एडवांस्ड सर्च

टॉस का सिक्का उछालते ही कप्तान धोनी ने पूरी कर ली अपनी डबल सेंचुरी

एशिया कप-2018 के सुपर-4 के अपने अंतिम मैच में अफगानिस्तान ने भारत के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. इस मैच में भारत की कप्तानी महेंद्र सिंह धोनी ने संभाली.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: विश्व मोहन मिश्र]दुबई, 25 September 2018
टॉस का सिक्का उछालते ही कप्तान धोनी ने पूरी कर ली अपनी डबल सेंचुरी धोनी ने सिक्का उछाला

अफगानिस्तान ने मंगलवार को एशिया कप वनडे टूर्नामेंट के सुपर-4 मुकाबले में भारत के खिलाफ टॉस जीत कर बल्लेबाजी का फैसला किया. भारतीय प्रशंसकों के लिए इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी खुशखबरी लेकर आए.

खुशखबरी ऐसी कि शुरू में तो किसी को इस 'खबर' पर भरोसा तक नहीं हुआ, लेकिन यह सच साबित हुआ. धोनी अफगानिस्तान मैच में टॉस के लिए पहुंचे और सिक्का उछालते ही उन्होंने वनडे में अपनी कप्तानी की डबल सेंचुरी पूरी कर ली.

एशिया कप के फाइनल में स्थान पक्का कर चुकी टीम इंडिया ने इस मैच में रोहित शर्मा को आराम दिया और धोनी को अपने 200वें वनडे में कप्तानी का मौका दिया गया.

धोनी ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्यों छोड़ी वनडे-T20 की कप्तानी

37 साल के धोनी ने 696 दिनों के बाद टीम इंडिया की कप्तानी संभाली है. जनवरी 2017 में धोनी ने कप्तानी (सीमित ओवरों के प्रारूप से) छोड़ने का फैसला किया था और इसके बाद ही विराट कोहली को अपना उत्तराधिकारी बनाने का रास्ता बनाया.

इस मैच में भारतीय टीम में पांच बदलाव किए. नियमित कप्तान रोहित शर्मा और उपकप्तान शिखर धवन, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और युजवेंद्र चहल को विश्राम दिया गया है.

तेज गेंदबाज दीपक चाहर अपने वनडे करियर का आगाज करने का मौका मिला. टीम में लोकेश राहुल, मनीष पांडे, खलील अहमद और सिद्धार्थ कौल को अंतिम 11 में जगह मिली.

इस मैच से पहले तक भारतीय कप्तानों का वनडे रिकॉर्डः TOP-7

1. एमएस धोनी (2007-2018) 199 मैच, 110 जीते, 74 हारे

2. मो. अजहरुद्दीन (1990-1999) 174 मैच, 90 जीते, 76 हारे

3. सौरव गांगुली (1999-2005) 146 मैच, 76 जीते, 65 हारे

4. राहुल द्रविड़ (2000-2007) 79 मैच, 42 जीते, 33 हारे

5. कपिल देव (1982-1987) 74 मैच, 39 जीते, 33 हारे

6. सचिन तेंदुलकर (1996-2000) 73 मैच, 23 जीते, 43 हारे

7. विराट कोहली (2013-2018) 52 मैच, 39 जीते, 12 हारे

धोनी ने कभी अपने करियर में आंकड़ों को तरजीह नहीं दी. उन्होंने 90 टेस्ट खेलने के बाद खेल के लंबे प्रारूप को अलविदा कहा, जबकि वह 100 टेस्ट के उपलब्धि हासिल कर सकते थे.

टॉस के समय रसेल आर्नोल्ड के सवाल का जवाब देते हुए धोनी ने कहा, ‘मैंने 199 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में कप्तानी की है, इसलिए यह मुझे 200 करने का मौका देता है. यह किस्मत है और मैंने हमेशा किस्मत पर यकीन किया है.’

जब यह पूछा गया कि क्या उन्होंने कभी सोचा था कि वे 200 मैचों में कप्तानी कर पाएंगे तो धोनी ने कहा, ‘एक बार कप्तानी छोड़ने के बाद यह मेरे नियंत्रण में नहीं है.’ सुनील गावस्कर ने इस दौरान प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘शत प्रतिशत वह सबसे लोकप्रिय भारतीय कप्तान हैं’

अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैचों में धोनी से अधिक मैचों में कप्तानी ऑस्ट्रेलिया और आईसीसी के लिए रिकी पोंटिंग (230) और न्यूजीलैंड के लिए स्टीफन फ्लेमिंग (218) ने ही की है. धोनी की अगुआई में भारत ने 110 मैच जीते हैं और वह सर्वाधिक जीत के मामले में पोंटिंग (165) के बाद दूसरे स्थान पर हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay