एडवांस्ड सर्च

ये हैं वो 11 भारतीय महिला क्रिकेटर, जो आखिरी दम तक लड़ीं

मिताली राज टेस्ट क्रिकेट मैच में दोहरा शतक बनाने वाली पहली महिला हैं. मिताली का जन्म 3 दिसम्बर 1982 को जोधपुर, राजस्थान में हुआ था. मिताली ने 'भरतनाट्यम' नृत्य की ट्रेंनिग ली है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: अमित दुबे]नई दिल्ली, 23 July 2017
ये हैं वो 11 भारतीय महिला क्रिकेटर, जो आखिरी दम तक लड़ीं महिला क्रिकेट टीम

1. मिताली राज (कप्तान)- मिताली राज टेस्ट क्रिकेट मैच में दोहरा शतक बनाने वाली पहली महिला हैं. मिताली का जन्म 3 दिसम्बर 1982 को जोधपुर, राजस्थान में हुआ था. उन्होंने 'भरतनाट्यम' नृत्य में भी ट्रेंनिग प्राप्त की है और अनेक स्टेज कार्यक्रम दिए हैं. उनकी मां लीला राज एक अधिकारी थी, उनके पिता धीरज राज डोराई राज बैंक में नौकरी करने के पूर्व एयर फोर्स में थे. बचपन में जब उसके भाई को क्रिकेट की कोचिंग दी जाती थी, तब वह मौक़ा पाकर गेंद को घुमा देती थीं. तब क्रिकेटर ज्योति प्रसाद ने उसे नोटिस किया और कहा कि वह क्रिकेट की अच्छी खिलाड़ी बनेंगी. मिताली राज ने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में 1999 में पहली बार खेला. जिसमें मिताली ने नाबाद 114 रन बनाए. उन्होंने 2001-2002 में लखनऊ में इंग्लैंड के विरुद्ध प्रथम टेस्ट मैच खेला. मिताली राज को 21 सितम्बर, 2004 को 'अर्जुन पुरस्कार' से सम्मानित किया गया.

2. स्मृति मंधाना- मंधाना का जन्म 18 जुलाई, 1886 मुंबई में हुआ था स्मिथ और श्रीनिवास मंधाना के घर हुआ था. जब वह 2 साल की थी तोह उनका परिवार महाराष्ट्र के सांगली में स्थानांतरित हो गया था उन्होंने अपनी स्चूली शिक्षा पूरी की. वह क्रिकेटर बनने के लिए अपने भाई से प्रेरित थी जब उन्होंने महाराष्ट्र अंडर-16 खेले थे. 8 साल की आयु में वह महाराष्ट्र अंडर 15 की टीम में चुनी गई थी. 11 वर्ष की आयु में उन्हें महाराष्ट्र अंडर-18 की टीम के लिए चुना गया. मंधाना ने अपना पहला टेस्ट मैच वर्मस्ली पार्क में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था. 2016 में भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे के होबार्ट में बेलरिवे ओवल के दूसरे वनडे मैच में, मंधाना ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय शतक (102 रन) बनाया था. स्मृति साल 2016 में आईसीसी महिला टीम में शामिल होने वाले एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी थीं.

3. पूनम राउत- पूनम गणेश राउत का जन्म 14 अक्टूबर 1989 को मुंबई में हुआ था. पूनम ने साल 19 मार्च 2009 में बेस्टइंडीज के खिलाफ पहला एक दिवसीय मैच खेला था. इसी साल 15 मई को आयरलैंड के खिलाफ पूनम में वनडे में शानदार पारी खेली थी. दीप्ति शर्मा के साथ मिलकर 320 रनों की ओपनिंग पार्टनरशिप की थी. जिसमें 188 रन पूनम ने बनाए थे.

4. हरमनप्रीत कौर- पंजाब की रहने वाली हरमनप्रीत कौर का जन्म 8 मार्च 1989 को मोगा में हुआ था. हरमनप्रीत ने 2 टेस्ट मैच और 50 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय खेला है. इन्होंने 53 टी-20 मैच भी खेले हैं.

हरमनप्रीत ने अपने वनडे करियर की शुरुआत ब्रेडमैन ओवल में खेला था. 2009 के महिला क्रिकेट विश्वकप के दौरान हरमनप्रीत ने शानदार गेंदबाजी की थी, 4 ओवर में महज 10 रन दिए थे. 2017 महिला क्रिकेट विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में हरमनप्रीत कौर ने ऑस्ट्रेलिया महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी करते हुए अपने जीवन का सबसे अच्छा प्रदर्शन किया और मात्र 115 गेंदों पर 171 रन बनाए, जिसमें इन्होंने 20 चौके और 7 छक्के लगाए थे.

5. दीप्ति शर्मा- दीप्ति भगवान शर्मा उत्तर प्रदेश की रहने वाली हैं. इनका जन्म 24 अगस्त 1997 सहारनपुर में हुआ था. 28 नवंबर 2014 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे में दीप्ति अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला प्रदर्शन किया. वह एक बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और राइट-आर्म की मध्यम गति वाली गेंदबाजी करती हैं. इसी साल 15 मई को आयरलैंड के खिलाफ पूनम के साथ मिलकर दीप्ति शर्मा ने 320 रनों की शानदार ओपनिंग पार्टनरशिप की थी. बल्लेबाजी के साथ-साथ कई मौकों पर दीप्ति ने स्पिन गेंदबाजी से लोगों को चौंकाया है.

6. वेद कृष्णमूर्ति- यह महिला क्रिकेटर मूल रूप से कर्नाटक की रहने वाली हैं. वेद कृष्णमूर्ति का जन्म 16 अक्टूबर, 1992 चिकमंगलुर के कदुर में हुआ था. उन्होंने 30 जून, 2011 को डर्बी में इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला प्रदर्शन किया. वेद कृष्णमूर्ति एक दाएं हाथ की बल्लेबाज हैं और दाएं-हाथ के लेगब्रेक गेंदबाज़ हैं. नवंबर 2015 में, उन्हें बी-ग्रेड अनुबंध सूची में नामित किया गया था, यह पहली बार थी कि बीसीसीआई ने महिला खिलाड़ियों के लिए अनुबंध की पेशकश की थी. कृष्णमूर्ति ने 11 जून 2011 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहला टी-20 मैच खेला था.

7. झूलन गोस्वामी- झूलन निशित गोस्वामी पश्चिम बंगाल के नादिया में 25 नवम्बर 1982 को हुआ था. झूलन का उपनाम बाबुल है. झूलन की क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट टेस्ट, एकदिवसीय, टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में फिट हैं. झूलन गोस्वामी एक हरफनमौला खिलाड़ी हैं और यह घरेलू क्रिकेट बंगाल के लिए खेलती हैं. 5 फीट 11 इंच लंबी झूलन 14 जनवरी 2002 को इंग्लैण्ड महिला के पहला टेस्ट मैच खेला था. जबकि वनडे में झूलन का पदार्पण 6 जनवरी 2002 को इंग्लैण्ड के ही खिलाफ हुआ था. शानदार गेंदबाजी के साथ साथ कई मौकों पर झूलन से अपनी बल्लेबाजी से लोगों को चौंकाया है. इन्होंने वनडे में दो अर्धशतक भी लगाए हैं. झूलन पहले भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान भी रह चुकी हैं.

8. सुषमा वर्मा- टीम इंडिया की विकेट कीपर सुषमा वर्मा का जन्म 3 नवंबर, 1992 हिमाचल प्रदेश के शिमला में हुआ था. सुषमा विकेट कीपिंग के साथ-साथ दाएं हाथ से शानदार बल्लेबाज भी करती हैं. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के साथ सुषमा हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के लिए खेलती हैं. इनकी कप्तानी में हिमाचल की टीम साल 2011 में अंडर-19 अखिल भारतीय महिला टूर्नामेंट में उपविजेता रही थी. सुषमा ने 16 नवंबर, 2014 दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला था, इस सीरीज के दौरान 24 नवंबर को इन्होंने अपना पहले वनडे मैच का आगाज किया.

9. पूनम यादव- लेग स्पिनर पूनम यादव का जन्म 24 अगस्त 1991 को उत्तर प्रदेश के मैनपुरी के घिरोर ब्लॉक में हुआ था. इनके पिता का नाम रघुवीर सिंह यादव सेना में अफसर हैं. पूनम अंतर राष्ट्रीय महिला टीम में चुनी जाने वाली जनपद की पहली महिला खिलाड़ी हैं. पूनम तीन वर्षों तक प्रदेश की अंडर-19 टीम की कप्तान भी रही हैं. पूनम बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई सीरीज में भी भारत के लिए शानदार प्रदर्शन कर टीम को जीत दिला चुकी हैं. पूनम घरेलू क्रिकेट में मध्य क्षेत्र, उत्तर प्रदेश और रेलवे के लिए खेलती हैं. पूनम में पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच 16 नवंबर 2014 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था, जबकि साल 2013 में बांग्लादेश के खिलाफ पहला वनडे मैच खेला था.

10. शिखा पांडे- शिखा पांडे का जन्म 12 मई, 1989 को गोवा के करीमनगर गोवा में हुआ था. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से की. गोवा कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग से उन्होंने इलेक्ट्रानिक्स और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त की, उसके बाद 2011 में वह भारतीय वायु सेना में शामिल हो गई थीं. शिखा पांडे को 15 साल की उम्र में 2004 में गोवा के लिए खेलने के लिए चयनित किया गया था. बाद में 17 साल की उम्र में 2007-2008 के लिए उन्हें गोवा के महिला वरिष्ठ राज्य साइड के पक्ष में खेलने के लिए चुना गया था. पूर्व भारतीय महिला टीम के कप्तान और उसके बाद भारतीय कोच और दक्षिण क्षेत्र चयनकर्ता पूर्णिमा राव ने उन्हें अंडर-19 क्रिकेट टूर्नामेंट के तहत प्रोत्साहित किया और भारत के लिए खेलने के लिए प्रेरित किया. ऑल राउंडर शिखा पांडे दिलीप सरदेसाई के बाद किसी भी भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने के लिए गोवा की पहली खिलाड़ी हैं. 26 नवंबर, 2014 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत की जीत में शिखा पांडे ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थीं, जिसमें उन्होंने 3 59 रन देकर 3 विकेट लिए थे.

11. राजेश्वरी गायकवाड़- भारतीय महिला क्रिकेट में किफायती गेंदबाजी के लिए राजेश्वरी गायकवाड़ जानी जाती हैं. इनका जन्म 1 जून 1991 को कर्नाटक के विजयपुर में हुआ था. राजेश्वरी ने खेलने की शुरुआत अंतरराष्ट्रीय एक दिवसीय क्रिकेट में श्रीलंका के खिलाफ 19 जनवरी 2014 में की थीं. इनका पूरा नाम राजेश्वरी शिवानंद गायकवाड़ है. इनकी लेग स्पिन गेंदबाजी से विरोधी बल्लेबाज खौफ खाती हैं. 2017 वर्ल्ड कप में भी राजेश्वरी का प्रदर्शन उम्दा किया था.

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay