एडवांस्ड सर्च

IPL-12: 7वीं हार के बाद भी बची हैं RCB की उम्मीदें, ऐसे पहुंच सकती है प्लेऑफ में

कोहली की टीम के लिए प्लेऑफ की उम्मीद अभी भी बरकरार है. प्वाइंट टेबल में 2 अंक के साथ सबसे नीचे पड़ी  RCB की टीम अभी भी IPL-12 के प्लेऑफ में पहुंच सकती है.

Advertisement
अजीत तिवारीनई दिल्ली, 16 April 2019
IPL-12: 7वीं हार के बाद भी बची हैं RCB की उम्मीदें, ऐसे पहुंच सकती है प्लेऑफ में टीम के साथ विराट कोहली (फाइल फोटो- GETTY)

मुंबई इंडियंस ने सोमवार को हार्दिक पंड्या की धमाकेदार पारी की मदद से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के एक मैच में विराट कोहली की अगुवाई वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB) को 5 विकेट से हरा दिया.  इस हार ने बेंगलुरु की प्लेऑफ की उम्मीदों को भी गहरे संकट में डाल दिया है. 8 मैचों में उसकी यह 7वीं हार है.

हालांकि, कोहली की टीम के लिए प्लेऑफ की उम्मीद अभी भी बरकरार है. प्वाइंट टेबल में 2 अंक के साथ सबसे नीचे पड़ी  RCB की टीम अभी भी IPL-12 के प्लेऑफ में पहुंच सकती है. खबर है कि दक्षिण अफ्रीका के अनुभवी तेज गेंदबाज डेल स्टेन रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की टीम में ऑस्ट्रेलिया के चोटिल तेज गेंदबाज नाथन कुल्टर नाइल की जगह लेंगे. स्टेन के टीम के साथ जुड़ने से इंडियन प्रीमियर लीग की तालिका में आखिरी स्थान पर काबिज इस टीम की गेंदबाजी इकाई को बल मिलेगा.

प्लेऑफ में कैसे पहुंचेगी कोहली की 'सेना'?

कोहली की अगुवाई में बेंगलुरु ने 8 मैचों में 7 मैच गंवा दिए हैं. ऐसे में अगर टीम बाकी बचे 6 मैच में जीत हासिल कर ले तो भी प्लेऑफ में जगह पक्की कर सकती है. बचे हुए सभी 6 मैच जीतने के बाद बेंगलुरु के 14 अंक हो जाएंगे. ऐसे में अगर कोहली की टीम का रन रेट बेहतर रहा तो उसे प्लेऑफ में जगह मिल सकती है. इतिहास में देखें तो 2010 में भी RCB 7 मैच जीतकर प्लेऑफ में पहुंचने में कामयाब रही थी.

यही नहीं, 2009 में डेक्कन चार्जर्स टीम ने पहले 7 मैच जीतकर प्लेऑफ में जगह बनाई और फिर वह उस सीजन की चैम्पियन भी बनी. 2010 में यह इतिहास एक बार फिर दोहराया गया और चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने 7 मैच में जीत दर्ज कर प्लेऑफ का दरवाजा खटखटाया और फिर खिताब पर कब्जा करने में सफलता हासिल की.

बता दें कि प्वाइंट टेबल में 14 अंक हासिल करने के बाद प्लेऑफ में जगह बनाने वाली टीमों में कई नाम शामिल हैं. 2018 में राजस्थान रॉयल्स, 2014 में मुंबई इंडियंस, 2010 में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और चेन्नई सुपर किंग्स और 2009 में डेक्कन चार्जर्स की टीम यह कारनामा करने में सफल रही थी.

ऐसे में डेल स्टेन की गेंदबाजी की धार और कोहली-डिविलियर्स का बल्लेबाजी एक बार चल निकली तो रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु एक बार प्लेऑफ में 14 अंक के साथ पहुंचकर इतिहास दोहरा सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay