एडवांस्ड सर्च

क्या शमी ने एंटी करप्शन यूनिट के सामने कुबूल की अपने अवैध संबंधों की बात?

हसीन जहां ने आरोप लगाया था कि शमी ने पाकिस्तानी महिला अलिश्बा से इंग्लैंड में बसे व्यवसायी मोहम्मद भाई के कहने पर पैसे लिए थे और दुबई में उनके साथ मुलाकात की थी.

Advertisement
aajtak.in
तरुण वर्मा नई दिल्ली, 23 March 2018
क्या शमी ने एंटी करप्शन यूनिट के सामने कुबूल की अपने अवैध संबंधों की बात? मोहम्मद शमी और हसीन जहां

पिछले हफ्ते बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट ने टीम इंडिया के गेंदबाज मोहम्मद शमी से पूछताछ की थी, जिसमें उनके द्वारा अपने अवैध संबंधों को कुबूल करने की बात कही जा रही है.

एंटी करप्शन यूनिट के अधिकारियों ने शमी से तब तीन घंटे तक पूछताछ की थी और उनसे साउथ अफ्रीका दौरे और दुबई जाने व अलिश्बा नाम की पाकिस्तानी लड़की से मिलने को लेकर कई सवाल किए गए और मामले की पूरी जानकारी ली थी.

बता दें कि हसीन जहां ने आरोप लगाया था कि शमी ने पाकिस्तानी महिला अलिश्बा से इंग्लैंड में बसे व्यवसायी मोहम्मद भाई के कहने पर पैसे लिए थे और दुबई में उनके साथ मुलाकात की थी. जिसके बाद सीओए चीफ विनोद राय ने बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट के प्रमुख नीरज कुमार को मामले की जांच के लिए कहा था.

क्लीन चिट के बाद बोले शमी- अब मैदान पर करूंगा जोरदार वापसी

इसके अलावा हसीन ने शमी के साथ एक कथित फोन कॉल की रिकॉर्डिंग का खुलासा किया, जिसमें हसीन के अनुसार शमी अपनी 'बेवफाई' को स्वीकार कर रहे हैं और उन्होंने एक मोहम्मद भाई द्वारा भेजे गए पैसे लेने के लिए अलिश्बा से मुलाकात की.

हसीन जहां की शिकायत पर शमी और उनके परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ हत्या के प्रयास, दुष्कर्म, आपराधिक धमकी एवं जहर देने के प्रयास सहित भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में मामले दर्ज किए गए थे.

पुलिस ने शमी और उनके परिवार सदस्यों के खिलाफ आईपीसी की धारा 498A, 323, 307, 376, 506, 328 और 34 के तहत केस दर्ज किया था. इसमें घरेलू हिंसा के आरोप में केस दर्ज है. जिन मामलों में शमी पर केस दर्ज किया गया है, वह सभी गैर जमानती धाराएं हैं.

खबरों के मुताबिक एंटी करप्शन यूनिट जांच के दौरान शमी ने अपने अवैध संबंध के आरोपों को लेकर और अपनी महिला मित्रों से मिलने के मामले में कई बातें कही थी. बता दें कि बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) ने गुरुवार को तेज गेंदबाज शमी को उनकी पत्नी द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से क्लीन चिट दे दी और इसके बाद बोर्ड ने उनके सेन्ट्रल कॉन्ट्रैक्ट को मंजूरी दे दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay