Sahitya AajTak
Indira Gandhi National Centre for the Arts, New Delhi

पुस्तक समीक्षा: चौपड़े की चुड़ैलें

समाज की कुरीतियों और विकृतियों को उजागर करती चौपड़े की चुड़ैलें.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
हर्षा शर्मा 12 November 2018
पुस्तक समीक्षा: चौपड़े की चुड़ैलें चौपड़े की चुड़ैलें

चौपड़े की चुड़ैलें पंकज सुबीर का एक कथा संग्रह है जिसमें नौ कहानियां दी गयी हैं. संकेत प्रधान शैली में लिखी गई पहली कहानी 'जनाब सलीम लंगड़े और श्रीमती शीला देवी की जवानी' में सामाजिक कुरीतियों और विकृतियों को उजागर किया गया है.

ये दोनों ही इस कहानी के मुख्य पात्र हैं. 'सलीम' नाम देकर कथा को सांप्रदायिक एंगल भी दिया गया है. शीला की शादी पास के गांव में हो गई है, लेकिन बाद में उसकी पहली शादी गांव की परंपरा के मुताबिक तोड़ दी जाती है और वह वापस अपने पिता के साथ आकर रहने लग जाती है. इसी दौरान उसका सलीम लंगड़े से मेल जोल बढ़ता है और सलीम की जान पर बन आती है.

दूसरी कहानी 'अप्रैल की एक उदास रात' मूलतः एक प्रतिशोध कथा है जिसमें फिल्मी और गैर फिल्मी गीतों के माध्यम से नायिका के विरह और वेदना को चित्रित किया गया है. कहानी के संवाद पाठकों को एकदम अपने में बांध लेते हैं. दिन, रात और दोपहर का वर्णन कथा में बखूबी किया गया है और अंत एकदम पाठक को अचंभित करके छोड़ जाता है.

तीसरी कहानी 'सुबह अब होती है.. अब होती है... अब होती है..' एक रहस्य-रोमांच से भरी अपराध-कथा है लेकिन साथ ही यह समाज से संघर्ष करती स्त्री के असमंजस को भी दर्शाती है. कहानी में उम्र की दूरियों से उपजती संवेदना और अंतर की पीड़ा का  सजीव चित्रण किया गया  है. अंत में खुलने वाला राज बड़ा रोमांचित करता है.

चौथी कहानी 'चौपड़े की चुड़ैलें' संकलन की मुख्य कहानी है. इसमें 'चुड़ैल' रूपक की सुंदरता का बड़ा अद्भुत प्रभाव उत्पन्न करती है. आमों का बाग और हवेली की बावड़ी पर आम के बिखरे पत्तों की तुलना समाज में इंटरनेट और मोबाइल से युवाओं में उत्पन्न विकारों की कलई खोलती है. लेखक ने कथा के अंत में कई सवाल छोड़े हैं जो सचमुच विचारणीय हैं.

'इन दिनों पाकिस्तान में रहता हूँ' कहानी फ्लैशबैक और वर्तमान में गढ़ी गई है, जिसमें मुख्य पात्रा  भासा के अंतर का द्वंद्व उघाड़ा गया है. कथा में वर्तमान समाज में फैली हुई सांप्रदायिक भावना और पीड़ा को बड़ी बारीकी से दिखाया गया है.

'रेपिश्क' कहानी में अनेक विरोधाभास होते हुए भी यह समाज के गिरते हुए स्तर को दर्शाने में सफल रही है. हालांकि कई जगह यह पाठकों को असहज और असहमत करती है.

इसी प्रकार 'धकीकभोमेग' कहानी नरेटर के माध्यम से बाबाओं की दुनिया में ताक—झांक करती हुई वहां की कड़वी सच्चाइयों से अवगत कराती है. 'औरतों की दुनिया' और ‘चाबी’ कहानियां एक खास वर्ग के पाठकों को ध्यान में रखकर रची गयी हैं.

औरतों की दुनिया में पारिवारिक संबंधों के तानेबाने को दर्शाते हुए बताया गया है कि आपसी बातचीत में ठहराव रिश्तों को जड़ कर देता है, वहीं संवाद, वार्त्ता रिश्तों में जमी बर्फ को पिघला देता है. वहीं ‘चाबी' कहानी अनेक सामाजिक  उलझनों से होती हुई अंत में समाधान की और बढ़ती है.

कुल मिलकर पंकज सुबीर का यह कहानी संग्रह पाठकों को किस्सों की दुनिया में सैर कराने के साथ ही समाज की सच्चाइयों से रूबरू कराने का सार्थक प्रयास है.

हर्षा शर्मा इंडिया टुडे मीडिया इंस्टीट्यूट की छात्रा हैं और इंडिया टुडे में प्रशिक्षु हैं    

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay