एडवांस्ड सर्च

16 साल पहले वीरू के तूफान में उड़ा था पाकिस्तान, मुल्तान में रचा था इतिहास

सहवाग ने यह धमाकेदार पारी पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में खेली थी. तभी से यह नजफगढ़ का नवाब फैंस के बीच मुल्तान का सुल्तान नाम से मशहूर हो गया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 29 March 2020
16 साल पहले वीरू के तूफान में उड़ा था पाकिस्तान, मुल्तान में रचा था इतिहास Virender Sehwag

टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग चाहे पहली गेंद का सामना कर रहे हों या फिर किसी विकट परिस्थिति में हों. चाहे पारी का पहला छक्का जड़ना हो या फिर छक्के से तिहरा शतक पूरा कर रहे हों. वे हमेशा एक जैसे भाव में ही दिखते हैं. किसी तमगे को हासिल करने पर न बहुत ज्यादा खुश और उसे हासिल न कर पाने की स्थिति में न ही उदास. यही बात तो उन्हें चैम्पियन बनाती हैं.

29 मार्च का दिन भारतीय क्रिकेट के लिए यादगार है. आज ही 16 साल पहले 2004 को विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भारत की ओर से पहला तिहरा शतक जड़ा था. सहवाग ने यह धमाकेदार पारी पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में खेली थी. तभी से यह 'नजफगढ़ का नवाब' फैंस के बीच 'मुल्तान का सुल्तान' नाम से मशहूर हो गया.

वीरू का धमाकेदार तिहरा शतक

सहवाग ने 375 गेंदों पर 309 रन की पारी खेली. अपनी इस पारी में उन्होंने 39 चौके और 6 छक्के जड़े. उनका स्ट्राइक रेट वनडे क्रिकेट की तरह 82 से ऊपर का रहा. टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इस टेस्ट मैच की पहली पारी में 5 विकेट गंवाकर 675 रनों पर पारी घोषित की. इसके जवाब में पाकिस्तान की पहली पारी 407 और फॉलोऑन के बाद दूसरी पारी 216 रन पर ही सिमट गई. इस मैच पर भारत ने एक पारी और 52 रनों से जीता था.

सहवाग ने अपनी पारी में पाकिस्तानी गेंदबाज सकलैन मुश्ताक की सबसे ज्यादा पिटाई की थी. भारतीय बल्लेबाजों ने मुश्ताक के 43 ओवरों में 204 रन बंटोरे थे, इसके अलावा शब्बीर अहमद के 31 ओवरों में 122 रन बने थे. मैच में तेज गेंदबाज मोहम्मद सामी को 2 विकेट, सकलैन और इमरान फरहत को 1-1 विकेट मिला था.

ये भी पढ़ें: रवि शास्त्री ने माना- भारतीय क्रिकेट के ‘बॉस’ हैं कोहली, गिनाईं खूबियां

..और हो गया विवाद

इस मैच में टीम की कप्तानी राहुल द्रविड़ कर रहे थे. सचिन तेंदुलकर ने यहां शानदार पारी खेलते हुए नाबाद 194 रन बनाए लेकिन द्रविड़ ने सचिन को 6 रन और बनाकर दोहरा शतक पूरा करने का मौका नहीं दिया. बोर्ड पर 675 रन लगते ही द्रविड़ ने पारी घोषित कर दी जबकि सचिन मैदान पर खेल रहे थे. इस फैसले की उन दिनों काफी आलोचना हुई थी और माना गया द्रविड़ नहीं चाहते थे कि सचिन दोहरा शतक पूरा करें.

सहवाग का रिकॉर्ड

आपको बता दें कि वीरेंद्र सहवाग ने 104 टेस्ट में 49.34 के औसत से 8586 रन बनाए जिसमें 23 शतक और 32 अर्धशतक शामिल रहे. उनका बेस्ट स्कोर 319 रहा है. वीरू ने 251 वनडे में 8273 रन बनाए जिसमें 15 शतक और 38 अर्धशतक शामिल है. इस फॉर्मेट में वीरू का बेस्ट स्कोर 219 है. इसके अलावा 19 टी-20 मैचों में वीरू ने 394 रन बनाए, जिसमें 68 रन उनका सर्वाधिक स्कोर रहा. सहवाग साल 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay