वित्त मंत्री जी! मंजूर हाशमी ने 'न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं' भी लिखा था

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में मंजूर हाशमी का मशहूर शेर 'यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है' पढ़ा, पर उनका 'न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं, बस एक गोशा-ए-अमन-ओ-अमान माँगते हैं' जैसा शेर भी याद किए जाने लायक है

Advertisement
जय प्रकाश पाण्डेयनई दिल्ली, 05 July 2019
वित्त मंत्री जी! मंजूर हाशमी ने 'न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं' भी लिखा था संसद भवन की सीढ़ियों पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण [ इनसेट में मंजूर हाशमी ]

नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का बजट कई मायनों में खास था. हिंदी और उर्दू के शायर और दार्शनिकों का भी जिक्र हुआ. वित्त के साथ साहित्य को मिलाने की अपनी मौज है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपने बजट भाषण में उर्दू अदब के मशहूर शायर मंजूर हाशमी की एक ग़ज़ल को याद किया. निर्मला ने हाशमी की लिखी एक ग़ज़ल का जो पहला शेर पढ़ा वह यों था

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है
हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है

निर्मला सीता रमण ने इस शायरी के साथ ही सांसदों की खूब तालियां बटोरी. मंजूर हाशमी की वह पूरी ग़ज़ल यों है.

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है

                 -मंजूर 'हाशमी'

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है
हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है

सफ़र में अब के ये तुम थे के ख़ुश-गुमानी थी
यही लगा के कोई साथ साथ चलता है

ग़िलाफ़-ए-गुल में कभी चाँदनी के पर्दे में
सुना है भेस बदल कर भी वो निकलता है

लिखूँ वो नाम तो कागज़ पे फूल खिलते हैं
करूँ ख़याल तो पैकर किसी का ढलता है

रवाँ-दवाँ है उधर ही तमाम ख़ल्क-ए-ख़ुदा
वो ख़ुश-ख़िराम जिधर सैर को निकलता है

उम्मीद ओ यास की रूत आती जाती रहती है
मगर यक़ीन का मौसम नहीं बदलता है

इस ग़ज़ल में एक हिम्मत, एक कोशिश व एक उम्मीद है. पर यहां यह जानना और भी मौजूं है कि मंजूर हाशमी ने जनता की उम्मीदों को लेकर और भी कुछ लिखा था. उत्‍तर प्रदेश से ताल्‍लुक रखने वाले मंजूर 'हाशमी' का जन्म 14 सितंबर, 1935 को बदायूं में हुआ. अपने जीवनकाल में उन्‍होंने उर्दू और हिंदी में ढेरों गजल, शायरी और कविताएं लिखीं. वित्त मंत्री द्वारा एक उर्दू शायर के जिक्र से उर्दू- हिंदी का साहित्य जगत बहुत खुश हुआ, पर इन्हीं में से कुछ का कहना है कि यह अच्छी बात है कि केंद्र सरकार ने मंजूर 'हाशमी' की शायरी का जिक्र किया, पर बेहतर होगा कि सरकार उनके इस शेर के साथ उनकी 'न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं' जैसी ग़ज़ल पर भी गौर फरमाए, और देश में अमन ओ चैन की दिशा में भी गंभीरता से सोचे. मंजूर हाशमी की वह ग़ज़ल हैः

'न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं'

                                             -मंजूर 'हाशमी'

न कोई ज़मीं न कोई आसमाँ माँगते हैं
बस एक गोशा-ए-अमन-ओ-अमान माँगते हैं

कुछ अब के धूप का ऐसा मिज़ाज बिगड़ा है
दरख़्त भी तो यहाँ साए-बान माँगते हैं

हमें भी आप से इक बात अर्ज़ करना है
पर अपनी जान की पहले अमान माँगते हैं

क़ुबूल कैसे करूँ उन का फै़सला के ये लोग
मेरे ख़िलाफ़ ही मेरा बयान माँगते हैं

हदफ़ भी मुझ को बनाना है और मेरे हरीफ़
मुझी से तरी मुझी से कमान माँगते हैं

नई फ़ज़ा के परिंदे हैं कितने मतवाले
के बाल-ओ-पर से भी पहले उड़ान माँगते हैं 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay