एडवांस्ड सर्च

सूरत से बिहार पहुंचा मजदूर जितेंद्र, कहा- नमक रोटी खाएंगे लेकिन शहर नहीं जाएंगे

सूरत में मजदूरी करने वाले जितेंद्र यादव और उनके भाई का लॉकडाउन के बाद रोजगार खत्म हो गया और रोटी मिलनी बंद हो गई. मजबूरी उन्हें वापस गांव की ओर ले आई.

Advertisement
aajtak.in
आशुतोष मिश्रा गया, 24 May 2020
सूरत से बिहार पहुंचा मजदूर जितेंद्र, कहा- नमक रोटी खाएंगे लेकिन शहर नहीं जाएंगे जितेंद्र यादव

  • कोरोना संकट के कारण देश में लॉकडाउन
  • लॉकडाउन के कारण मजदूरों का पलायन

देश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. कोरोना संकट के बीच देश में लॉकडाउन लागू है. वहीं लॉकडाउन का सबसे ज्यादा असर मजदूर और गरीब वर्ग के लोगों पर देखने को मिला है. इस बीच गांव लौटे कई मजदूरों का कहना है कि वो वापस अब शहर नहीं जाना चाहते हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

लॉकडाउन के कारण देश में मजदूरों का पलायन जारी है. वहीं पलायन के बाद अपने गांव पहुंचे मजदूर भी पहले अपने घर नहीं जा पा रहे हैं. उन्हें घर जाने से पहले क्वारनटीन किया जा रहा है. गुजरात के सूरत से ट्रक में बैठकर बिहार पहुंचे एक मजदूर जितेंद्र यादव भी अब शहर वापस नहीं जाने की ठान चुके हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

सूरत में मजदूरी करने वाले जितेंद्र यादव और उनके भाई का लॉकडाउन के बाद रोजगार खत्म हो गया और रोटी मिलनी बंद हो गई. मजबूरी उन्हें वापस गांव की ओर ले आई. सामान के नाम पर कुछ बचा नहीं है, कुछ लेकर लौटे हैं तो वह है बेबसी और आंख में आंसू. जितेंद्र का बिहार के गया शहर से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर कोठमथू गांव है. वहीं अब जितेंद्र ने दो टूक कह दिया कि भूखे मर जाएंगे लेकिन शहर नहीं जाएंगे.

जितेंद्र ने बताया कि रास्ते का सफर भी मुश्किल था. दो महीना सूरत में जिंदा रहने के लिए गांव से 12000 रुपये मंगवाए और कसम खाई है कि अब नमक रोटी खाएंगे लेकिन सूरत नहीं जाएंगे. हालांकि गांव पहुंचने के बाद भी इनके लिए घर अभी दूर है.

क्वारनटीन रहना होगा

कोरोना वायरस के संक्रमण और उसके खतरे का डर इतना है कि गांव वाले भी सचेत हैं. गांव के लोग बाहर से आने वाले किसी को भी सीधे गांव में नहीं आने देते हैं. गांव की सरहद पर ही ग्रामीणों ने जितेंद्र यादव को रोक लिया. गांव के लोगों ने बताया कि पहले इन दोनों भाइयों को क्वारनटीन रहना होगा. 14 दिन के लिए वहां सोने और खाने-पानी की भी व्यवस्था की जाएगी.

अपनों से दूर रहने का दर्द गांव वाले समझते हैं. इसीलिए स्कूल क्वारनटीन में भेजने से पहले जितेंद्र यादव के परिवार को बुला लिया गया. वो लम्हा भी बेहद भावुक था, जब जितेंद्र के पिता, उसकी मां, दोनों बहने और बच्चे जितेंद्र को देखकर भावुक हो उठे. कठिन सफर तय करके अपने गांव पहुंचे जितेंद्र ने मां-बाप के पैर भी नहीं छुए बल्कि उन्हें दूर रहने को कहा क्योंकि उसे पता है खतरा कितना बड़ा है. मां-बाप ने अपनी खुशी का इजहार किया. लेकिन भारी मन से दोनों को अगले 14 दिन के लिए गांव के बाहर मौजूद स्कूल में क्वारनटीन के लिए विदा किया.

मजदूरों की एक राय

वहीं जिस स्कूल में बाहर से आने वाले मजदूरों को रखा गया है, वहां पहले से कई ऐसे प्रवासी मजदूर मौजूद हैं जो दिल्ली, हरियाणा, बंगाल जैसे राज्यों से आए हैं और 14 दिन के लिए क्वारनटीन में रह रहे हैं. अपना अनुभव साझा करते हुए मजदूरों ने कहा कि ये दिन कभी नहीं भूलेंगे. साथ ही सबकी एक राय है कि यहीं कुछ काम-धंधा मिल जाए तो दोबारा शहर नहीं जाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay