Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

रामधारी सिंह दिनकर: जिनकी कविताओं ने आजादी के दौरान किया लोगों को जागरूक

हिंदी के प्रसिद्ध लेखक, कवि रामधारी सिंह 'दिनकर' की आज जयंती है. उनका जन्म आज ही के रोज 23 सितंबर, 1908 बिहार में हुआ था. दिनकर आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं. उनकी कविताओं ने आजादी की लड़ाई में लोगों को जागरूक किया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 23 September 2019
रामधारी सिंह दिनकर: जिनकी कविताओं ने आजादी के दौरान किया लोगों को जागरूक रामधारी सिंह दिनकर

हिंदी के प्रसिद्ध लेखक, कवि रामधारी सिंह 'दिनकर' की आज जयंती है. उनका जन्म आज ही के रोज 23 सितंबर, 1908 बिहार में हुआ था. दिनकर आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं. उनकी कविताओं ने आजादी की लड़ाई में लोगों को जागरूक किया.

रामधारी सिंह दिनकर ऐसे ही कवियों में से एक थे. जिनकी कविताएं किसी अनपढ़ किसान को भी उतनी ही पसंद है जितनी कि उन पर रिसर्च करने वाले स्कॉलर को भी.

दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 को बिहार के बेगुसराय जिले के सिमरिया गांव में हुआ था. तीन साल की उम्र में सिर से पिता का साया उठ जाने के कारण उनका बचपन अभावों में बीता. लेकिन घर पर रोज होने वाले रामचरितमानस के पाठ ने दिनकर के भीतर कविता और उसकी समझ के बीज बो दिए थे. राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ ने हिंदी साहित्य में न सिर्फ वीर रस के काव्य को एक नई ऊंचाई दी, बल्कि अपनी रचनाओं के माध्यम से राष्ट्रीय चेतना का भी सृजन किया. रामधारी सिंह दिनकर एक ओजस्वी राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत कवि के रूप में जाने जाते थे.

साहित्यिक जीवन

रामधारी सिंह दिनकर का कवि के रूप में जीवन साल 1935 से शुरू हुआ. जब छायावाद के कुहासे को चीरती हुई 'रेणुका' प्रकाशित हुई और हिंदी जगत एक बिल्कुल नई शैली, नई शक्ति, नई भाषा की गूंज से भर उठा.

जिसके बाद 'हुंकार' प्रकाशित हुई, तो देश के युवा वर्ग ने कवि और उसकी ओजमयी कविताओं को कंठहार बना लिया. सभी के लिए वह अब राष्ट्रीयता, विद्रोह और क्रांति के कवि थे, 'कुरुक्षेत्र' द्वितीय महायुद्ध के समय की रचना है, किंतु उसकी मूल प्रेरणा युद्ध नहीं, देशभक्त युवा मानस के हिंसा-अहिंसा के द्वंद से उपजी थी.

आपको बता दें, देश की आजादी की लड़ाई में भी दिनकर ने अपना योगदान दिया. वह बापू के बड़े मुरीद थे. हिंदी साहित्य के बड़े नाम दिनकर उर्दू, संस्कृत, मैथिली और अंग्रेजी भाषा के भी जानकार थे. साल 1999 में उनके नाम से भारत सरकार ने डाक टिकट जारी किया.

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की कुछ कविताएं..

1) कलम, आज उनकी जय बोल

जला अस्थियाँ बारी-बारी

चिटकाई जिनमें चिंगारी,

जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर

लिए बिना गर्दन का मोल

कलम, आज उनकी जय बोल.

2. हमारे कृषक

जेठ हो कि हो पूस, हमारे कृषकों को आराम नहीं है

छूटे कभी संग बैलों का ऐसा कोई याम नहीं है

मुख में जीभ शक्ति भुजा में जीवन में सुख का नाम नहीं है

वसन कहां? सूखी रोटी भी मिलती दोनों शाम नहीं है

3. भारत का यह रेशमी नगर

भारत धूलों से भरा, आंसुओं से गीला, भारत अब भी व्याकुल विपत्ति के घेरे में.

दिल्ली में तो है खूब ज्योति की चहल-पहल, पर, भटक रहा है सारा देश अँधेरे में.

रेशमी कलम से भाग्य-लेख लिखनेवालों, तुम भी अभाव से कभी ग्रस्त हो रोये हो?

बीमार किसी बच्चे की दवा जुटाने में, तुम भी क्या घर भर पेट बांधकर सोये हो?

4. परशुराम की प्रतीक्षा

हे वीर बन्धु ! दायी है कौन विपद का ?

हम दोषी किसको कहें तुम्हारे वध का ?

यह गहन प्रश्न; कैसे रहस्य समझायें ?

दस-बीस अधिक हों तो हम नाम गिनायें

पर, कदम-कदम पर यहाँ खड़ा पातक है,

हर तरफ लगाये घात खड़ा घातक है

5. समर शेष है....

ढीली करो धनुष की डोरी, तरकस का कस खोलो,

किसने कहा, युद्ध की वेला चली गयी, शांति से बोलो?

किसने कहा, और मत वेधो ह्रदय वह्रि के शर से,

भरो भुवन का अंग कुंकुम से, कुसुम से, केसर से?

कुंकुम? लेपूं किसे? सुनाऊं किसको कोमल गान?

तड़प रहा आंखों के आगे भूखा हिन्दुस्तान.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay