एडवांस्ड सर्च

छत्तीसगढ़:VC की नियुक्ति का अधिकार अब राज्य सरकार के पास, विश्वविद्यालयों के नाम बदलेंगे

छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंगलवार को कैबिनेट की बैठक ली. इस दौरान राज्य सरकार ने विश्वविद्यालयों में अपनी पसंद से कुलपति की नियुक्ति करने और किसी भी कुलपति को हटाने संबंधी संशोधन विधायकों को मंजूरी दे दी है. इसके अलावा कुशाभाऊ ठाकरे विश्विविद्यालय का नाम बदलने का भी फैसला किया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 25 March 2020
छत्तीसगढ़:VC की नियुक्ति का अधिकार अब राज्य सरकार के पास, विश्वविद्यालयों के नाम बदलेंगे छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट की बैठक

  • सीएम भूपेश बघेल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ली कैबिनेट बैठक
  • कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय का नामअब होगा चंदूलाल चंद्राकर

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंगलवार को कैबिनेट की बैठक की. इस दौरान राज्य सरकार ने विश्वविद्यालयों में अपनी पसंद से कुलपति की नियुक्ति करने और किसी भी कुलपति को हटाने के संबंधी संशोधन विधायकों को मंजूरी दे दी है. अभी तक कुलपति की नियुक्ति और हटाने का अधिकार राज्यपाल के पास था. इसके अलावा कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम बदलने का भी फैसला किया गया है.

दरअसल प्रदेश के विश्वविद्यालय में अभी तक कुलपति की नियुक्ति और और हटाने का अधिकार राज्यपाल के पास था. राज्य सरकार कुलपति की नियुक्ति के लिए तीन नामों का पैनल भेजती थी. इन तीनों नामों में राज्यपाल एक का चयन करते थे. पिछले दिनों पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय और कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय में कुलपति की नियुक्ति को लेकर राजभवन और भूपेश बघेल सरकार आमने-सामने आ गए थे.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन पर बोले अमित शाह- घबराएं नहीं, देश में जरूरी चीजों की नहीं होगी कमी

राज्यपाल ने इन दोनों विश्वविद्यालयों में कुलपति की नियुक्तियां की हैं, उससे सरकार सहमत नहीं थी. इस वजह से विवाद की स्थिति बनी थी. इसी के चलते मंगलवार की देर शाम कैबिनेट की बैठक में सीएम भूपेश बघेल ने विश्वविद्यालय में कुलपति की नियुक्ति और उन्हें हटाने से संबंधित बिल को पास किया है. इस के जरिए अब राज्य सरकार जिस नाम की अनुशंसा करेगी, राज्यपाल को उसी की नियुक्ति करनी होगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

भूपेश बघेल सरकार ने इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता व जनसंचार विश्वविद्यालय और पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि को छत्तीसगढ़ विवि (संशोधन) विधेयक के अंतर्गत लाने का फैसला किया है. अब सभी राज्य के विश्वविद्यालयों का संचालन और कुलपति की नियुक्ति एक ही प्रक्रिया के तहत होगी.

विश्वविद्यालय का नाम बदलेगी कांग्रेस सरकार

भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने कैबिनेट की बैठक में कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम बदलकर पूर्व सांसद, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व पत्रकार चंदूलाल चंद्राकर के नाम पर करने का फैसला किया है. कुभाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय का गठन बीजेपी सरकार के दौरान 2008 में किया गया था.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार बनने के बाद से ही नाम बदलने की चर्चा थी और मंगलवार को कैबिनेट ने इस पर मुहर लगा दी है. इसी तरह कामधेनु विश्वविद्यालय का नाम अब दाऊ वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय होगा. वासुदेव चंद्राकर को सीएम बघेल का राजनीतिक गुरु कहा जाता है. इसके अलावा कैबिनेट बैठक में शंकराचार्य प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी खोलने को भी मंजूरी दी है

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay