एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वचन का पक्‍का सिपाही

गश्‍ती दल में शामिल अमरदीप सिंह (24 वर्ष, 16 ग्रेनेडियर्स) और उनका एक साथी शहीद जवानों शव लाने के प्रयास में खुद शहीद हो गए.
वचन का पक्‍का सिपाही
आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 24 July 2009

गश्‍ती दल में शामिल अमरदीप सिंह (24 वर्ष, 16 ग्रेनेडियर्स) और उनका एक साथी शहीद जवानों शव लाने के प्रयास में खुद शहीद हो गए.

बचपन में वे अपने पड़ोसी के घर की खिड़की से झांककर टीवी पर गणतंत्र दिवस की परेड देखा करते थे. गहरे हरे रंग की पोशाकों में सजे जवानों को देखकर वे रोमांचित हो उठते. वह छवि इतनी आकर्षक और प्रेरक थी कि मैट्रिक की परीक्षा से पहले ही अमरदीप सिंह ने वही वर्दी पहनने का संकल्‍प कर लिया.

घुसपैठियों को दिया करारा जवाब
उनका ऐसा संकल्‍प 8 मई को करगिल की बर्फीली चोटियों पर दिखा. घुसपैठियों की टोह लेने तथा करारा जवाब देने के लिए पहले गश्‍ती दल में शामिल किए गए अमरदीप और उनके साथी हवलदार जयप्रकाश ने 14,000 फुट की ऊंचाई पर 4 घंटे तक शत्रु की गोलियों की बौछार झेली. घायल अमरदीप को उनके जेसीओ ने अपनी जगह से हट जाने को कहा, फिर भी वे जमे रहे. जयप्रकाश के साथ उन्‍होंने मोर्चा संभाले रखा. अपने छह जवान खो चुके इस दल का आधार शिविर से संपर्क टूट चुका था और उनकी पहली जिम्‍मेदारी शहीद जवानों के शव वापस लाने की थी, मगर सीने और पेट पर कई गोलियां लगने के बाद दोनों जवान वीरगति को प्राप्‍त हो गए.

तिरंगे में लिपटा आया शहीद
अमरदीप को अचानक घर पहुंचकर लोगों को हैरान करने में मजा आता था लेकिन 13 मई को कोई हैरान नहीं था. उनके शोकाकुल पिता प्रेम सिंह ने कहा कि इस बार अमरदीप ने हमें झटका दिया है. आखिरी बार अमरदीप ताबूत में घर लौटे तो उनका शव तिरंगे में लिपटा था. हरियाणा के पानीपत जिले के अंदरूनी इलाके में बसे साधारण-से गांव बंध के बच्‍चों के लिए अमरदीप रातोंरात आदर्श बन गए थें और लड़कें उनकी तरह नायक बनना चाहते हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay