एडवांस्ड सर्च

Advertisement

हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'

aajtak.in
11 November 2019
हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
1/6
तेज गेंदबाज दीपक चाहर की हैट्रिक सहित छह विकेट के दम पर भारत ने बांग्लादेश को तीसरे और निर्णायक टी-20 इंटरनेशनल मैच में हराकर सीरीज पर 2-1 से कब्जा किया. 'मैन ऑफ द मैच' और 'मैन ऑफ द सीरीज' चुने गए चाहर ने इस मैच में सात रन देकर छह विकेट लिए. इसी के साथ वह टी-20 अंतरराष्ट्रीय में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले गेंदबाज बन गए. चाहर ने मैच में 3.2 ओवर किए और आखिरी ओवर में अपनी हैट्रिक भी पूरी की.
हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
2/6
मैच के बाद टीम इंडिया के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने दीपक चाहर और श्रेयस अय्यर से बातचीत की. इस दौरान युजवेंद्र चहल ने स्टार परफॉर्मर दीपक चाहर को बेशर्म आदमी कहा जिसने हर किसी को हैरान कर दिया.

 

हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
3/6
दरअसल, युजवेंद्र चहल ने दीपक चाहर और श्रेयस अय्यर का 'चहल टीवी' पर इंटरव्यू लिया. चहल ने इस इंटरव्यू में दीपक चाहर से मजाक करते हुए कहा, बॉलिंग में इन्होंने मेरा ही रिकॉर्ड तोड़ दिया, अब क्या कहें बड़े बेशर्म आदमी हो यार तुम.
हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
4/6
बता दें कि दीपक चाहर के नागपुर में इस प्रदर्शन से पहले टी-20 इंटरनेशनल में भारत की ओर से बेस्ट बॉलिंग फिगर का रिकॉर्ड युजवेंद्र चहल के नाम पर था. चहल ने साल 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ 25 रन देकर छह विकेट हासिल किए थे. चाहर ने चहल के इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया.

 

हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
5/6
दीपक चाहर ने अपने शानदार प्रदर्शन के बारे में बात करते हुए कहा, 'अच्छा महसूस हो रहा है. आप घर पर बैठकर भी ये नहीं सोच सकते कि आप टी-20 इंटरनेशनल में 7 रन देकर 6 विकेट ले सकते हो. सोचा था कि मैं 5 विकेट ले पाऊंगा लेकिन 25 रन देकर.'
हैट्रिक लेने वाले दीपक चाहर को चहल ने कहा- 'बेशर्म आदमी'
6/6
इसके बाद युजवेंद्र चहल ने चाहर से पूछा कि उनके दूसरे स्पेल में ओस थी तो उनके लिए गेंदबाजी करना कितना मुश्किल था? इस पर चाहर ने जवाब दिया, 'मुझे पता था कि मैदान के दोनों तरफ की बाउंड्री बड़ी हैं और मैंने सोचा था कि गेंद की तेजी में बदलाव करता रहूंगा. गेंद थोड़ी गीली थी और उसपर काबू पाना मुश्किल था, लेकिन चेन्नई में खेल-खेलकर आदत हो गई थी. चेन्नई में ओस भी रहती है और पसीना भी काफी आता है. इससे मुझे पता चल गया था कि कैसे हाथ साफ करने हैं और गेंद पर कैसे काबू करना है. मुझे चेन्नई में खेलकर फायदा मिला.'


(सभी तस्वीरें BCCI से)
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay