Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

पुण्यतिथि विशेषः परिचय इतना इतिहास यही... महादेवी वर्मा जो थीं

हिंदी साहित्य की महिषी लेखिका महादेवी वर्मा उन विरले साहित्यकारों में से एक हैं, जिन्होंने भाषा और शिल्प में नवाचार की बुनियाद रखी.

Advertisement
aajtak.in
जवाहर लाल नेहरू नई दिल्ली, 11 September 2019
पुण्यतिथि विशेषः परिचय इतना इतिहास यही... महादेवी वर्मा जो थीं महादेवी वर्मा [फाइल फोटो]

हिंदी साहित्य की महिषी लेखिका महादेवी वर्मा उन विरले साहित्यकारों में से एक हैं, जिन्होंने भाषा और शिल्प में नवाचार की बुनियाद रखी. वह हिंदी साहित्य के छायावाद के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं. सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, जयशंकर प्रसाद, सुमित्रानंदन पंत के साथ उन्होंने हिंदी के एक पूरे युग को दिशा दी. इसीलिए जब वह कहती हैं-

मैं नीर भरी दुख की बदली
परिचय इतना इतिहास यही
उमड़ी कल थी मिट आज चली.

तो सहज भरोसा नहीं होता. आज उनकी पुण्यतिथि है. महादेवी वर्मा विलक्षण प्रतिभा की धनी कवयित्री थी, और उससे भी कहीं अधिक मानवीय रूप में 'देवी'. महादेवी यों ही उनका नाम नहीं था. हिंदी साहित्य के महान कवि निराला महादेवी को 'सरस्वती' नाम से पुकारते थे.  उन्हें आधुनिक युग की 'मीरा' भी कहा जाता है.

महादेवी वर्मा का जन्म 26 मार्च साल 1907 को उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में हुआ था. उनके पिता गोविंद प्रसाद वर्मा ने उनका नाम रखा महादेवी. पिता पेशे से शिक्षक थे और मां हेमरानी देवी एक गृहणी. अपने घर-परिवार में महादेवी इकलौती बेटी थी. उनकी प्रारम्भिक शिक्षा इंदौर के मिशन स्कूल में हुई. इसके बाद उन्होंने इलाहाबाद में क्रास्थवेट कॉलेज में दाखिला ले लिया. उन्हें बचपन से ही लिखने-पढ़ने का खूब शौक था.

वह महज 7 साल की थीं, जब उन्होंने कविताएं लिखना शुरु कर दिया. महादेवी ने बाल्यावस्था में ही मीरा, सूर और तुलसी जैसे भक्त कवियों की रचनाओं पढ़ना और गुनना शुरू कर दिया था. कालांतर में ये महान कवि ही उनकी प्रेरणा का स्रोत बने. महादेवी जब छोटी ही थी कि साल 1916 में उनकी शादी डॉ स्वरूप नारायण वर्मा से कर दी गई. शादी के बाद भी उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी. हालांकि उनका दाम्पत्य जीवन सफल नहीं रहा. पर उन्हें एक दिशा मिल चुकी थी.

महादेवी ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से संस्कृत में उच्च शिक्षा हासिल की. उच्च शिक्षा पूरी करने के बाद प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रधानाचार्या बनीं और आजीवन वहीं रहीं. वहां उन्होंने प्रसिद्ध पत्रिका 'चाँद' का सम्पादन बगैर वेतन के किया. इस पत्रिका के संपादन से उन्होंने नारी शक्ति, उसके अधिकारों एवं स्वतंत्रता को समाज में सम्मानजनक स्थान दिया. महादेवी का मानना था कि नारी को अपने अधिकारों की रक्षा के लिये शिक्षित होना अति आवश्यक है.

निजी जीवन में महादेवी वर्मा महात्मा बुद्ध से बेहद प्रभावित रहीं. उनकी रचनाओं में करुणा और संवेदना का भाव वहीं से आता है. बुद्ध का सूत्र 'जीवन दुख का मूल है' हमेशा उनकी कविताओं में प्रतिबिंबित होता रहा. एक समय वह अपनी घर-गृहस्थी छोड़ संन्यासी बनने की ओर अग्रसर हो गईं. इस दौरान महादेवी की मुलाकात राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से हो गई. गांधी जी ने महादेवी को साहित्य साधना करते रहने की सलाह दी. महादेवी रुक गईं और इस तरह हिंदी साहित्य उनकी महान रचनाओं से समृद्ध हुआ.

उनकी अधिकतर कविताएं और निबंध नारीवादी दृष्टिकोण पर केंद्रित हैं. करुणा की अभिव्यक्ति के लिए नये और सहज शब्दों का प्रयोग कर महादेवी की रचनाओं ने हर दिल को छुआ. उनके गीत और उनकी कविताएं आज भी प्रासंगिक हैं. चाहे गद्य हो या पद्य उन्होंने अपनी हर रचना में जीवन मूल्यों को ऊपर उठाते हुए समाज की सोच को विकसित करने का प्रयास किया.

सरल, सहज, करुणामयी होने के साथ ही महादेवी बेबाकी से अपनी बात समाज के आगे रखना भी जानती थीं. भारत के पुरुष प्रधान समाज में महादेवी ने देश भर की महिलाओं को उनके अधिकारों के लिए लड़ना सिखाया.

उनकी काव्य रचनाओं में रश्मि, नीरजा, सांध्यगीत, दीपशिखा, अग्निरेखा, प्रथम आयाम, सप्तपर्णा, यामा, आत्मिका, दीपगीत, नीलाम्बरा और सन्धिनी आदि शामिल हैं. आधुनिक हिंदी कविता में महादेवी वर्मा एक महत्त्वपूर्ण शक्ति के रूप में उभरीं. उनकी गद्य कृतियों में मेरा परिवार, स्मृति की रेखाएं, पथ के साथी, शृंखला की कड़ियां और अतीत के चलचित्र आदि शामिल हैं.

हिंदी साहित्य में अदि्वतिय योगदान के लिए साल 1988 में मरणोपरांत भारत सरकार ने उन्हें देश के दूसरे सबसे बड़े सम्मान 'पद्म विभूषण' की उपाधि से अलंकृत किया. वह यामा के लिए भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा भी सम्मानित हुईं. महादेवी को साल 1979 में साहित्य अकादमी फेलोशिप से नवाजा गया था. साहित्य अकादमी की फेलो बनने वाली वह पहली महिला थीं. हिंदी साहित्य सम्मलेन की ओर से उन्हें 'सेकसरिया पुरस्कार' तथा 'मंगला प्रसाद पारितोषिक' सम्मान भी मिला. महादेवी 11 सितंबर, 1987 को प्रयाग में इहलोक छोड़कर चली गईं. पर उनकी कविताएं व जीवन आदर्श आज भी प्रेरणा दे रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay