एडवांस्ड सर्च

अनुच्छेद 35-ए को हटाने के पक्ष में नहीं बीजेपी की सहयोगी जेडीयू

अनुच्छेद 35 ए पर छिड़ी बहस को लेकर खास बातचीत में जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि अनुच्छेद किसी भी कीमत पर नहीं हटाना जाना चाहिए.

Advertisement
aajtak.in
राहुल झारिया/ अशोक सिंघल नई दिल्ली, 27 August 2018
अनुच्छेद 35-ए को हटाने के पक्ष में नहीं बीजेपी की सहयोगी जेडीयू जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी(फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 35-ए हटाने को लेकर छिड़ी बहस के बीच बीजेपी की सहयोगी पार्टी जेडीयू ने साफ किया है कि वे इस अनुच्छेद को हटाए जाने के पक्ष में नहीं हैं. 

जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी का मामले पर कहना है, 'अनुच्छेद के साथ कोई भी छेड़छाड़ ठीक नहीं है. जब भारत में कश्मीर का विलय हुआ था तो एक विशेष प्रावधान के तहत आर्टिकल 370 को हम सभी ने स्वीकारा था. संविधान सभा ने स्वीकार किया था कि आर्टिकल 35ए उसकी आत्मा है. इसलिए अगर 35-ए अलग होता है तो 370 मृतप्राय हो जाता है. हम आर्टिकल 370 और 35-ए को बनाए रखे जाने के पक्ष में हैं.'

त्यागी के मुताबिक, 'एनडीए का अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में यही स्टैंड था, जो मैंने दोहराया है कि आर्टिकल 370 को नहीं छूएंगे. मूल आत्मा महात्मा अटल जी की अभी भी इसमेँ शामिल है. हम तो लगातार अपना विरोध जताते रहे हैं कि आर्टिकल 37 खत्म नहीं होना चाहिए और 35-ए को भी जस-का-तस रखना चाहिए.'

पार्टी प्रवक्ता ने कहा, 'संविधान सभा में यह बहस बंद हो चुकी थी. कश्मीर के महाराजा भारत में कश्मीर का विलय तभी कराने को तैयार हुए थे, जिसमें आर्टिकल 370 को प्रावधान था. आप इतिहास की धारा को पलटना क्यों चाहते हैं?'

आज के समय में बीजेपी में एक और वाजपेयी की जरूरत पर बल देते हुए केसी त्यागी का कहना है, 'वाजपेयी के कार्यकाल के दौरान एनडीए में कम-से-कम तीन दर्जन दल थे. वहीं आज अकाली दल का मन खराब है, शिवसेना कमोबेश बाहर है, पीडीपी बाहर जा चुकी है, ममता आगबबूला है, बसपा बदला लेने की फिराक में है. अनुच्छेद को खत्म किए जाने को लेकर पीडीपी अपना विरोध दर्ज करवा चुकी है. संसद में भी बहस बंद है. इसके लिए कांग्रेस भी जिम्मेदार है.'

आगे उन्होंने कहा, 'वाजपेयी के नेतृत्व में सभी दल इकट्ठा थे. उनकी अगुवाई में सभी निर्विवाद तरीके से रहते थे. कोई वैचारिक सवाल भी नहीं होता था. आर्टिकल 370 का सवाल भी पैदा नहीं होता था.'

त्यागी के मुताबिक, 'वाजपेयी जैसा कोई नहीं हो सकता. उनके बारे में बीजेपी नेता और हम भी एक राय हैं. वाजपेयी जैसी दूरदर्शिता, सबको साथ लेकर चलने का मन, अपने विचार दूसरे पर न थोपना. उनके जैसा कोई नहीं है. और वे

अपने विरोधियों को भी सम्मान देते थे. आज अपने विचारों की आक्रमकता को नए और कृत्रिम तरीके से गढ़ने का कुछ लोगों को शौक लगा है. अटल जी इन सब चीजों से दूर थे. मेरा निशाना न मोदी पर है न अमित शाह पर है. मैं सिर्फ अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ कर रहा हूं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay