एडवांस्ड सर्च

BCCI के बॉस बनकर क्रिकेट में ये सुधार लाना चाहते हैं सौरव गांगुली

सौरव गांगुली के खिलाफ अध्यक्ष पद के लिए कोई और नामांकन नहीं है और इसलिए तकनीकी लिहाज से गांगुली का बोर्ड का अध्यक्ष बनना तय है. गांगुली ने आईपीएल के पूर्व कमिश्नर राजीव शुक्ला के साथ मुंबई में नामांकन दाखिल किया.

Advertisement
aajtak.in
रसेश मंडानी मुंबई, 15 October 2019
BCCI के बॉस बनकर क्रिकेट में ये सुधार लाना चाहते हैं सौरव गांगुली Sourav Ganguly

  • गांगुली का BCCI का अगला अध्यक्ष बनना तय
  • फर्स्ट क्लास क्रिकेटरों की स्थिति को बेहतर करना प्राथमिकता

भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक सौरव गांगुली का भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का अगला अध्यक्ष बनना तय है. सोमवार को बोर्ड के चुनावों के लिए नामांकन भरने की आखिरी तारीख थी और गांगुली ने अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन भर दिया. उनके खिलाफ अध्यक्ष पद के लिए कोई और नामांकन नहीं है और इसलिए तकनीकी लिहाज से गांगुली का बोर्ड का अध्यक्ष बनना तय है. गांगुली ने आईपीएल के पूर्व कमिश्नर राजीव शुक्ला के साथ यहां नामांकन दाखिल किया.

अध्यक्ष बनने के बाद क्या करेंगे गांगुली?

नामांकन भरने के बाद गांगुली ने यहां संवादादताओं से कहा कि पिछले तीन साल के बीसीसीआई में जो खराब हालात थे उन्हें सुधराना और फर्स्ट क्लास क्रिकेटरों की स्थिति को बेहतर करना उनकी प्राथमिकता होगी . सौरव गांगुली ने कहा कि भारतीय क्रिकेट में हितों का टकराव एक बड़ा मुद्दा है. गांगुली ने कहा कि पद संभालने के बाद वह इस पर ध्यान देंगे. उन्होंने का यह महत्वपूर्ण मुद्दा है और इसे सुलझाना जरूरी है.

खिलाड़ियों को बेहतर सुविधाएं

गांगुली ने कहा, 'अध्यक्ष बनना संतोषजनक है. पिछले तीन साल में जो बीसीसीआई में हालात थे, वो सही नहीं थे. यह जो टीम आई है वो मिलकर काम करेगी और उम्मीद है कि सबकुछ अच्छा रहेगा. यह हमारा दायित्व है कि सभी तरह की चीजें सही तरीके से हों. मेरे लिए हालांकि प्राथमिकता फर्स्ट क्लास क्रिकेट खिलाड़ियों को बेहतर सुविधाएं मुहैया करना होगी. साथ ही कोशिश होगी कि सभी चीजें अपनी जगह पर रहें.'

नहीं था पद का लालच

गांगुली ने कहा कि उन्होंने कभी भी बोर्ड के अध्यक्ष बनने की लालसा प्रकट नहीं थी और सदस्यों द्वारा चुने जाने पर वह इस पद को अपनाने को राजी हुए हैं. गांगुली ने कहा, 'मैंने इस पद के लिए कभी भी अपनी इच्छा जाहिर नहीं की थी. मौजूदा हालात और लोगों ने मुझे यहां तक पहुंचाया है. मुझे काफी दिन तक पता नहीं था कि मैं अध्यक्ष बनूंगा. इसके बाद मुझे बताया गया कि मैं अध्यक्ष हूं और मेरी टीम यह रहेगी. मुझे सदस्यों ने चुना है. सदस्य ही हमेशा चुनते हैं. उन्होंने मुझे चुना तो मैंने हां कहा.'

खिलाड़ी अब प्रशासन का हिस्सा

गांगुली ने खिलाड़ियों के प्रशासन में आने की बात पर खुशी जाहिर करते हुए कहा, 'यह अच्छी बात है कि खिलाड़ी अब प्रशासन का हिस्सा हैं. पहले भी हुआ करते थे लेकिन अब संख्या ज्यादा हो गई है. तो यह अच्छी बात है.' कप्तान और बोर्ड अध्यक्ष दो अलग-अलग जिम्मेदारियों के बारे में पूछे जाने पर गांगुली ने कहा, 'कप्तानी एक अलग चुनौती थी और यह एक अलग चुनौती है. दोनों अलग-अलग तरह की चीजें हैं. आगे राजनीति में जाने का कोई मन नहीं है.'

सौरव गांगुली ने मुंबई में बीसीसीआई के अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन दाखिल करने के बाद कहा है, 'मैं एक ऐसी स्थिति में हूं, जहां मैं टीम के हित में फैसले ले सकता हूं, जिससे टीम को फायदा हो. मुझे उम्मीद है कि हम अगले कुछ महीने में भारतीय क्रिकेट बोर्ड को सामान्य स्थिति में ला सकते हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay