एडवांस्ड सर्च

बैटिंग ऑर्डर को लेकर भड़के लिटिल मास्टर, धोनी पर खड़े किए सवाल

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर का मानना है कि सेमीफाइनल मुकाबले में शुरुआती 3 विकेट झटकों के बाद महेंद्र सिंह धोनी को बल्लेबाजी के लिए ऊपर आना चाहिए था.

Advertisement
aajtak.in
टीके श्रीवास्तव नई दिल्ली, 12 July 2019
बैटिंग ऑर्डर को लेकर भड़के लिटिल मास्टर, धोनी पर खड़े किए सवाल फोटो-ICC

आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली शिकस्त के बाद महेंद्र सिंह धोनी के बैटिंग ऑर्डर को लेकर सवाल उठने लगा है. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर का मानना है कि सेमीफाइनल मुकाबले में जब भारत ने अपने शुरुआती 3 विकेट सस्ते में गंवा दिए थे, तब महेंद्र सिंह धोनी को बल्लेबाजी के लिए ऊपर आना चाहिए था.

गावस्कर वर्ल्ड कप के पहले से भारतीय टीम प्रबंधन की नीतियों के आलोचक रहे हैं. गावस्कर ने हमेशा भारतीय बल्लेबाजी क्रम में बदलाव की वकालत की है, जो हालात के अनुरूप होना चाहिए, लेकिन न्यूजीलैंड के हाथों मिली 18 रनों की हार वाले मैच में जो हुआ, उससे वह काफी खफा हैं.

आईएएनएस के मुताबिक, गावस्कर ने कहा कि जब भारत ने अपने 3 टॉप बल्लेबाजों के विकेट सस्ते में गंवा दिए थे, तब हार्दिक पंड्या और ऋषभ पंत बल्लेबाजी कर रहे थे. दोनों मिजाज के लिहाज से एक जैसे बल्लेबाज हैं. उनकी जगह एक छोर पर धोनी को होना चाहिए था, जो पंत को संयमित रहने की सलाह दे सकते थे. आखिरकार पंत एक खराब शॉट खेलकर आउट हुए, जो भारत के लिए बाद में काफी महंगा साबित हुआ.

गावस्कर ने कहा, 'जब हमने 24 रन पर 4 विकेट गंवा दिए थे, तब पंत और पंड्या विकेट पर थे. दोनों एक ही मिजाज के खिलाड़ी हैं, दोनों आक्रामक हैं. वहां तो धोनी जैसा अनुभवी और संयमित बल्लेबाज एक छोर पर होना चाहिए था, जो इनमें से किसी एक को संयमित रहकर खेलने की सलाह देता. आखिरकार दोनों बल्लेबाज गैरजिम्मेदाराना तरीके से आउट हुए और यही भारत को भारी पड़ गया."

गावस्कर के मुताबिक, धोनी अपने साथियों की मनोदशा को समझते हैं और यही कारण था कि वह पंत या फिर पंड्या को सही तरीके से समझाकर विकेट पर बने रहने के लिए प्रेरित कर सकते थे. बकौल गावस्कर, 'धोनी अगर विकेट पर होते तो वह पंत को समझा सकते थे, जो काफी उतावले नजर आ रहे थे. कप्तान ने अहम मुकाम पर दो ऐसे खिलाड़ियों को भेज दिया, जिनके खेलने का तरीका 'मारो बस मारो' है. उस वक्त गेंद काफी अनियमित खेल रही थी और ऐसे में विकेट पर बने रहते हुए हालात के हिसाब से खेलने की जरूरत थी. ऐसे में तो आपको ऐसे किसी व्यक्ति की जरूरत थी, जो विकेट पर ठहर कर खेल सकता था.'

हालात के विपरीय विराट कोहली ने उस मैच में धोनी को नंबर-7 पर बल्लेबाजी के लिए भेजा था. पूरे टूर्नामेंट में धोनी इतना 'नीचे' नहीं खेले थे. इसे लेकर कोहली का अपना अलग मत था. कोहली ने मैच के बाद कहा था, 'धोनी ने हालात के हिसाब से अपनी भूमिका के साथ न्याय किया. हमने उन्हें इसीलिए विकेट पर काफी देरी से भेजा था. हम चाहते थे कि वह अंत तक विकेट पर रहें और जब 6 या 7 ओवर रह जाएं तो हालात के हिसाब से बल्लेबाजी करें. हमारी रणनीति फ्लॉप रही क्योंकि वह रन आउट हो गए.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Poll
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 का व‍िजेता कौन होगा?

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay