एडवांस्ड सर्च

मैच के प्रेशर से धोनी के दाढ़ी के बाल सफेद हुएः कपिल देव

दोनों इस बात पर सहमत थे कि भले ही पलड़ा भारत की तरफ झुका है लेकिन कांटे की टक्कर देखने को मिलेगी. इस दौरान कपिल देव ने यह भी कहा कि भारत पाकिस्तान मैच में कितना प्रेशर होता है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि धोनी के बाल तक सफेद हो गए.

Advertisement
aajtak.in
सूरज पांडेय नई दिल्ली, 08 March 2016
मैच के प्रेशर से धोनी के दाढ़ी के बाल सफेद हुएः कपिल देव कपिल देव

वर्ल्ड टी20 से ठीक पहले आज तक के कार्यक्रम सलाम क्रिकेट के दौरान भारत-पाकिस्तान के पूर्व कप्तान कपिल देव और वसीम अकरम ने एक सुर में कहा कि इन दोनों मुल्कों के बीच धर्मशाला में सही मायने में महामुकाबला होगा.

दोनों इस बात पर सहमत थे कि भले ही पलड़ा भारत की तरफ झुका है लेकिन कांटे की टक्कर देखने को मिलेगी. इस दौरान कपिल देव ने यह भी कहा कि भारत पाकिस्तान मैच में कितना प्रेशर होता है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि धोनी के बाल तक सफेद हो गए.

पाकिस्तानी टीम से नाखुश हैं अकरम
अकरम हालांकि पाकिस्तान टीम के चयन को लेकर नाखुश दिखे. पाकिस्तान क्रिकेट टीम की लगातार हार से आहत पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने कहा, ‘पाकिस्तान को चाहिए था पहले पीएसएल देख लेता फिर टीम की घोषणा होती.’ उन्होंने एशिया कप में मिली हार पर कहा, ‘भारत के खिलाफ मैच था. विकेट हरी थी. उन्होंने टॉस जीता. एक-दो ओवर के बाद विकेट का पता चल जाता है. लेकिन जब विकेट पर उतरे तो सभी मारने की हड़बड़ी में थे. बॉलिंग सही रही. लेकिन बैटिंग के मामले में ऐसा नहीं था.’

पाकिस्तान के पतन से नाराज हैं कपिल
दूसरी ओर कपिल देव ने भी पाकिस्तान क्रिकेट के गिरते स्तर पर चिंता जताई और कहा, ‘जब आप अच्छा नहीं खेलते तो आपके टीम के प्रत्येक क्रिकेटर को सपोर्ट की जरूरत पड़ती. भारत जब ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में हारा तब भी ये था कि इनसे बड़ा खिलाड़ी नहीं है. हम बहुत जल्दी आलोचना करने लगते हैं. टैलेंट डेवलप होने में थोड़ा वक्त लगता है लेकिन जब ये हो जाता है तो परफॉर्मेंस मिलने लगता है. मैच नहीं जीते तो दूसरे कप्तान को लाओ, यही पाकिस्तान में चल रहा है.’

वसीम अकरम ने उनसे इत्तेफाक रखते हुए कहा, ‘हमारे सेलेक्टर्स को पता नहीं क्या करना है.’

‘भारत के लोग शारजाह की बात नहीं करते’
जब दोनों मुल्कों के वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में खेलने की बातें होती हैं तो यह सवाल जरूर उठता है कि यहां पाकिस्तान ने अपना खाता अभी तक नहीं खोला. यही सवाल एक बार फिर सामने था.

कपिल ने गिनाई भारत की बैटिंग
इस पर कपिल देव ने एक एक कर सात भारतीय बल्लेबाजों के नाम गिनाए. उन्होंने कहा, ‘जैसा की सभी जानते हैं कि टीम इंडिया की सबसे बड़ी ताकत उनकी बल्लेबाजी है. रोहित, युवराज, शिखर, विराट, रैना, धोनी और अब तो पंड्या भी हैं. पाकिस्तान की टीम 80-90 की दशक जैसी नहीं है. तब उनका पलड़ा भारी था लेकिन आज हमारा. तब वो 10 में से सात जीतते थे लेकिन आज हम.

अकरम ने बताई मनोवैज्ञानिक बात
हालांकि वसीम अकरम ने इस पर सीधा बोलने से बचने की कोशिश की. उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले 12 सालों से इस सवाल के जवाब दे रहा हूं. 80 के दशक में भारत-पाकिस्तान के मुकाबले की बात करें तब आप ये नहीं पूछते शारजाह में भारत नहीं जीता लेकिन वर्ल्ड कप की बात जरूर करते हैं. मनोवैज्ञानिक असर होता है. जब पाकिस्तान की टीम वर्ल्ड टी20 में यहां आएगी तो बेहतर परफॉर्म करेगी.’

अफरीदी में टैलेंट बहुत है, कंट्रोल चाहिए
कपिल देव ने कहा, ‘अफरीदी में बहुत टैलेंट है लेकिन वो कितना संभालेंगे ये कहना मुश्किल है. बांग्लादेश में प्लेयर्स मैनेजमेंट की बातें कर रहे थे वो ये नहीं कह रहे थे कि हम अच्छा नहीं खेले. हमारे क्रिकेटर्स भी 80 के दशक में ये बोलते थे कि हम किसी के विषय में बोलते थे कि उनके पास टैलेंट की कमी नहीं है. उनको स्कूल टीचर चाहिए जो उन्हें पकड़ कर खिलाए.’

‘पाकिस्तान टीम में एक मैच विनर नहीं’
वसीम अकरम अपनी टीम के प्रदर्शन से इतने आहत थे कि उन्होंने यहां तक कह डाला कि पाकिस्तान में कोई एक मैच विनर नहीं है. उन्होंने कहा, ‘अब वो खालिद लतीफ एक नया लड़का ले कर आ रहे हैं. बैटिंग चल गई तो बॉलिंग उसके अनुरूप चल पड़ेगी क्योंकि बॉलिंग में टीम अच्छा कर रही है.’

भारत-पाक मैच में किसका पलड़ा भारी
इस सवाल पर दोनों इस बात पर सहमत थे कि उस दिन कौन कैसा खेलता है उस पर बहुत कुछ निर्भर होता है. हालांकि पिचें कैसी होंगी और कहां खेल रहे हैं इस पर भी बहुत कुछ निर्भर करता है.

कपिल ने कहा, ‘हमारे सात प्लेयर ऐसे हैं जो 15 गेंदों पर 40 रन बना सकते हैं. लेकिन इस बात पर ध्यान रखना होगा कि गेम छोटी है सिर्फ मारने से काम नहीं चलेगा. मैं कभी भी अपनी टीम को ज्यादा नहीं आंकना चाहता. नहीं चाहता कि उन पर प्रेशर बने.

कपिल ने दिए फेवरेट टीमों को नंबर
मैं इस टीम को 40 फीसदी दूंगा. 10 फीसदी न्यूजीलैंड. 15 फीसदी पाकिस्तान को. भारत पाकिस्तान के बीच मुकाबले में टीम इंडिया का पलड़ा भारी. लेकिन बहुत कुछ उस दिन के खेल पर निर्भर करता है. 80 के दशक में 10 में से सात बार ये जीतते थे लेकिन आज ये उलटा है. भारत पाकिस्तान के बीच जब भी मैच हुआ है तो एकतरफा नहीं हुआ. लेकिन भारत पाकिस्तान के बीच मुकाबले में प्रेशर अलग ही होता है. हम जब कभी खेलते थे तो हम मैदान में पिछले नतीजे पर नहीं बल्कि उस दिन के मैच पर ध्यान देते थे.’

बॉलिंग मजबूत, बैटिंग पर करना होगा काम
अकरम ने कहा, ‘नई गेंद से आमिर अच्छी बॉलिंग करता है. एक बार वो सेट हो गया तो उसे रोकना मुश्किल है. पाकिस्तान के प्लेयर को अच्छी बल्लेबाजी करनी होगी. अगर बैटिंग चल गई तो बॉलिंग ये कर लेंगे और मैच निकाल ले जाएंगे.’

इसी बीच कपिल ने अकरम पर चुटकी ले ली और कहा, ‘पाकिस्तान को हार की आदत पड़ गई है.’

उन्होंने कहा, ‘दोनों मुल्कों के मैच में बहुत प्रेशर होता है. भारत पाकिस्तान के बीच क्रिकेट में प्रेशर कितना है इसका अंदाजा धोनी के दाढ़ी के बाल सफेद हुए.

अकरम ने कहा, ‘पिछले मुकाबले को दिमाग से निकाल दें. हार से घबराएं नहीं. आखिरी गेंद तक लड़ें.’

धर्मशाला में मैच होगा या नहीं इस पर अकरम ने कहा, ‘मैं उम्मीद करता हूं कि टीम को अच्छी से अच्छी सुरक्षा मिलेगी जो दोनों मुल्कों की आवाम के लिए बेहतर होगा.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay