एडवांस्ड सर्च

राजनाथ बोले, संविधान का नासूर था 370, जिगर के टुकड़े कश्मीर को लहूलुहान कर दिया

रक्षा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस जैसी पुरानी पार्टी ने आज तक केंद्र सरकार के इस फैसले का स्वागत तक नहीं किया, आज भी कांग्रेस सरकार के इस फैसले पर सवालिया निशान उठाती है.

Advertisement
aajtak.in
सुजीत झा पटना, 22 September 2019
 राजनाथ बोले, संविधान का नासूर था 370, जिगर के टुकड़े कश्मीर को लहूलुहान कर दिया रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (फोटो-IANS)

  • राजनाथ सिंह ने कहा कि अब देखते हैं कि पाकिस्तान में कितनी हिम्मत है
  • रक्षा मंत्री ने कहा, जो भारत की सीमा पर आएगा वो वापस लौटकर नहीं जाएगा

पटना की जनजागरण रैली में रविवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अनुच्छेद-370 संविधान का नासूर था, जिसने हमारे जिगर के टुकड़े कश्मीर को लहूलुहान कर दिया था. अब बीजेपी ने इसे खत्म कर दिया है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि 5 साल के बाद जम्मू-कश्मीर बदला-बदला और स्वर्ग जैसा नजर आएगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जैसी पुरानी पार्टी ने आज तक केंद्र सरकार के इस फैसले का स्वागत तक नहीं किया, आज भी कांग्रेस सरकार के इस फैसले पर सवालिया निशान उठाती है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अब देखते हैं कि पाकिस्तान में कितनी हिम्मत है, पाकिस्तान कितने आतंकी पैदा करता है. उन्होंने कहा कि जो भारत की सीमा पर आएगा वो वापस लौटकर पाकिस्तान नहीं जाएगा. राजनाथ सिंह ने कहा, हर कोई सपने देखता है. लोग कहते हैं कि वे सपने देखते हैं लेकिन यह वास्तविकता नहीं है. हमारे पीएम नरेंद्र मोदी ने इसे पूरा किया और दिखाया कि हम भी सपने देखते हैं . हम आंखें खोलकर देखते हैं. इसलिए हमारा सपना हकीकत बन गया.

उन्होंने कहा, कश्मीर में आतंकवाद को जन्म देने का सबसे बड़ा कारण धारा 370 और अनुच्छेद 35A है. इस आतंकवाद ने कश्मीर का खून कर दिया. आइए देखते हैं कि पाकिस्तान में कितनी हिम्मत है. यह कितने आतंकवादी पैदा करेगा? रक्षा मंत्री ने कहा, आप देख सकते हैं कि वे पहले ही हतोत्साहित हो रहे हैं. पाक प्रधानमंत्री PoK में आते हैं और कहते हैं कि 'देशवासी भारत-पाक सीमा पर नहीं जाते'. मैंने कहा कि यह अच्छा है क्योंकि अगर वे ऐसा करते हैं, तो वे पाकिस्तान वापस नहीं जा पाएंगे. उन्हें 1965 और 1971 को दोहराने की गलती नहीं करनी चाहिए.

राजनाथ सिंह ने कहा, यदि वे (पाक) इस गलती को दोहराते हैं, तो उन्हें सोचना चाहिए कि पाक अधिकृत कश्मीर का क्या होगा... वहां मानवाधिकारों का उल्लंघन बलूच और पश्तूनों के खिलाफ किए जाते हैं. यदि यह जारी रहा, तो कोई भी शक्ति पाक को टुकड़ों में विभाजित होने से नहीं बचा पाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay