एडवांस्ड सर्च

मेजबान टीम के मुताबिक हो पिच, इसमे छिपाना क्या: शास्त्री

वानखेड़े पिच विवाद को इतिहास बताते हुए टीम इंडिया के निदेशक रवि शास्त्री ने आज कहा कि मेजबान टीमें बरसों से अपने अनुकूल पिचें बनाती आई है और इसमें कुछ छिपाने की जरूरत नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
पंकज श्रीवास्तव मोहाली, 03 November 2015
मेजबान टीम के मुताबिक हो पिच, इसमे छिपाना क्या: शास्त्री

वानखेड़े पिच विवाद को इतिहास बताते हुए टीम इंडिया के निदेशक रवि शास्त्री ने आज कहा कि मेजबान टीमें बरसों से अपने अनुकूल पिचें बनाती आई है और इसमें कुछ छिपाने की जरूरत नहीं है. भारतीय टीम पांच नवंबर से दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चार मैचों की श्रृंखला खेलेगी. शास्त्री ने कहा कि इसमें उम्दा क्रिकेट देखने को मिलेगा.

श्रृंखला बहुत रोमांचक होगी
उन्होंने यहां पीसीए स्टेडियम पर मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मेरा मानना है कि मेजबान टीम को अनुकूल पिचें मिलनी चाहिए . इसमें छिपाने जैसा कुछ नहीं है. यह सालों से होता आया है और अपने देश में आप इसकी अपेक्षा करते हैं. दक्षिण अफ्रीका या ऑस्ट्रेलिया में पिच पहले दिन से ही टर्न नहीं लेती तो यह देखना होगा कि यह पिच कैसी है.’ उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि आगामी श्रृंखला बहुत रोमांचक होगी, शायद पिछले दस साल में सबसे उम्दा क्योंकि दक्षिण अफ्रीका बेहतरीन फार्म में है.’

उन्होंने हालांकि उनके और वानखेड़े स्टेडियम के पिच क्यूरेटर सुधीर नायक के बीच अंतिम वनडे को लेकर हुए पिच विवाद पर टिप्पणी से इनकार कर दिया. दक्षिण अफ्रीका ने 438 रन बनाने के बाद भारत को 214 रन से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला 3-2 से जीती. शास्त्री ने उस पिच को लेकर तंज कसा था जबकि नायक ने कहा कि शास्त्री ने उन्हें अपशब्द कहे और मामला एमसीए तक चला गया.

वानखेड़े की घटना अतीत की बात
शास्त्री ने कहा, ‘वह घटना अतीत की बात है. हम वर्तमान की बात करते हैं. उसके बारे में बहुत कुछ मैं बोल चुका हूं और अब कुछ जोड़ने घटाने को नहीं है.’ भारत ने श्रीलंका को हाल ही में 22 साल बाद उसकी धरती पर टेस्ट श्रृंखला में हराया. टेस्ट कप्तान विराट कोहली की बतौर कप्तान यह पहली जीत थी. शास्त्री ने कोहली की तारीफ करते हुए कहा, ‘कोहली काफी समय से टेस्ट में कप्तानी कर रहा है और बखूबी कर रहा है. श्रीलंका में मिली जीत इसकी बानगी है. वह अभी और सीखेगा. इस टीम की औसत उम्र 25-26 बरस है और कप्तान भी उसी उम्र का है लिहाजा अभी इन्हें काफी क्रिकेट खेलनी है.’ शास्त्री ने कहा, ‘सबसे अच्छी बात यह है कि वे दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम से खेल रहे हैं. इससे काफी कुछ सीखने को मिलेगा.’

इनपुट- भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay