एडवांस्ड सर्च

जब विराट कोहली से बात करके भावुक हो गए उनके कोच राजकुमार शर्मा

एक बेहद प्रतिभाशाली युवा से विश्व स्तरीय बल्लेबाज तक विराट कोहली की तरक्की में राजकुमार शर्मा का योगदान किसी से छिपा नहीं है और 2014 में शिक्षक दिवस पर इस ‘शिष्य’ ने अपने सख्त कोच को इतना भावुक कर दिया कि उसे वह कभी नहीं भुला सकेंगे.

Advertisement
aajtak.in
अमित रायकवार नई दिल्ली, 18 October 2016
जब विराट कोहली से बात करके भावुक हो गए उनके कोच राजकुमार शर्मा विराट कोहली और राजकुमार शर्मा

एक बेहद प्रतिभाशाली युवा से विश्व स्तरीय बल्लेबाज तक विराट कोहली की तरक्की में राजकुमार शर्मा का योगदान किसी से छिपा नहीं है और 2014 में शिक्षक दिवस पर इस ‘शिष्य’ ने अपने सख्त कोच को इतना भावुक कर दिया कि उसे वह कभी नहीं भुला सकेंगे.

विराट के कोच हुए भावुक
अनुभवी खेल पत्रकार विजय लोकपल्ली की किताब ‘ड्रिवन’ में इस घटना का जिक्र किया गया है. लेखक ने कहा, 'मैने एक दिन घंटी बजने पर दरवाजा खोला तो सामने विकास (विराट कोहली का भाई) खड़ा था. इतनी सुबह उसके भाई के आने से मुझे चिंता होने लगी. विकास घर के भीतर आया और एक नंबर लगाया और फिर फोन मुझे दे दिया. दूसरी ओर विराट फोन पर था जिसने कहा, हैप्पी टीचर्स डे सर.' इसके बाद विकास ने राजकुमार की हथेली पर चाबियों का एक गुच्छा रखा.

विराट ने कोच को कार गिफ्ट दी
इसमें कहा गया, 'राजकुमार हतप्रभ देखते रहे. विकास ने उन्हें घर से बाहर आने को कहा. दरवाजे पर एक स्कोडा रैपिड रखी थी जो विराट ने अपने गुरु को उपहार में दी थी.' राजकुमार ने कहा, 'बात सिर्फ यह नहीं थी कि विराट ने मुझे तोहफे में कार दी थी बल्कि पूरी प्रक्रिया में उसके जज्बात जुड़े थे और मुझे लगा कि हमारा रिश्ता कितना गहरा है और उसके जीवन में गुरू की भूमिका कितनी अहम है.

किताब में मजेदार घटनाओं का जिक्र है
वरिष्ठ खेल पत्रकार विजय लोकपल्ली की इस किताब में विराट के जीवन से जुड़ी मजेदार घटनाओं का भी जिक्र है. विराट को भले ही लगता हो कि नाम में क्या रखा है. लेकिन दूसरों को शायद ऐसा नहीं लगता. युवराज सिंह ने अपनी किताब ‘टेस्ट आफ माय लाइफ’ में लिखा था कि उन्हें लगता था कि विराट काेहली को ‘चीकू निकनेम मशहूर कामिक किताब ‘चंपक’ से मिला जिसमें इस नाम का एक चरित्र है. भारतीय टेस्ट कप्तान ने हालांकि इसका खुलासा किया कि उन्हें यह निकनेम फल से मिला है.

कैसे पड़ा विराट का नाम 'चीकू'
दिल्ली की टीम मुंबई में रणजी मैच खेल रही थी. 'विराट ने उस समय तक कुल 10 प्रथम श्रेणी मैच भी नहीं खेले थे. वह उस टीम में थे जिसमें वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, रजत भाटिया और मिथुन मन्हास शामिल थे. उनके साथ ड्रेसिंग रूम में रहकर वह काफी खुश थे.' उन्होंने लिखा, 'एक शाम को वह बाल कटाकर होटल लौटा. उसने पास ही में नया हेयर सैलून देखा और वहां से बाल कटाकर नये लुक में आया. उसने पूछा कि यह कैसा लग रहा है तो सहायक कोच अजित चौधरी ने कहा कि तुम चीकू लग रहे हो.' तभी से उनका नाम चीकू पड़ गया और उन्हें बुरा भी नहीं लगता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay