एडवांस्ड सर्च

Advertisement

छत्तीसगढ़ चुनाव: पंडरिया सीट पर वापसी को बेताब कांग्रेस

छत्तीसगढ़ की पंडरिया विधानसभा सीट पर एक बार कांग्रेस और एक बार बीजेपी जीत हासिल कर चुकी है. इस बार दोनों पार्टियां पूरे दमखम से जुटी हुई हैं. ऐसे में बाजी किसके हाथ लगती है ये दिलचस्प होगा.
छत्तीसगढ़ चुनाव: पंडरिया सीट पर वापसी को बेताब कांग्रेस बीजेपी के विधायक मोतीराम चंद्रवासी
कुबूल अहमदनई दिल्ली, 08 September 2018

छत्तीसगढ़ की पंडरिया विधानसभा सीट 2008 के परसीमन के बाद वजूद में आई है. एक बार कांग्रेस और एक बार बीजेपी इस सीट पर जीत चुकी है. मौजूदा समय में बीजेपी का कब्जा है. जबकि कांग्रेस दोबारा से वापसी के लिए बेताब है.

पंडरिया विधानसभा के वनांचल का इलाका आज भी बुनियादी सुविधाओं से जूझ रहा है और यहां पेयजल, स्वास्थ्य, शिक्षा समस्या प्रमुख है. कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियों ने यहां से जीत हासिल की है, लेकिन समस्याएं जस की तस बनी हुई है.

2013 में बीजेपी के मोतीराम बने थे MLA

2013 के विधानसभा चुनाव में पंडरिया सीट पर 15 उम्मीदवार मैदान में उतरे थे. बीजेपी के मोतीराम चन्द्रवंशी ने कांग्रेस के लालजी चन्द्रवासी को मात देकर कब्जा किया था.

बीजेपी उम्मीदवार को 81685 वोट मिले थे. जबकि कांग्रेस उम्मीदवार को 74412 वोट मिले थे. इसके अलावा जीजीपी के निर्मल सलूजा को 7377 और सीएसएम के रामकृष्ण साहू को 5502  वोट मिले थे.

2008 के नतीजे

कांग्रेस उम्मीदवार अकबर को 72397 वोट मिले थे

बीजेपी के लालजी चंद्रवासी को 70536 वोट मिले थे

छत्तीसगढ़ के समीकरण

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में कुल 90 विधानसभा सीटें हैं. राज्य में अभी कुल 11 लोकसभा और 5 राज्यसभा की सीटें हैं. छत्तीसगढ़ में कुल 27 जिले हैं. राज्य में कुल 51 सीटें सामान्य, 10 सीटें एससी और 29 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं.

2013  के नतीजे

2013 में विधानसभा चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को घोषित किए गए थे. इनमें भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में लगातार तीसरी बार कांग्रेस को मात देकर सरकार बनाई थी. रमन सिंह की अगुवाई में बीजेपी को 2013 में कुल 49 विधानसभा सीटों पर जीत मिली थी. जबकि कांग्रेस सिर्फ 39 सीटें ही जीत पाई थी. जबकि 2 सीटें अन्य के नाम गई थीं.

2008 के मुकाबले बीजेपी को तीन सीटें कम मिली थीं, इसके बावजूद उन्होंने पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बनाई. रमन सिंह 2003 से राज्य के मुख्यमंत्री हैं.        

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay