एडवांस्ड सर्च

फर्जी लुटेरे डॉक्टरों और अस्पतालों को नहीं छोड़ेंगे: पप्पू यादव

पप्पू यादव ने हाल में ही दो गरीब मरीजों को बड़े अस्पातलों के बंधन से मुक्त कराया है. अस्पताल ने इन मरीजों को इलाज का पैसा नहीं देने की वजह से बंधक बनाकर रखा था.

Advertisement
सुजीत झा [Edited By: सुरभि गुप्ता]पटना, 12 December 2017
फर्जी लुटेरे डॉक्टरों और अस्पतालों को नहीं छोड़ेंगे: पप्पू यादव पप्पू यादव

हमेशा विवादों में रहने वाले सांसद पप्पू यादव ने डाक्टरों के खिलाफ एक बार फिर जंग का ऐलान कर दिया है. उनका कहना है कि डॉक्टर और बड़े-बड़े अस्पताल जिस तरीके से गरीबों को लूट रहे हैं, उस पर वो चुप नहीं बैठेंगे. पप्पू यादव ने कहा कि अगर डाक्टरों ने अपना रवैया नहीं बदला, तो ऐसे डाक्टरों के मुंह पर कालिख पोतने से परहेज नहीं करेंगे. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने इसका कड़ा विरोध किया है.

अस्पताल में बंधक बने दो मरीजों को छुड़ाया

पप्पू यादव ने हाल में ही दो गरीब मरीजों को बड़े अस्पातलों के बंधन से मुक्त कराया है. अस्पताल ने इन मरीजों को इलाज का पैसा नहीं देने की वजह से बंधक बनाकर रखा था. पप्पू यादव तक ये खबर पहुंची, तो वो दल-बल के साथ अस्पताल पहुंचे और मरीज को छुड़वाया. पप्पू यादव के इस रॉबिनहुड तरीके से लोग खुश हुए, लेकिन डॉक्टर नाराज हो गए.

नाराज है अस्पताल प्रबंधन

पप्पू यादव रविवार को पटना के शिवा अस्पताल में बंधक बने मरीज को छुड़ाने पहुंचे. अस्पाताल के प्रबंधकों का आरोप है कि उनके कार्यकर्ताओं ने जमकर तोड़-फोड़ की, जिसका सीसीटीवी फुटेज उपलब्ध है. इस घटना के बाद आईएमए ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री से सांसदों के ऐसे रवैये पर रोक की मांग की. अस्पताल प्रबंधकों ने मरीज के परिजन पर एफआईआर दर्ज कराया, लेकिन डर से पप्पू यादव पर मामला दर्ज नहीं कराया. आईएमए के अध्यक्ष डॉ सहजानंद ने भी सांसद के इस रवैये पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए सरकार से मांग की है की अगर ऐसा रवैया रहा तो बिहार से डॉक्टर पलायन करने लगेंगे.

'जनता के लिए लड़ना मेरा काम'

पप्पू यादव से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वक्त आ गया है कि फर्जी लुटेरे डॉक्टरों और अस्पतालों की जनठुकाई हो, साथ ही कालिख भी पोता जाए. मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव से जब यह पूछा गया कि वे शासन-प्रशासन का काम क्यों खुद करने लगे हैं, तो उन्होंने कहा कि व्यवस्था मर गई है, ऐसे में परेशान लोग मेरे पास आते हैं. मैं चुप कैसे रह सकता हूं. जनता का प्रतिनिधि हूं, जनता के लिए लड़ेंगे ही. उन्होंने कहा कि अस्पताल कई दूसरे तरीकों के गंदे धंधे में भी लगे हैं.

सांसद ने आगे कहा, 'मेरे लिए यह बस की बात नहीं कि कोई मेरे सामने मेरी बहन को छेड़े और मैं पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कर पुलिस के आने की प्रतीक्षा करता रहूं. कोई अस्मत लूटे, इसके पहले गुंडे को गोली मार दूंगा. इस गोली मारने के कारण IPC में अपराध बनता है तो बने, कोई फिक्र नहीं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay