एडवांस्ड सर्च

नालंदा: इलाज के पैसों के लिए बच्चों को बेचने का फैसला करने वाली महिला की मौत

बीमारी से तंग होकर जीने को मजबूर रहने वाली सोनम देवी ने अपने बच्चे को बेचने की कोशिश की थी और बेचने के बाद मिलने वाली राशि से खुद का इलाज करने की बात कैमरे पर कही थी. बुधवार को उनकी मौत हो गई.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 23 August 2019
नालंदा: इलाज के पैसों के लिए बच्चों को बेचने का फैसला करने वाली महिला की मौत अस्पताल में भर्ती महिला (फाइल फोटो)

बिहार के नालंदा से दिल दहला देने वाली खबर आई है. यहां अपने इलाज के लिए खुद के बच्चों को बेचने का फैसला करने वाली सोनम देवी नाम की महिला असमय काल के गाल में समा गई. आखिरकार वो बिहार सरकार की लचर व्यवस्था की मार नहीं झेल सकी. सोनम टीबी जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रही थीं.

बता दें कि बीमारी से तंग होकर जीने को मजबूर रहने वाली सोनम देवी ने अपने बच्चे को बेचने की कोशिश की थी और बेचने के बाद मिलने वाली राशि से खुद का इलाज करने की बात कैमरे पर कही थी. इस बीच मीडिया के पहल के बाद सोनम का इलाज शुरू तो हुआ लेकिन सरकारी व्यवस्था भी ढाक के तीन पात साबित हुआ.

इस घटनाक्रम में नालंदा सांसद ने भी पहल की थी लेकिन यह पहल भी धरातल पर कोई रंग नहीं ला सकी. सोनम का इलाज एक सप्ताह भी नहीं चल सका और उनका निधन हो गया. सोनम की मौत के बाद सबसे बड़ा सवाल उसके दो मासूम बच्चे को लेकर है कि आखिर उनका लालन-पालन कैसे होगा. यह चिंता इसलिए भी है क्योंकि महिला का पति पहले ही उसे और बच्चों को छोड़ चुका था. वर्तमान में गरीबी के कारण बच्चे कुपोषण के शिकार हैं.

नालंदा के डीएम योगेन्द्र सिंह ने बताया, 'नालंदा में ट्यूबरकुलोसिस की बीमारी से जूझ रही महिला का बुधवार को निधन हो गया. पिछले सप्ताह महिला ने बीमारी और आर्थिक तंगी की वजह से अपने बच्चों को बेचने की कोशिश की थी. महिला को उचित मेडिकल सहायता मुहैया कराई गई थी, लेकिन हम उसे बचा नहीं सके.'

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक महिला जिस अस्पताल में भर्ती थी, उसके मैनेजर सुरजीत कुमार ने ही महिला को अस्पताल में भर्ती कराया था. उन्होंने बताया था कि महिला के बच्चे भी कुपोषण के शिकार हैं और उनका भी इलाज चल रहा है. मां के साथ उसकी बेटियों को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनका इलाज चल रहा है.

इस बीच सोनम की मौत न सिर्फ बिहार के सिस्टम पर सवाल खड़ा कर रहा है बल्कि बिहार में स्वास्थ्य सेवा के लिए सरकार द्वारा किए जाने वाले करोड़ों-अरबों के खर्च पर भी सवालिया निशान खड़ा कर रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay