एडवांस्ड सर्च

पादुकोण पर भड़के पुलेला गोपीचंद, बोले- साइना को मेरी एकेडमी छोड़ने को उकसाया था

पुलेला गोपीचंद हालांकि अपनी भावनाएं नहीं दिखाते, लेकिन कोच ने उस दर्द को साझा किया जो उन्हें साइना नेहवाल के उनकी एकेडमी छोड़कर प्रकाश पादुकोण की अकादमी में जाने के बाद हुआ था.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 12 January 2020
पादुकोण पर भड़के पुलेला गोपीचंद, बोले- साइना को मेरी एकेडमी छोड़ने को उकसाया था पुलेला गोपीचंद-साइना (फाइल)

  • ड्रीम्स ऑफ ए बिलियन: इंडिया एंड द ओलंपिक गेम्स
  • पुलेला गोपीचंद ने अपनी किताब में साझा किया 'दर्द'

पुलेला गोपीचंद हालांकि अपनी भावनाएं नहीं दिखाते, लेकिन कोच ने उस दर्द को साझा किया जो उन्हें साइना नेहवाल के उनकी एकेडमी छोड़कर प्रकाश पादुकोण की अकादमी में जाने के बाद हुआ था और अब तक उन्हें यह बात परेशान करती है. गोपीचंद ने अपनी किताब ‘ड्रीम्स ऑफ ए बिलियन : इंडिया एंड द ओलंपिक गेम्स’ में इस बात का जिक्र किया है और इसमें उन्होंने लिखा कि वह इस बात से भी हैरान थे कि महान खिलाड़ी और भारत के पहले बैडमिंटन सुपरस्टार पादुकोण ने कभी भी उनके बारे में कोई भी सकारात्मक बात नहीं की है.

पूर्व ऑल इंग्लैंड चैम्पियन और राष्ट्रीय मुख्य कोच गोपीचंद ने इसमें मुश्किल समय का भी जिक्र किया. गोपीचंद की किताब के ‘बिटर राइवलरी’ टाइटल के पन्ने में उन्होंने खुलासा किया कि जब साइना ने 2014 विश्व चैम्पियनशिप के बाद बेंगलुरू में पादुकोण की एकेडमी से जुड़ने और विमल कुमार के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग करने का फैसला किया था, तो वह कितने दुखी हुए थे. साइना के पति और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदकधारी पारूपल्ली कश्यप ने भी इसकी पुष्टि की है. किताब में उनके सह लेखक खेल इतिहासकार बोरिया मजूमदार और सीनियर पत्रकार नलिन मेहता हैं.

इसमें गोपीचंद ने खुलासा किया, ‘यह कुछ इस तरह का था कि मेरे किसी करीबी को मुझसे दूर कर दिया गया हो. पहले मैंने साइना से नहीं जाने की मिन्नत की. लेकिन तब तक वह किसी अन्य के प्रभाव में आ चुकी थी और अपना मन बना चुकी थी. जबकि मैं उसे रोककर उसकी प्रगति नहीं रोकना चाहता था, मैं जानता था कि यह हमारे में से किसी के लिए भी फायदेमंद नहीं होता.’

तब ऐसी बातें चल रही थीं कि साइना को लगता था कि गोपीचंद ज्यादा ध्यान पीवी सिंधु पर लगा रहे थे. गोपीचंद ने कहा, ‘हां, मेरे पास देखरेख के लिए अन्य खिलाड़ी भी थे और सिंधु ने 2012 और 2014 के बीच दो वर्षों में काफी प्रगति की थी. लेकिन मेरी इच्छा कभी भी साइना की अनदेखी करने की नहीं थी. शायद यह बात मैं उसे समझा नहीं सका.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay