एडवांस्ड सर्च

इन बांग्लादेशी खिलाड़ियों को ICC ने सिखाया सबक, मैदान पर किया था हंगामा

श्रीलंका के खिलाफ निदहास टी-20 ट्राई सीरीज के मैच में अपने खराब बर्ताव के लिए बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन और उनके साथी खिलाड़ी नुरुल हसन पर मैच के दौरान बहस करने के लिए जुर्माना लगाया गया है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: तरुण वर्मा]कोलंबो , 17 March 2018
इन बांग्लादेशी खिलाड़ियों को ICC ने सिखाया सबक, मैदान पर किया था हंगामा तिसारा परेरा से भिड़ते बांग्लादेश के रिजर्व खिलाड़ी नुरुल हसन

बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन पर श्रीलंका के खिलाफ टी-20 मैच में अंपायर के फैसले का ‘विरोध करने’ पर आज मैच फीस का 25 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया और इसके साथ ही उनके खाते में एक डिमेरिट अंक जोड़ दिया गया.

कल खेले गए इस मैच से जुड़े एक अन्य घटना में रिजर्व खिलाड़ी नुरुल हसन पर भी आईसीसी आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए को एक डिमेरिट अंक और मैच फीस का 25 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया.

ड्रेसिंग रूम में किसने की तोड़फोड़? बांग्लादेशी मैनेजमेंट ने दिया नुकसान की भरपाई का प्रस्ताव

शाकिब को आईसीसी आचार संहिता के अनुच्छेद 2.1.1 के उल्लंघन का दोषी पाया गया जो ‘अपने आचरण से खेल भावना के विपरीत होने’ से संबंधित है, जबकि नुरुल को अनुच्छेद 2.1.2 का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया था, जो' अपने आचरण से खेल को बदनामी करने' से संबंधित है.

शाकिब से जुड़ी घटना बांग्लादेश के पारी की 20वें ओवर में घटी जब अंपायरों के फैसले से खफा शाकिब पवेलियन से उतरकर सीमा रेखा के पास पहुंच गए और उन्होंने अपने बल्लेबाजों को वापस लौटने का इशारा किया.

तोड़फोड़ के बाद मुश्किल में बांग्लादेशी टीम, शाकिब की कसम - दोबारा नहीं करेंगे

रिजर्व खिलाड़ी नुरुल श्रीलंका के कप्तान तिसारा परेरा से उलझ पड़े और उन्हें उंगली नुरुल. आईसीसी से जारी विज्ञप्ति में कहा गया, ‘शनिवार को शाकिब और नुरुल ने मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड के समक्ष अपनी गलती मानते हुए उनके फैसले को मान लिया.'

मैदान में लड़ाई फिर बांग्लादेशी ड्रेसिंग रूम में तोड़फोड़, होगी CCTV फुटेज की जांच

डिमेरिट प्राणाली लागू (22 सितंबर2016) होने के बाद पहले बार दोनों खिलाड़ियों को डिमेरिट अंक मिला है.  ब्रॉड ने कहा, ‘शुक्रवार की घटना काफी निराशाजनक थी क्योंकि आप इस स्तर पर खिलाड़ियों से ऐसे आचरण की उम्मीद नहीं करते. मैं यह समझता हूं कि यह काफी तनावपूर्ण मैच था क्योंकि फाइनल में पहुंचना दांव पर लगा था. लेकिन इन दोनों खिलाड़ियों के आचरण को कहीं से स्वीकार नहीं किया जा सकता. यह माफी लायक नहीं था.'

उन्होंने कहा, 'चौथे अंपायर ने शाकिब और विरोध कर रहे खिलाड़ियों को नहीं रोका होता तथा मैदानी अंपायर ने नुरुल और तिसारा को नहीं रोका होता तो स्थिति और बिगड़ सकती थी.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay