एडवांस्ड सर्च

टी20 मुकाबलों में पाकिस्तान को पांच बार हरा चुका है भारत

शनिवार को बांग्लादेश के मीरपुर में एशिया कप का चौथा मैच भारत बनाम पाकिस्तान है. अब तक भारत और पाकिस्तान के बीच कुल 6 टी20 मुकाबले हुए हैं. जिनमें से चार बार भारत को जीत मिली है जबकि एक बार पाकिस्तान को. इन दोनों के बीच हुआ पहला टी20 मुकाबला (2007 वर्ल्ड कप) टाई हो गया था जिसके बाद बॉलआउट में भारत को जीत मिली थी.

Advertisement
aajtak.in
सूरज पांडेय नई दिल्ली, 27 February 2016
टी20 मुकाबलों में पाकिस्तान को पांच बार हरा चुका है भारत भारी है टीम इंडिया का पलड़ा

भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाला क्रिकेट मैच वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मुकाबला होता है. इसके आगे वर्ल्ड क्रिकेट की सबसे पुरानी एशेज सीरीज की लोकप्रियता भी कम पड़ जाती है. दोनों देशों के बीच इस महामुकाबले को देखने के लिए लोग अपनी टीवी स्क्रीन्स से चिपक जाते हैं. खिलाड़ियों के साथ ही दर्शकों की सांसें भी हर गेंद के साथ ऊपर नीचे होती हैं. एशिया कप में भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबले से पहले तक इन दोनों चिर प्रतिद्वंद्वियों के बीच अब तक कुल 6 टी20 मुकाबले हुए हैं. इनमें से चार बार भारत को जीत मिली है जबकि एक बार पाकिस्तान को. इन दोनों के बीच हुआ पहला टी20 मुकाबला (वर्ल्ड टी 20 2007 में) टाई हो गया था जो बॉलआउट के बाद भारत के पक्ष में गया. चलिए एक एक कर आपको बताते हैं इन सभी मुकाबलों के विषय में.

'बॉलआउट' में जीती टीम इंडिया
14 सितंबर 2007 को इन दोनों टीमों के बीच द. अफ्रीका के डरबन में पहला टी20 मैच हुआ था. टॉस हारकर पहले बैटिंग करते हुए भारत ने रॉबिन उथप्पा की हाफ सेंचुरी और धोनी-इरफान पठान की उपयोगी पारियों के दम पर नौ विकेट के नुकसान पर 141 रनों का स्कोर खड़ा किया. जवाब में खेलने उतरी पाकिस्तान की टीम मिस्बाह-उल हक के पचासे के बावजूद 20 ओवरों में सात विकेट पर 141 रन ही बना सकी. मैच टाई होने के बाद हुए बॉलआउट में भारत की ओर से सहवाग, भज्जी और उथप्पा ने लगातार विकेट पर गेंद मारी जबकि पाक की तरफ से यासिर अराफात, उमर गुल और शाहिद अफरीदी तीनों ही गेंद से विकेट को नहीं हिट कर पाए. मोहम्मद आसिफ को चार ओवर में 18 रन देकर चार विकेट लेने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

जोगिंदर की गेंद पर श्रीसंत का कैच
अगली भिड़ंत 24 सितंबर 2007 को पहले वर्ल्ड टी20 के फाइनल में हुई. पहले बैटिंग करते हुए भारत ने गौतम गंभीर की 75 रनों की जुझारू पारी और रोहित शर्मा के तेज 30 रनों की बदौलत 157 रनों का स्कोर खड़ा किया. जवाब में खेलने उतरी पाकिस्तान की टीम इरफान पठान और आरपी सिंह की जबरदस्त गेंदबाजी और धोनी की चतुराई भरी कप्तानी के चलते 152 रनों पर ही ऑलआउट हो गया. मैच का आखिरी ओवर जोगिंदर शर्मा ने फेंका था. पठान को चार ओवर में 16 रन देकर तीन विकेट झटकने के चलते मैन ऑफ द मैच चुना गया.

पाक ने लगाई हार की हैट्रिक
इन दोनों मुल्कों के लोगों को एक बार फिर इस भिड़ंत के लिए अगले पांच साल का इंतजार करना पड़ा. यह मुकाबला श्रीलंका में हुए वर्ल्ड टी20 2012 में हुआ. 30 सितंबर 2012 को कोलंबो में पहले बैटिंग करते हुए पाकिस्तानी टीम निर्धारित 20 ओवरों में 128 रनों पर ही ऑलआउट हो गई. जवाब में खेलने उतरे भारत ने कोहली की हाफ सेंचुरी के दम पर तीन ओवर शेष रहते ही मैच को आठ विकेट से अपने नाम कर लिया. कोहली को उनकी 61 गेंदों पर 78 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

'पहली बार' पाक से हारा भारत
इसी साल पाकिस्तान आखिरी बार भारत में खेलने आया और 25 दिसंबर 2012 को बंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में इन दोनों के बीच चौथी बार टी20 मैच खेला गया. दो मैचों की सीरीज के इस पहले मुकाबले में पहले बैटिंग करते हुए टीम इंडिया नौ विकेट पर 133 रन ही बना सकी. भारत के लिए गंभीर और रहाणे ने 44,42 रनों का योगदान दिया. जवाब में खेलने उतरी पाकिस्तान ने हफीज और शोएब मलिक के अर्धशतकों की मदद से आसानी से इस लक्ष्य को प्राप्त कर लिया. हफीज को उनके 61 रनों के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया. ये इन दोनों मुल्कों के बीच इस फॉर्मेट में खेला गया वो एकमात्र मैच है जिसे पाकिस्तान ने जीता.

युवराज ने पाक को दिखाए दिन में तारे
पहली बार इस फॉर्मेट में हार के बाद टीम इंडिया ऐसी बौखलाई कि उसने 28 दिसंबर 2012 को अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में खेले गए इस सीरीज के दूसरे मैच में पाकिस्तान के द्वारा गेंदबाजी के लिए बुलाए जाने के बाद धुंआधार बैटिंग की. लगभग 10 रन प्रति ओवर की बल्लेबाजी के पीछे युवराज, गंभीर, कोहली और धोनी के तेज खेल का हाथ रहा. इनकी बल्लेबाजी की वजह से भारत ने 192 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया. जवाब में खेलने उतरी पाकिस्तान को मिडिल ऑर्डर के ना चलने का खामियाजा भुगतना पड़ा. हफीज के अर्धशतक और नासिर जमशेद के 41 रनों के बावजूद पाक टीम निर्धारित ओवरों में सात विकेट पर 181 रन ही बना पाई. युवराज सिंह को उनकी 36 गेंदों पर 72 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

जारी रहा वर्ल्ड कप में 'पाक' हार का सिलसिला
एक बार फिर इन दोनों देशों के बीच मुकाबला हुआ लगभग डेढ़ साल बाद वर्ल्ड कप में. 21 मार्च 2014 को मीरपुर में हुए वर्ल्ड टी20 के मैच में पाकिस्तान की टीम पहले बैटिंग करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 130 रन ही बना पाई. जवाब में खेलते उतरे भारत ने 18.3 ओवरों में तीन विकेट के नुकसान पर 131 रन बनाकर मैच को अपने नाम कर लिया. अमित मिश्रा को चार ओवर में 22 रन देकर दो विकेट लेने के प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया. इस मुकाबले के साथ ही दोनों देशों के बीच वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के न जीतने का सिलसिला बदस्तूर चलता रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay