एडवांस्ड सर्च

Advertisement

गवैया सिपाही: कैप्‍टन हनीफुद्दीन

कैप्‍टन हनीफुद्दीन और उनकी यूनिट ने घुसपैठियों के हमले और तोप के गोलों का जवाब छोटे हथियारों से दिया.
गवैया सिपाही: कैप्‍टन हनीफुद्दीन
आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 24 July 2009

एक पल में है सब सारी जिंदबी का, इस पल में जी लो यारों, यहां कल है किसने देखा. कैप्‍टन हनीफुद्दीन (24 वर्ष, 11 राजपूताना राइफल्‍स)  सरीखे बेहतरीन गायक-जवान के एलबम के इस गाने से जुड़ी विडंबना को भूलाना मुश्किल है. हनीफ अपने छोटे भाई समीर के लिखे इस गीत के मुताबिक ही जिए जिसे वे अपने जवानों के सामने गाकर भी सुनाते थें. उनके बिना किसी तैयारी के शुरू किए ''जाज़ बैंड'' ने जिंदगी और संगीत के प्रति उनके उत्‍साह को पहाड़ों में भी फैलाया और उन जवानों को काफी सुकून पहुंचाया, जो टीवी और बाकी दुनिया के कटे रहकर नीरसता और तनाव से जूझते रहते हैं.

हनीफुद्दीन के नाम पर पड़ा सब सेक्‍टर का नाम
सेना ने उनके सम्‍मान में तुरतुक का नाम हनीफुद्दीन सब सेक्‍टर रखा है. हनीफ उसी दिन वीरगति को प्राप्‍त हुए जिस दिन दो साल पहले उन्‍हें सेना में कमीशन मिला था. यह बांका नौजवान- उन्‍हें दिल्‍ली के शिवाजी कॉलेज में मिस्‍टर शिवाजी का खिताब मिला था- बहुआयामी प्रतिभा का धनी था और 1996 में भारतीय सेना अकादमी में भर्ती होने से पहले उन्‍होंने कंप्‍यूटर का प्रशिक्षण लिया था. उन्‍हें 7 जून 1997 को सेना में कमीशन मिला.

हथियार खत्‍म होने के बाद भी किया मुकाबला
बर्फ से ढकी चोटियों पर दुश्‍मन को मार गिराने के लिए हनीफ तोपों की गोलाबारी के बावजूद आगे बढ़ते रहे. हथियार खत्‍म होने और कई जवानों के खेत रहने के बावजूद हनीफ आखिरी दम तक जूझते रहे.

वीर सिपाही था हनीफुद्दीन
हनीफ सात साल के ही थे कि पिता का साया उनके सिर से उठ गया. उनकी शास्‍त्रीय गायिका मां हेमा अज़ीज़ देश भर के शोकसंतप्‍त परिवारों की तरह धैर्य का परिचय देती हैं, ''सैनिक के रुप में हनीफ ने गर्व और समर्पण भाव से देश की सेवा की. उसेक शौर्य की इससे बड़ी गाथा नहीं हो सकती कि वह दुश्‍मन से लड़ते हुए शहीद हुआ.''

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay