एडवांस्ड सर्च

टेस्ट क्रिकेट की बदौलत बुमराह ने पाया स्विंग पर गजब कंट्रोल: इरफान पठान

बुमराह को टेस्ट क्रिकेट में आगाज़ का मौका 2018 के शुरू में दिया गया. राइट ऑर्म, अनऑर्थोडॉक्स बोलर बुमराह के लिए हर मैच के साथ देश-विदेश में उनके प्रशंसकों की संख्या बढ़ती जा रही है.

Advertisement
aajtak.in
रसेश मंडानी मुंबई, 11 September 2019
टेस्ट क्रिकेट की बदौलत बुमराह ने पाया स्विंग पर गजब कंट्रोल: इरफान पठान जस्प्रीत बुमराह (File photo: IANS)

जसप्रीत बुमराह...नाम ही काफी है किसी भी बैट्समैन को खौफ में लाने के लिए. जी हां, भारत के पेस अटैक के लीडर बुमराह ने जिस तेज़ी के साथ पूरी दुनिया में अपनी धाक जमाई है, वो बेमिसाल है. टेस्ट क्रिकेट बुमराह कितने घातक रहे हैं इसका सबूत है महज 12 टेस्ट में उनका 62 विकेट झटकना. ये अपने आप में बताता है कि किसी भी बैट्समैन को बोलिंग पर सामने बुमराह को देखना क्यों दहशत में डाल देता है?

बुमराह को टेस्ट क्रिकेट में आगाज़ का मौका 2018 के शुरू में दिया गया. राइट ऑर्म, अनऑर्थोडॉक्स बोलर बुमराह के लिए हर मैच के साथ देश-विदेश में उनके प्रशंसकों की संख्या बढ़ती जा रही है. आईपीएल में बुमराह के साथ काम कर चुके शेन बॉन्ड और रिकी पॉन्टिंग ने पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि वो टेस्ट में बहुत कामयाब रहेंगे.

अपने टाइम में खुद भी भारत के ‘स्विंग सेंसेशन’ रह चुके इरफान पठान का मानना है कि टेस्ट क्रिकेट के एक्सपोजर ने बुमराह को कहीं ज्यादा धारदार बनाया. साथ ही बड़े मुकाबलों के लिए तैयार भी.

इरफान कहते हैं, ‘इंटरनेशनल क्रिकेट खेलते हुए बुमराह ने बाहर जाती स्विंगर को विकसित किया. अब उनकी इस पर पूरी कमांड दिखती है, ये टेस्ट क्रिकेट की बदौलत हुआ. जब आप टेस्ट क्रिकेट खेलते हैं, तो आप के सामने अलग अलग परिस्थितयों में बोलिंग करने की चुनौती होती है. नई गेंद के साथ, दूसरे सेशन में पुरानी गेंद के साथ और फाइनल सेशन में फिर अलग गेंदों के साथ.”

इरफान ने इंडिया टुडे से कहा, “एक दिन में कम से कम तीन से चार स्पेल करने होते हैं. इसी सब से आप अपने बारे में बहुत कुछ सीखते हैं. हां आपके पास गाइड करने के लिए कोच होते हैं, लेकिन एक बोलर के नाते आपको खुद अपने दिमाग का इस्तेमाल करना होता है. यही है वो बात.

बुमराह ने हाल में स्विंग पर शानदार कंट्रोल हासिल किया है. बैट्समैन के लिए उनके क्विक आर्म एक्शन को पढ़ना मुश्किल होता है. जिस तरह वो शॉर्ट रन अप से आउट स्विंगर निकालते हैं उसे खेलने में किसी भी बैट्समैन को दिक्कत हो सकती है. बुमराह अपने इस हथियार का अब ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने लगे हैं. वेस्ट इंडीज में उन्हें इसने काफी सफलता दिलाई.

इरफान कहते हैं कि बुमराह ने पिछले कुछ समय से अपने में काफी सुधार किया है. इरफान के मुताबिक “जब बुमराह ने इंटरनेशनल क्रिकेट खेलना शुरू किया तो वो अपने बोलिंग रन अप को पूरा करते हुए बायीं तरफ को थोड़ा गिरते थे. अब वो सीधे रहते हैं इसलिए उनका पूरा बैलेंस रहता है. बुमराह अब दोनों तरफ गेंद को मूव कराने में कामयाब होते हैं. इससे उन्हें काफी मजबूती मिली है. ये सब होते हुए भी एक अच्छी बात है कि बुमराह का स्वाभाविक बोलिंग एक्शन जस का तस है. जब आप अपने एक्शन को बार-बार रिपीट करते हैं तो आप अपनी आर्ट के मास्टर बन जाते हैं.”

अनिल कुंबले बुमराह में देश का सबसे महान फास्ट बोलर बनने की काबिलियत बता चुके हैं. वहीं ऑल टाइम बैटिंग ग्रेट विवियन रिचर्ड्स का कहना है कि अगर उन्हें फेस करने के लिए कहा जाता तो वो बुमराह की जगह डेनिस लिली को खेलना अधिक पसंद करते. ये अपने आप में ही बुमराह के लिए बहुत बड़ा कॉम्पलिमेंट है. बुमराह के स्किल्स के सभी एक्सपर्ट्स कायल नजर आते हैं.

इरफान के मुताबिक “बुमराह ने भारत के बोलिंग अटैक को कहीं बेहतर बना दिया है. अब वो दुनिया के बेस्ट बोलर हैं, चाहे रैंकिंग ऐसा कहे या ना कहे. नई गेंद हो या पुरानी, सफेद हो या लाल, बुमराह सभी के साथ अपनी धार बरकरार रखते हैं. हम बहुत किस्मत वाले हैं कि बुमराह जैसा बोलर हमारे पास है.”

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay