Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

फहमीदा रियाज़: वो शायरा, जिसे पाकि‍स्तान में भारत का एजेंट कहा गया

पाकिस्तान की जानी-मानी शायरा फहमीदा रियाज अपनी बेबाकी के ल‍िए मशहूर थीं. पिछले हफ्ते 22 नवंबर को लंबी बीमारी के बाद लाहौर में उनका निधन हो गया.

Advertisement
aajtak.in
जय प्रकाश पाण्डेय नई दिल्ली, 12 September 2019
फहमीदा रियाज़: वो शायरा, जिसे पाकि‍स्तान में भारत का एजेंट कहा गया फहमीदा रियाज़

जो मुझ में छुपा मेरा गला घोंट रहा है
या वो कोई इबलीस है या मेरा ख़ुदा है

यह पंक्तियां फहमीदा रियाज़ की हैं. लेकिन फहमीदा रियाज़ कहां की थीं? किस भाषा की? उर्दू की, पंजाबी की या हिंदी की? हिंदुस्तान की या पाकिस्तान की? मानवता की या महिलाओं की? क्या बोलती थीं? क्या कहती थीं, क्या लिखती थीं? क्या पाना चाहती थीं? अब जब 73 साल की उम्र में उन्होंने इस दुनिया से रुखसत कर लिया है, तो उन्हें लेकर, उनसे जुड़े, उनके कहे गए अल्फाज, झेला गया दर्द, बंटवारा, तानाशाही और फिरकापरस्ती सब याद आ रहे. यह ऐसे ही नहीं है कि भारत-पाकिस्तान की इस मशहूर शायरा और मानवाधिकार कार्यकर्ता ने लंबी बीमारी के बाद लाहौर में जब आखिरी सांस ली, तब भी उनका दिल भारत के लिए धड़क रहा था.

पुण्यत‍िथ‍ि व‍िशेष: भुलाए नहीं जा सकते 'काल-कथा' और कामतानाथ

इसकी अपनी वजह भी थी. फहमीदा रियाज़ उत्तर प्रदेश के मेरठ में 28 जुलाई, 1945 को जन्मी थीं. पिता रियाजउद्दीन मशहूर शिक्षाशास्त्री थे, जिनका तबादला सिंध प्रांत में होने के बाद परिवार पाकिस्तान वाले हैदराबाद शहर में जा बसा. मगर फहमीदा जब महज 4 साल की थीं, जब पिता गुजर गए. मां हुस्ना बेगम ने इन्हें पालकर बड़ा किया. परिवार का माहौल साहित्यिक था, जिसका उन पर काफी असर पड़ा. महिला संघर्ष के प्रति उनमें लगाव शायद इसीलिए आया. पढ़ाई पूरी करने के बाद शादी हुई जो जल्दी ही टूट गई. बाद में वामपंथी कार्यकर्ता जफर अली उजान से दूसरी शादी हुई. पहली शादी से एक बेटी है, जबकि दूसरी शादी से दो बच्चे हुए.

फहमीदा रियाज ने युवावस्था में ही लिखना शुरू कर दिया था. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने रेडियो पाकिस्तान और बीबीसी उर्दू में काम किया. कराची की एक विज्ञापन एजेंसी में भी काम किया. इसके बाद 'आवाज' नाम से एक उर्दू पत्रिका निकाली. आवाज के बेबाक तेवर ने पाकिस्तानी तानाशाह जनरल जिया उल हक सरकार का ध्यान खींचा. इसके बाद तो रियाज और उनके पति पर एक के बाद एक ताबड़तोड़ 10 से अधिक मुकदमे दर्ज हो गए, और इस तरह 'आवाज' पत्रिका खामोश कर दी गई. पति को जेल हुई. एक प्रशंसक ने रियाज का जमानत लेकर उन्हें जेल जाने से बचाया. उन्हें निर्वासन झेलना पड़ा और वह अपने बच्चों और बहन के साथ भारत आ गईं. रिहा होने के बाद पति भी भारत आ गए.

पुस्तक अंश- मैं हिंदू क्यों हूं: शशि थरूर के शब्दों में हिंदू और हिंदूवाद

पाकिस्तान से निर्वासित होने के बाद उनका परिवार सात साल तक दिल्ली में रहा और जनरल जिया उल हक की मौत के बाद ही पाकिस्तान लौटा. भारत में रहने के दौरान फहमीदा रियाज ने दिल्ली के जामिया विश्वविद्यालय में रहकर हिंदी पढ़ना सीखा. वापस लौटने के बाद वह बेनजीर भुट्टो सरकार में वह सांस्कृतिक मंत्रालय से जुड़ीं और उन्हें नेशनल बुक फाउंडेशन का प्रबंध निदेशक बनाया गया. भुट्टो के बाद जब नवाज शरीफ सत्ता में आए तब रियाज को 'भारत की एजेंट' कहा गया. उन्हें धमकियां दी गईं. बेनजीर के दोबारा सत्ता में आने के बाद फहमीदा रियाज को कायदे आजम एकेडमी में नियुक्ति मिली. लेकिन बेनजीर के जाने के बाद वह फिर मुश्किल में घिर गईं. 2007 में उनपर एक निजी आफत आई, जब बेटे कबीर की डूबने मौत हो गई. इसके कुछ समय बाद उन्हें उर्दू डिक्शनरी बोर्ड का प्रबंध निदेशक बनाया गया. इस तरह उनके समूचे जीवन में उतार – चढ़ाव आता रहा. पर इससे कभी वह रुकी नहीं.

फहमीदा ने हमेशा पाकिस्तान सहित दुनिया भर में महिला अधिकारों और लोकतंत्र के लिए अपनी आवाज बुलंद की. उन्होंने ताउम्र हर तरह की कट्टरता और तानाशाही का विरोध किया. फहमीदा एक जानी मानी प्रगतिशील उर्दू लेखिका, कवयित्री, मानवाधिकार कार्यकर्ता और नारीवादी थीं. उन्होंने हमेशा उदारता और इंसानियत की तरफदारी की और अपने विचारों को बेबाकी से पेश किया. फहमीदा रियाज़ ने 15 किताबें लिखीं. उनकी कुछ मशहूर किताबों में 'पत्थर की जुबान', 'धूप', 'पूरा चांद', 'आदमी की ज़िन्दगी', 'गोदावरी' और 'जिन्दा बहार' शामिल हैं.

रियाज को भले ही पाकिस्तान में भारत का एजेंट कहा गया, लेकिन उन्होंने भारत में भी सांप्रदायिकता और कट्टरपंथ के बढ़ते असर का विरोध किया. भारत के इस हालात को लेकर वह बहुत दुखी थीं. पाकिस्तान ने कट्टरपंथिता से जो खोया था, वह नहीं चाहती थीं कि भारत भी उसके असर में आए. अपने मनोभावों को उन्होंने एक नज्म में पिरोया, जिसका नाम था 'तुम बिल्कुल हम जैसे निकले' . उसकी चंद  पंक्तियां देखें-

तुम बिल्‍कुल हम जैसे निकले
अब तक कहां छिपे थे भाई
वो मूरखता, वो घामड़पन
जिसमें हमने सदी गंवाई
आखिर पहुंची द्वार तुम्‍हारे
अरे बधाई, बहुत बधाई।

प्रेत धर्म का नाच रहा है
कायम हिंदू राज करोगे ?
सारे उल्‍टे काज करोगे !
अपना चमन ताराज़ करोगे !...

पर ऐसा नहीं है कि वह भारत के सियासी माहौल से बेजार हो हताश थीं. संघर्ष और प्यार उनके लहू में था. फहमीदा रियाज दिल्ली को अपना दूसरा घर मानती थीं. इसलिए श्रद्धांजलि स्वरूप दिल्ली पर लिखी उनकी नज्म यहां पेश हैः

दिल्ली! तिरी छांव बड़ी क़हरी
मिरी पूरी काया पिघल रही
मुझे गले लगा कर गली गली
धीरे से कहे'' तू कौन है री?''

मैं कौन हूं मां तिरी जाई हूं
पर भेस नए से आई हूं
मैं रमती पहुंची अपनों तक
पर प्रीत पराई लाई हूं
तारीख़ की घोर गुफाओं में
शायद पाए पहचान मिरी
था बीज में देस का प्यार घुला
परदेस में क्या क्या बेल चढ़ी
नस नस में लहू तो तेरा है
पर आंसू मेरे अपने हैं
होंठों पर रही तिरी बोली
पर नैन में सिंध के सपने हैं
मन माटी जमुना घाट की थी
पर समझ ज़रा उस की धड़कन
इस में कारूंझर की सिसकी
इस में हो के डालता चलतन!

तिरे आँगन मीठा कुआं हंसे
क्या फल पाए मिरा मन रोगी
इक रीत नगर से मोह मिरा
बसते हैं जहां प्यासे जोगी
तिरा मुझ से कोख का नाता
मिरे मन की पीड़ा जान ज़रा
वो रूप दिखाऊं तुझे कैसे
जिस पर सब तन मन वार दिया
क्या गीत हैं वो कोह-यारों के
क्या घाइल उन की बानी है
क्या लाज रंगी वो फटी चादर
जो थर्की तपत ने तानी है
वो घाव घाव तन उन के
पर नस नस में अग्नी दहकी
वो बाट घिरी संगीनों से
और झपट शिकारी कुत्तों की
हैं जिन के हाथ पर अंगारे
मैं उन बंजारों की चीरी
माँ उन के आगे कोस कड़े
और सर पे कड़कती दो-पहरी
मैं बंदी बांधूं की बांदी
वो बंदी-ख़ाने तोड़ेंगे
है जिन हाथों में हाथ दिया
सो सारी सलाख़ें मोड़ेंगे
तू सदा सुहागन हो मां री!

मुझे अपनी तोड़ निभाना है
री दिल्ली छू कर चरण तिरे
मुझ को वापस मुड़ जाना है

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay