एडवांस्ड सर्च

छात्रों को लुभा रहा है इंजीनियरिंग क्षेत्र

अपनी जबरदस्त संभावनाओं की वजह से इंजीनियरिंग का क्षेत्र हमेशा से ही छात्रों के बीच आकर्षण भरा क्षेत्र रहा है. इस क्षेत्र में इलेक्ट्रिकल, मैटलर्जिकल, केमिकल और कंप्यूटर साइंस जैसे कोर्स छात्रों को आकर्षित करते रहे हैं.

Advertisement
03 August 2009
छात्रों को लुभा रहा है इंजीनियरिंग क्षेत्र

" "अपनी जबरदस्त संभावनाओं की वजह से इंजीनियरिंग का क्षेत्र हमेशा से ही छात्रों के बीच आकर्षण भरा क्षेत्र रहा है. इस क्षेत्र में इलेक्ट्रिकल, मैटलर्जिकल, केमिकल और कंप्यूटर साइंस जैसे कोर्स छात्रों को आकर्षित करते रहे हैं. देश भर में उम्दा प्रोफेशनल इंस्टीट्यूट्स की बढ़ती संख्या की बदौलत मॅरीन, पेट्रोलियम, नैनोटेक्नोलॉजी और बायोइंजीनियरिंग जैसे नए-नए विषयों में इंजीनियरिंग का यह क्षेत्र कॅरियर की अपार संभावनाएं पेश कर रहा है.

छात्रों के पास कॉलेजों के कई विकल्‍प
इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए आज छात्रों के सामने सरकारी कॉलेजों के साथ-साथ बड़ी संख्या में निजी क्षेत्र के पेशेवर कॉलेज मौजूद हैं. देश में एआइसीटीई से मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 1,346 है. एक अच्छे इंजीनियरिंग कोर्स में दाखिला लेने के लिए उपयुक्त संस्थान का चुनाव बेहद महत्वपूर्ण मसला है. इस संबंध में नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की एसोसिएट हेड स्मृति श्रीवास्तव कहती हैं, ''संस्थान का प्लेसमेंट रिकॉर्ड, फैकल्टी की काबिलियत और उनके रिसर्च संबंधी तथ्यों आदि की पड़ताल कर लें. इस बात को भी जांच लें कि सिविल, मैकेनिकल जैसे विषयों की तुलना में सॉफ्टवेयर इंजीनयरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग जैसे विषयों में कौन से ब्रांचेज संस्थान में चलाए जा रहे हैं.''

एअरोस्पेस इंजीनियर की है अच्‍छी मांग
देश में इंजीनियरिंग संस्थानों से हर साल 600 से लेकर 700 एअरोस्पेस इंजीनियर तैयार होते हैं, जबकि इनकी मांग 5,000 के आसपास है. एअरोस्पेस इंजीनियरिंग की पढ़ाई कराने वाले प्रमुख संस्थान हैं-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बंगलुरू; आइआइटी (खड़गपुर, कानपुर, मुंबई); एकेडमी ऑफ एअरोस्पेस ऐंड एविएशन, इंदौर;  इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एअरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, देहरादून और पीएएमई कॉलेज, पटियाला. बायोइंजीनियरिंग के क्षेत्र में अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट कोर्स चलाने वाले इंजीनियरिंग कॉलेज हैं-नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली; यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजी. ऐंड टेक्नो., पंजाब यूनिवर्सिटी; दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग; एनआइटी (दुर्गापुर, जालंधर).

उभरता क्षेत्र है मॅरीन इंजीनियरिंग
इंजीनियरिंग में एक अन्य उभरता क्षेत्र है- मॅरीन इंजीनियरिंग. डायरेक्टर जनरल ऑफ शिपिंग (डीजीएस) ने हाल ही में पोर्ट्‌स की कुल क्षमता को मौजूदा 51.7 करोड़ टन से बढ़ाकर 2012 तक 2,00 करोड़ टन करने का लक्ष्य रखा है. ये आंकड़े मॅरीन इंजीनियरों की बढ़ती मांग को दर्शाते हैं. प्राइसवाटरहाउस कूपर के 2006 के सर्वे में यह बात सामने आई थी कि इंडियन इंडस्ट्री को 2017 तक अतिरिक्त 800 पेट्रो-टेक्निकल स्टुडेंट्स की जरूरत होगी, जिनमें से 600 की जरूरत 2012 तक होगी. कई यूनिवर्सिटीज ऐसी हैं जो पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में पांच साल के दोहरे कोर्स (बी.टेक और एम.टेक डिग्री) चलाती हैं, जैसे इंडियन स्कूल ऑफ माइंस यूनिवर्सिटी, धनबाद और इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम टेक्नोलॉजी, गांधीनगर,  गुजरात. कानपुर स्थित हरकोर्ट बटलर टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के विभागाध्यक्ष प्रो. ओंकार सिंह कहते हैं, ''संस्थान का चुनाव करते समय इस बात पर भी ध्यान दें कि वह कितना पुराना है, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के मामले में उसकी प्रतिष्ठा कैसी रही है. लैब फैसिलिटी और पढ़ाई की भी पड़ताल कर लें.'' प्रो. ओंकार सिंह का मानना है कि देश के हिंदी भाषी क्षेत्रों में आ रहे इंजीनियरिंग विषयों के नए-नए पेशेवर संस्थानों को प्रतिस्पर्धी बनना छात्रों को आगे ले जाने की दिशा में एक जरूरी शर्त होगी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay