एडवांस्ड सर्च

KBC के करोड़पति सुशील कुमार 'चंपा' से लौटा रहे हैं चंपारण की पहचान

केबीसी में पांच करोड़ रुपये जीतकर देश में अपना नाम रोशन करने वाले सुशील कुमार अब अपने गृह क्षेत्र चंपारण की पुरानी पहचान लौटाने में जुटे हैं. दरअसल सुशील आज चंपारण की खोई हुई पुरानी पहचान वापस दिलाने के लिए चंपा से चंपारण अभियान चला रहे हैं.

Advertisement
aajtak.inपटना, 14 August 2019
KBC के करोड़पति सुशील कुमार 'चंपा' से लौटा रहे हैं चंपारण की पहचान सुशील कुमार (फोटो- आईएएनएस)

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के टीवी शो 'कौन बनेगा करोड़पति' (केबीसी) में पांच करोड़ रुपये जीतकर देश में अपना नाम रोशन करने वाले सुशील कुमार अब अपने गृह क्षेत्र चंपारण की पुरानी पहचान लौटाने में जुटे हैं. दरअसल सुशील आज चंपारण की खोई हुई पुरानी पहचान वापस दिलाने के लिए 'चंपा से चंपारण' अभियान चला रहे हैं.

जिसके तहत वह चम्पारण के चप्पे चप्पे पर चंपा का पौधा लगाते हुए दिख रहे हैं. सुशील का दावा है कि उन्होंने अब तक 70 हजार चंपा के पौधे लगवाए दिए हैं.

सुशील का कहना है कि चंपारण का असली नाम 'चंपाकारण्य' है. इसकी पहचान यहां के चंपा के पेड़ से होती थी. लेकिन जैसे जैसे समय गुजरता गया, यहां से चंपा के पेड़ समाप्त होते चले गए. आज चंपारण में चंपा का एक भी पेड़ नहीं है.

70 हजार चंपा के पौधे लगाए

सुशील ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि यह अभियान वह पिछले एक साल से चला रहे हैं. उन्होंने कहा, 'मेरा यह अभियान विश्व पृथ्वी दिवस के मौके पर 22 अप्रैल, 2018 से शुरू हुआ था' इसके तहत अब तक 70 हजार चंपा के पौधे चंपाराण में लगाए जा चुके हैं.'

उन्होंने कहा कि शुरुआत में इस अभियान में कई परेशानियों का सामना करना पड़ा, लेकिन अब लोग खुद 'चंपा से चंपारण' अभियान से जुड़ रहे हैं. सुशील कहते हैं कि चंपारण जिले के गांव से लेकर शहर और कस्बों के घरों को इस अभियान से जोड़ा जा रहा है.

इस अभियान के तहत लोग घरों में पहुंचकर उस घर के लोगों से ही चंपा का पौधरोपण करवाते हैं. उन्होंने आगे बताया कि महीने में एक बार लगाए गए पौधे की गिनती की जाती है. गिनती की प्रक्रिया के दौरान अगर पौधा किसी वजह से सूखा या नष्ट पाया जाता है, तब फिर उस जगह पर एक और पौधा लगा दिया जाता है.

'करोड़पति' के रूप में अपने क्षेत्र में पहचान बना चुके सुशील की पहचान अब चंपा और पीपल वाले के रूप में हो गई है. वह कहते हैं कि ऐसा नहीं कि सिर्फ चंपा के ही पौधे लगाए जा रहे हैं. खुले स्थानों जैसे मंदिर, स्कूल परिसरों, पंचायत भवनों, और अस्पताल परिसरों में पीपल और बरगद के भी पौधे लगाए जा रहे हैं.

पीपल और बरगद के पौधे भी लगाए

उन्होंने कहा कि दो महीने में 156 पीपल और छह बरगद के पौधे लगाए गए हैं. इस कार्य में संबंधित ग्राम पंचायत के मुखिया, वार्ड पार्षदों की भी मदद ली जाती है. शुरुआत में उन्होंने अपने पैसे लगाकर चंपा के पौधे खरीदकर घर-घर जाकर लगवाए, लेकिन फिर बाद में सामाजिक लोग मदद के लिए सामने आए. उन्होंने बताया कि एक व्यक्ति ने तो 25 हजार चंपा के पौधे उपलब्ध करवाए.

सुशील पौधा लगाने की तस्वीर भी वे अपने फेसबुक वॉल पर डाल देते हैं. महात्मा गांधी ने चंपारण से ही सत्याग्रह की शुरुआत की थी. बाद में चंपारण क्षेत्र दो जिलों में बंट गया जो अब पूर्वी चंपाारण और पश्चिमी चंपारण के नाम से जाना जाता है. सुशील पूर्वी चंपारण के जिला मुख्यालय मोतीहारी में रहते हैं.

सुशील मोतिहारी के ही एक नर्सरी से पौधे लेते हैं. डॉ श्रीकृष्ण सिंह सेवा मंडल में नर्सरी चलाने वाले कृष्णकांत कहते हैं कि उन्होंने 10 हजार से अधिक चंपा के पौधे इस अवधि में बेचे हैं. कृष्णकांत बताते हैं कि मोतिहारी में तीन नर्सरियां हैं और तीनों से सुशील पौधे खरीदते हैं.

इस अभियान में सुशील का साथ देने वाले और वर्षों से पर्यावरण बचाने में लगे मोतिहारी के व्यवसायी आलोक दत्त कहते हैं, 'हमारा मकसद चंपारण को न केवल पुरानी पहचान दिलवाना है, बल्कि आने वाली पीढ़ी को यह बताना भी है कि इस क्षेत्र का चंपारण नाम क्यों पड़ा.' उन्होंने कहा कि आज पेड़ को बचाकर ही पर्यावरण को संतुलित किया जा सकता है और मानव जीवन को बचाया जा सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay