो पावर कट के दौर से ना गुजर रहा हो.

गर्मी में तो हालात और भी खराब हो जाते हैं. शहरों से लेकर गावों कस्बों तक लोग इन दिनों बिजली संकट के दौर से गुजर रहे हैं. जिसका कारण सरकार के नियंत्रण वाले बिजली घरों में तकनीकी विशेषज्ञों की कमी और कुप्रबंधन के चलते एक के बाद एक संयंत्र ठप्प होते जा रहे हैं. एक समय था जब ये राज्य पड़ोसी राज्यों को बिजली सप्लाय करता था. लेकिन अब खुद ही बिजली संकट से जूझ रहा है.

हाल ये है कि कोरबा के बिजली संयंत्रों की आधा दर्जन ईकाइयों में 1600 मेगावाट का उत्पादन बंद हो गया है. कुछ एक जिन ईकाइयों में उत्पादन हो रहा है वो भी आधा-अधूरा है. 3400 मेगावाट की क्षमता वाले संयंत्रों में अभी महज 1300 मेगावाट उत्पादन हो रहा है. सबसे ज्यादा प्रभावित मड़वा के नए संयत्र की 500 मेगावाट की दोनों ईकाइयां हुई हैं. पहली ईकाई को जहां वार्षिक रखरखाव के नाम पर बंद किया गया है.

वहीं दूसरी ईकाई बायलर लाइटिंग के कारण बंद हो गई है. इस ईकाई को जल्द ही ठीक करने का दावा किया जा रहा है. लेकिन कई तकनीकी ख़ामियों के चलते बिजली उत्पादन बार बार ठप्प हो रहा है. कोरबा ईस्ट में 50 मेगावाट की दो और 120 मेगावाट की एक ईकाई बंद है. 120 मेगावाट की ईकाई में पानी घुसने के कारण इसकी सफाई चल रही है. देखरेख के आभाव और लापरवाही के चलते इस संयत्र में पानी चला गया था. 50 मेगावाट की दो ईकाइयों के साथ 250 मेगावाट की एक ईकाई को भी वार्षिक रखरखाव के लिए बंद किया गया है.

बिजली की कमी होने के कारण सबसे ज्यादा उद्योग धंधे प्रभावित हो रहे हैं. ग्रामीण इलाकों में घंटों बिजली कटौती की जा रही है. राजधानी रायपुर के ओद्योगिक इलाकों में शाम 6 बजे से रात 2 बजे तक कटौती की जा रही है. रोजाना 500 से 600 मेगावाट बिजली कटौती से कारखानों में उत्पादन ठप्प हो गया है. सबसे बुरा हाल पूरे प्रदेश में ग्रामीण इलाकों का है. जहां 10 से 12 घंटों तक बिजली कटौती होने से खेती बाड़ी को काफी नुकसान पहुंच रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay