एडवांस्ड सर्च

गुजरात से उत्तर भारतीयों के पलायन के बीच पटना में हार्दिक पटेल का पोस्टर

गुजरात से बिहार समेत उत्तर भारत से बड़ी संख्या में लोगों के पलायन के बीच एक ओर राजनीति शुरू हो चुकी है. और अब इस फेहरिस्त में हार्दिक पटेल भी शामिल हो गए हैं और बिहार की राजधानी पटना में उनके पोस्टर्स लगे हुए हैं.

Advertisement
aajtak.in
सुजीत झा/ सुरेंद्र कुमार वर्मा पटना, 10 October 2018
गुजरात से उत्तर भारतीयों के पलायन के बीच पटना में हार्दिक पटेल का पोस्टर पटना में हार्दिक पटेल के पोस्टर (फोटो-सुजीत झा)

गुजरात में रेप की एक घटना के बाद वहां रह रहे बिहार और यूपी के लोगों के साथ मारपीट कर उन्हें वहां से जाने का दबाव बनाया गया जिस कारण बड़ी संख्या में लोगों को आनन-फानन में गुजरात छोड़ना पड़ा. तनावपूर्ण माहौल के बीच पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के उत्तर भारतीयों की सुरक्षा का वादा करने वाले पोस्टर्स पटना की सड़कों पर दिखने लगे हैं.

पाटीदार आंदोलन से अपनी पहचान बनाने वाले हार्दिक पटेल अब इस मुद्दे को अपने पक्ष में भुनाने में लग गए हैं और इस मामले को उठाकर अपनी अलग छवि बनाने में जुट गए हैं.

हार्दिक पटेल गुजरात में हमला करने वाले स्थानीय लोगों के उलट उत्तर भारतीयों का गुजरात में समर्थन करते दिख रहे हैं. उन्होंने समर्थन में बिहार में कई जगहों पर पोस्टर लगाए हैं. हार्दिक पटेल पोस्टर के जरिए यह कहते दिख रहे हैं कि अगर कोई उत्तर भारतीयों को धमकी देता है तो वो सीधे उन्हें हेल्पलाइन नंबर पर फोन करे. पटना के कई सड़कों पर यह पोस्टर देखा जा सकता है.

गुजरात में हो रही हिंसा के मुद्दे को लेकर बिहार में लगातार सियासत हो रही है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस मामले को लेकर गुजरात के सीएम विजय रुपाणी से बात कर चुके हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आश्वासन दिया है कि इस लगातार हालत पर नजर रखी जा रही है और हर संभव बातचीत की जा रही है.

पोस्टर में लिखा गया है कि कुछ असामाजिक तत्व गुजरात में मेरे उत्तर भारतीय परिवार के साथ मारपीट करने की धमकी देते हैं तो तुरंत हमारे हेल्पलाइन नंबर पर फोन करें. यह हिंदुस्तान संविधान से चलता है किसी की मनमानी से नहीं. मेरे देश का संविधान सभी हिंदुस्तानी को किसी भी प्रदेश में रहने का अधिकार देता हैं. अतिथि देवो भव:.

हार्दिक ने पटना में पोस्टर तो लगावा दिए हैं, लेकिन उनके साथी रहे कांग्रेस के विधायक और बिहार कांग्रेस के सहप्रभारी अल्पेश ठाकोर को लेकर यहां बेहद नाराजगी है. गुजरात में अल्पेश के भड़काऊ बयान को लेकर कांग्रेस बचाव की मुद्रा में दिख रही है लेकिन यह बात समझ में नहीं आई कि पटना के सड़कों पर इस तरह के पोस्टर्स लगाने का क्या औचित्य है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay