एडवांस्ड सर्च

IND vs SA: शमी के रहते 'निश्चिंत' हुए कप्तान कोहली, बोले- कुलदीप को पता है वो क्यों हैं बाहर

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली इस बात से खुश है कि टीम के खिलाड़ियों ने नि: स्वार्थ रवैया अपनाया है और उनकी सोच में लचीलापन है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in पुणे, 10 October 2019
IND vs SA: शमी के रहते 'निश्चिंत' हुए कप्तान कोहली, बोले- कुलदीप को पता है वो क्यों हैं बाहर कुलदीप-कोहली (फाइल)

  • कोहली अब तक 49 मैचों में 29 टेस्ट जीतकर टॉप पर हैं
  • धोनी ने 60 मैच खेले हैं, लेकिन उनके खाते में 27 जीत

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली इस बात से खुश है कि टीम के खिलाड़ियों ने ‘नि: स्वार्थ रवैया’ अपनाया है और ‘उनकी सोच में लचीलापन’ है. जिससे तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के खेल में बदलाव आया और कुलदीप यादव को पता है कि वह टीम से क्यों बाहर हुए हैं.

कभी चोटों से परेशान रहने वाले शमी ने सपाट पिच पर धारदार गेंदबाजी की, जिससे कप्तान काफी प्रभावित है. कोहली ने दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर बुधवार को कहा, ‘अब (वह) अधिक जिम्मेदारी के साथ खेल रहे हैं. हमें अब कुछ बताने की जरूरत नहीं होती. हमें अब यह कहने की जरूरत नहीं होती आपको हमारे लिए यह स्पेल डालना होगा. जब उन्हें गेंद सौंपी जाती है तब वह मैच की परिस्थिति को अच्छे से समझते है,’

कप्तान के तौर पर 50वां टेस्ट खेलने उतरेंगे कोहली

विराट कोहली गुरुवार से शुरू हो रहे पुणे टेस्ट में कप्तान के तौर पर अपना 'अर्धशतक' पूरा करेंगे. वह अब तक 49 मैचों में 29 टेस्ट जीतकर टॉप पर हैं. कप्तान के तौर पर धोनी ने सर्वाधक 60 मैच खेले हैं, लेकिन उनके खाते में 27 जीत ही हैं.

कोहली को पता है- कुलदीप से ये नहीं हो पाएगा

शमी जहां पूरी तरह लय में हैं, वहीं युवा चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यह सोच रहे होंगे कि अपने पिछले टेस्ट (ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में) में पांच विकेट लेने के बाद भी वह टीम से बाहर क्यों है. कप्तान ने हालांकि कहा कि कुलदीप को पता है कि उन्हें अंतिम 11 में जगह क्यों नहीं मिली. उन्होंने कहा, ‘टीम में कोई भी स्वार्थी नहीं है और हर कोई यह सोचता है कि वह टीम के लिए क्या कर सकता है. कुलदीप के बारे में भी ऐसा ही है. वह समझता है कि भारत में खेलते समय अश्विन और जडेजा हमारी पहली पसंद होंगे, क्योंकि वे बल्ले से भी योगदान देने में सक्षम हैं.’

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय टीम प्रबंधन ने टेस्ट मैचों में अक्सर अपने संयोजन में बदलाव किया है और कप्तान कोहली से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर आप नतीजे देखेंगे तो समझ जाएंगे कि ऐसा क्यों किया गया है.

'हमारा एक ही मकसद- ज्यादा से ज्यादा मैच जीतना'

कोहली ने कहा, ‘हम पिछले दो साल से जो कर (टीम संयोजन को लेकर) रहे है उसके बारे में काफी चर्चा हो रही है. हमारा सिर्फ एक मकसद होता है- ज्यादा से ज्यादा मैच जीतना. हम ऐसा करने में कामयाब रहे हैं.’ कप्तान के तौर पर पिछले तीन साल में सिर्फ एक (2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पुणे में) टेस्ट मैच में हार का स्वाद चखने वाले कोहली ने कहा, ‘पिछले तीन वर्षों में सबसे कम मैच गंवाने का प्रतिशत हमारे नाम है और इसके लिए अच्छी वजह है. जाहिर है टीम में लचिलापन है, लेकिन जैसा कि मैंने कहा अगर टीम साथ नहीं दे तो यह संभव नहीं होगा.’

शमी की तरह सीम मूवमेंट हासिल करना मुश्किल

शमी की तारीफ करते हुए कप्तान ने कहा सपाट और बिना मदद वाली पिचों से भी सीम मूवमेंट हासिल करने की कला उन्हें विशेष बनाती है. उन्होंने कहा, ‘हम जैसी पिचों पर खेलते है, मुझे नहीं लगता कोई भी शमी की तरह सीम मूवमेंट हासिल करने में सफल रहता है.’ उन्होंने कहा, ‘वह ऐसे खिलाड़ी है जो विपरीत परिस्थितियों में भी मैच के रुख को पूरी तरह से पलट देते है. आप उनके कौशल को देख सकते हैं. खास कर दूसरी पारी में जब मुश्किल स्थिति होती है तब वह हर बार अपना काम शानदार तरीके से करते हैं.’

प्लेइंग इलेवन में बदवाल के मूड में नहीं कोहली

मैच के विभिन्न स्थिति में जिम्मेदारी उठाने की खिलाड़ियों की क्षमता से कप्तान ‘आश्चर्यचकित’ हैं. मैच के दौरान हालांकि बारिश का पूर्वानुमान है, लेकिन कप्तान ने अपनी टीम संयोजन को बदलने में बहुत दिलचस्पी नहीं दिखाई. टीम में तीसरे तेज गेंदबाज को शामिल करने को नकारते हुए उन्होंने कहा, ‘हमारी टीम लगभग स्थिर है और मुझे नहीं लगता कि पिच की भूमिका बहुत ज्यादा होगी, क्योंकि जब पिच में नमी होती है तब भी गेंद को घुमाव भी मिलता है. ऐसा नहीं है कि सिर्फ तेज गेंदबाज ही प्रभावी होंगे, स्पिनर भी प्रभावी होंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay