एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सिपाही जसविंदर सिंह का आखिरी दांव

घायल होने के बावजूद वे गोलीबारी के बीच रेंगते हुए अंतिम दम तक अपने गश्‍ती दल को बचाने की कोशिश करते रहे.
सिपाही जसविंदर सिंह का आखिरी दांव
आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 24 July 2009

कई दिनों तक 20 वर्षीया गुरदयाल कौर पुराने श्‍वेत-श्‍याम टीवी सेट से चिपकी रहकर इस उम्‍मीद में लड़ाई की खबरें देखती रही थीं कि उन्‍हें अपने पति सिपाही जसविंदर सिंह (23 वर्ष, 8 सिख रेजिमेंट) की एक झलक देखने को मिल जाएगी. उनकी शादी को अभी चार महीने ही हुए थे, पर वे पति को दोबारा नहीं देख पाई. इसकी जगह युद्ध ने पति को घर की चौखट पर भिजवा दिया ताबुत में बंद शव के रुप में. पंजाब के गांव मुन्‍ने में स्‍तब्‍ध गुरदयाल आज अपने पति के आखिरी शब्‍दों को यार करती हैं, ''डरने की कोई बात नहीं है. मैं ऐसे आतंकवादियों के खिलाफ कश्‍मीर में तीन साल तक लड़ चुका हूं.''

देश की विपत्ति टालने में कामयाब रहा
नेत्रहीन किसान जोगिंदर सिंह के तीन बेटों में सबसे छोटे जसविंदर 17 साल की उम्र में ही घर से निकल गए थें. जसविंदर ने आखिरी बार 21 मई को जोखिम लिया. टाइगर हिल में घुसपैठियों की टोह लेने गए अग्रिम गश्‍ती दल के सदस्‍य जसविंदर की दोनों जांघों में गोलियां लगीं. अंतिम सांस तक वे दुश्‍मन पर गोलियां चलाते रहे. पिता जोगिंदर सिंह कहते हैं, ''दुश्‍मन को रोकने के लिए किसी-न-किसी को कुर्बानी देनी ही पड़ती है.'' गुरदयाल कहती हैं, ''यही सोचकर सांत्‍वना मिलती है कि हमारे परिवार पर आई विपत्ति से देश की विपत्ति टल सकती है.''

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay