एडवांस्ड सर्च

FIFA World Cup: प्री-क्वार्टर फाइनल में मेजबान रूस के सामने स्पेनिश चुनौती

मेजबान टीम प्री-क्वार्टर फाइनल में 2010 की विजेता और खिताब की सबसे प्रबल दावेदार मानी जा रही स्पेन से टकराएगी.

Advertisement
aajtak.in
तरुण वर्मा लुज्निाकी (रूस), 01 July 2018
FIFA World Cup: प्री-क्वार्टर फाइनल में मेजबान रूस के सामने स्पेनिश चुनौती Spain vs Russia

मेजबान रूस ने अभी तक फीफा वर्ल्ड कप के 21वें संस्करण में बेहतरीन प्रदर्शन कर सभी को चौंकाते हुए पहली बार अंतिम-16 में जगह बनाई है, लेकिन उसके लिए अब चीजें उस तरह से आसान नहीं होने वाली है, जिस तरह से ग्रुप दौर में थीं.

रूस को अब अपनी अभी तक की सबसे बड़ी चुनौती का सामना करना है. मेजबान टीम प्री-क्वार्टर फाइनल में लुज्निाकी स्टेडियम में 2010 की विजेता और खिताब की सबसे प्रबल दावेदार मानी जा रही स्पेन से टकराएगी.

रूस ने पहले मैच में सऊदी अरब को 5-0 से मात दी थी. उसके बाद मिस्र को भी हराया था. उसे हालांकि अपने आखिरी ग्रुप मैच में उरुग्वे के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था.

इस हार से उसे सबक तो मिला होगा और अपनी गलतियों में सुधार कर वह स्पेन के सामने उतरना चाहेगी. हार से हो सकता है रूस के मनोबल पर थोड़ा असर पड़ा हो क्योंकि उरुग्वे बड़ी टीम है और उसके सामने बिखर जाना टीम की असल स्थिति को बयां करता है.

लेकिन उस हार से उबरने के लिए उसके पास पहली बार प्री-क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने से मिला आत्मविश्वास है और यह स्पेन के लिए खतरनाक साबित भी हो सकता है.

इस वर्ल्ड कप में अभी तक रूस की ताकत आक्रमण पंक्ति रही है जिसने दनादन गोल बरसाएं हैं. स्पेन के सामने यह आक्रमण पंक्ति कितनी कारगर साबित होगी यह देखना दिलचस्प होगा.

रूस का अटैक उसके स्टार स्ट्राइकर डेनिस चेरिशेव पर निर्भर है जो इस वर्ल्ड कप में अभी तक तीन गोल कर चुके हैं जबकि एक में उन्होंने असिस्ट किया है.

रूस के सामने कार्वहल, पिके जैसे डिफेंडर हैं जिन्हें भेद पाना आसान नहीं होगा. वहीं रूस के डिफेंस को भी चौकन्ना रहने की जरूरत है. उरुग्वे के अटैक ने उसे कमजोर साबित किया था और स्पेन का अटैक उरुग्वे से बेहतर है.

रूस का अटैक में डिएगो कोस्टा, सिल्वा, लुकास जैसे नाम शामिल हैं. वहीं मिडफील्डर आंद्रे इनिएस्ता और सिल्वा भी रूस के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं.

रूस के लिए यह मैच किसी चुनौती से कम नहीं है क्योंकि इस मैच में उसके डिफेंस और अटैक दोनों की कड़ी परिक्षा है. यहां एक गलती उसके वर्ल्ड कप अभियान को खत्म कर सकती है.

स्पेन भी रूस के हल्के में नहीं ले सकता. बीते मैचों में जीत से रूस के पास आत्मविश्वास है और ऐसे में फुटहबाल जैसे खेल में कोई भी टीम खतरनाक साबित हो सकती है.

टीमें:

स्पेन:

गोलकीपर: डेविड डि गिया, पेपे रियना, केपा अरीर्जाब्लागा.

डिफेंडर: जॉर्डी आल्बा, नाचो मोनरियल, अल्वारो ऑडरियोजोला, नाचो फर्नाडीज, दानी कार्वाहाल, जेरार्ड पिके, सर्जियो रामोस, सेजार अजपिलिकुएटा.

मिडफील्डर: सर्जियो बुस्क्वेट्स, इस्को, थियागो अल्कांत्रा, डेविड सिल्वा, आंद्रेस इनिएस्ता, साउल निगुएज, कोके.

फॉरवर्ड: मार्को असेंसियो, इयागो, डिएगो कोस्टा, रोर्डिगो मोरेनो, लुकस वाजक्वेज.

रूस:

गोलकीपर: इगोर एकिन्फीव, व्लादिमीर गैबुलोव, एंड्री ल्यूनेव.

डिफेंडर: व्लादिमीर ग्रेनाट, रुस्लान कंबोलोव, फेडर कुद्रीशोव, इल्या कुटेपोव, आंद्रे सेम्योनोव, इगोर स्मोलनिकोव, मारियो फनार्डेज.

मिडफील्डर: युरी गाजिंस्की, एलेक्जेंडर गोलोविन, एलन ड्झागोव, युरी झिर्कोव, रोमन जोबिन, डालेर कुज्येव, एंटोन मिरंचुक, एलेक्जेंडर सामेडोव, एलेक्जेंडर ताश, डेनिस चेरीशेव.

फॉरवर्ड: अर्टयोम डज्युबा, एलेक्सी मिरांचुक, फेडर स्मोलोव.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay