एडवांस्ड सर्च

इंग्लैंड में सीरीज के साथ हौसला भी हारा भारत, ये रहे बड़े कारण

सीरीज में टीम इंडिया 4 बार जीतने का हौसला हार गई, जिसकी वजह से उसे 4 मैच गंवाने पड़ गए. क्रिकेट एक टीम गेम है, किसी एक या दो खिलाड़ी पर निर्भर नहीं करता है.

Advertisement
तरुण वर्मानई दिल्ली, 12 September 2018
इंग्लैंड में सीरीज के साथ हौसला भी हारा भारत, ये रहे बड़े कारण जो रूट को जीत की बधाई देते कोहली

ओवल टेस्ट में सरेंडर के साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम को इंग्लैंड के हाथों पांच मैच की टेस्ट सीरीज में 1-4 से करारी शिकस्त मिली है. इस पूरी सीरीज में ऐसे कई मौके आए जब टीम इंडिया मैच के नतीजे अपने पक्ष में कर सकती थी, भारत ने बहुत सारी गलतियां कीं और इंग्लैंड को वापसी करने का न्योता दिया.

इस सीरीज में टीम इंडिया 4 बार जीतने का हौसला हार गई, जिसकी वजह से उसे 4 मैच गंवाने पड़ गए. क्रिकेट एक टीम गेम है, किसी एक या दो खिलाड़ी पर निर्भर नहीं करता है. विराट कोहली ने इस टेस्ट सीरीज में 593 रन बनाए हैं, लेकिन इसके बावजूद वह टीम इंडिया को सीरीज नहीं जिता पाए.

इंग्लैंड का कोई बल्लेबाज भले ही कोहली जितने रन नहीं बना पाया हो लेकिन, फिर भी इंग्लिश टीम ने सीरीज पर कब्जा कर लिया. सीरीज शुरू होने से पहले बड़ी-बड़ी बातें की जा रही थीं, लेकिन टेस्ट की ये नंबर 1 टीम फिसड्डी साबित हुई है.

बल्लेबाजी में लचर प्रदर्शन से लेकर टीम इंडिया के गेंदबाजों का अहम मौकों पर विकेट नहीं ले पाना उसे ले डूबा. इंग्लैंड की धरती पर सीरीज जीतने का बेहतर मौका गंवाने का सबसे बड़ा कारण यह रहा कि भारतीय टीम जिस भी मैच में अच्छी पकड़ बना लेती तो इंग्लैंड के पुछल्ले बल्लेबाज उस पर पानी फेर देते.

इन लम्हों में खराब खेलकर भारत ने गंवाई सीरीज

बर्मिंघम टेस्ट में सैम कुरेन टीम इंडिया के लिए सरदर्द साबित हुए. लॉर्ड्स में क्रिस वोक्स ने सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए अपने करियर का पहला शतक जड़कर भारत को जीत से महरूम रखा और साउथम्प्टन में एक बार फिर सैम कुरेन ने बर्मिंघम वाली स्क्रिप्ट लिख दी.

उम्मीद थी कि भारतीय टीम ओवल में टेस्ट मैच जीतकर अपनी इज्जत बचा लेगी. लेकिन, लगातार मिल रही हार के कारण हौसला हार चुकी टीम इंडिया इस मैच में मेजबान इंग्लैंड को टक्कर भी नहीं दे पाई.

पहली पारी में इंग्लैंड के 181 रन पर 7 विकेट गिराने के बाद टीम इंडिया ने अपनी पकड़ ऐसी ढीली की कि इंग्लैंड के आखिरी तीन बल्लेबाजों ने 151 रन जोड़ते हुए 332 का स्कोर बोर्ड पर लगा दिया.

ओवल में 118 रनों से हारी टीम इंडिया, इंग्लैंड ने 4-1 से जीती टेस्ट सीरीज

इसके बाद रवींद्र जडेजा और हनुमा विहारी की बदौलत भारत 292 के स्कोर तक पहुंच पाया. इंग्लैंड की दूसरी पारी में तो भारतीय गेंदबाजों ने पहले ही हथियार डाल दिए और एलिस्टेयर कुक और जो रूट की 259 रनों की पार्टनरशिप ने भारत को मैच से बाहर करते हुए 464 रनों का पहाड़ जैसा टारगेट दे डाला.

चौथी पारी में जब बारी भारतीय बल्लेबाजों की आई तो शिखर धवन (1), चेतेश्वर पुजारा (0) और कप्तान विराट कोहली (0) भी हिम्मत हार गए और पिच पर टिकने का जज्बा भी नहीं दिखाया. हालांकि राहुल और ऋषभ पंत ने अपनी पिछली नाकामियों से सीखते हुए शानदार शतक लगाए. लेकिन, वह टीम इंडिया को हार से नहीं बचा पाए.

अब आगे क्या?

अब विराट की सेना की असल परीक्षा ऑस्ट्रेलिया में होगी, क्योंकि वेस्टइंडीज जैसी टीम को हराना कोई बड़ी बात नहीं, वो सीरीज तो टीम इंडिया के लिए प्रैक्टिस मैचों की तरह होगी.

इंग्लैंड में ऋषभ पंत का कमाल- जो धोनी नहीं कर पाए, वो कर दिखाया

बल्लेबाज के रूप में विराट ने उम्मीद से कहीं बेहतर प्रदर्शन किया है, लेकिन कप्तान तभी सफल हो सकता है जब उसकी टीम प्रदर्शन करेगी. विराट कोहली से हमेशा उम्मीदें बहुत ऊंची रहती हैं और ऑस्ट्रेलिया में भी ऐसा होगा.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay