Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

जयंती विशेषः फ्रैंज काफ्का, जिन्होंने कहा ऐसी किताबें पढ़ें जो कुल्हाड़ी की तरह वार करें

फ्रैंज काफ्का के जीवन की विसंगतियां, असीम मेधा, कला और शब्दों के प्रति संवेदना उन्हें एक महान कथाकार और कलाकार बनाती है. आज उनकी जयंती पर जानें उनके बारे में

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 03 July 2019
जयंती विशेषः फ्रैंज काफ्का, जिन्होंने कहा ऐसी किताबें पढ़ें जो कुल्हाड़ी की तरह वार करें महान जर्मन लेख फ्रैंज काफ्का [ फाइल फोटो ]

'हमें ऐसी किताबें पढ़नी चाहिए, जो कुल्हाड़ी की तरह हमारे अंदर के जमे समंदर के ऊपर पड़े, हमें चोट पहुंचा दे, घायल कर दे. उन किताबों को पढ़ने के बाद हम पहले जैसे बिल्कुल न रहें.' फ्रैंज काफ्का.

जर्मन लेखक फ्रैंज काफ्का का जन्म प्राग के एक मध्यमवर्गीय जर्मन भाषी बोहेमियन यहूदी परिवार में 3 जुलाई, 1883 को हुआ था. वह बीसवीं सदी के सर्वाधिक प्रभावशाली कथाकार और सांस्कृतिक रूप से समझदार लेखक थे. उन्होंने एक समूची पीढ़ी को प्रभावित किया. उनकी रचनाओं के अनुवाद पूरी दुनिया में हुए, जिनमें भारतीय भाषाएं, और प्रमुख रूप से हिंदी भी शामिल है. उनकी लघु कथा, कहानियों और उपन्यास के कहने ही क्या?

कम शब्दों में अपनी बात कहने में काफ्का को महारथ हासिल थी. खास बात यह कि वह हर हाल में संघर्षरत मानव के पक्ष में थे. तमाम अवसरों के बावजूद काफ्का ने अपनी तमाम जिंदगी अकेलेपन, आंतरिक संघर्ष और विश्वास की तलाश में गुजार दीउनकी 'दिशा' नामक इस कहानी को देखें, जिसका अनुवाद सुकेश साहनी ने किया है-

" 'बहुत दुख की बात है,' चूहे ने कहा, 'दुनिया दिन प्रतिदिन छोटी होती जा रही है. पहले यह इतनी बड़ी थी कि मुझे बहुत डर लगता था. मैं दौड़ता ही रहा था और जब आखिर में मुझे अपने दाएँ-बाएँ दीवारें दिखाई देने लगीं थीं तो मुझे खुशी हुई थी. पर यह लंबी दीवारें इतनी तेजी से एक दूसरे की तरफ बढ़ रही हैं कि मैं पलक झपकते ही आखिर छोर पर आ पहुँचा हूँ; जहाँ कोने में वह चूहेदानी रखी है और मैं उसकी ओर बढ़ता जा रहा हूँ.'
" 'जहाँ दिशा बदलने की जरूरत है, बस.' बिल्ली ने कहा, और उसे खा गई."
 
समझ सकते हैं कि उनकी लघु कहानियों ने किस तरह से समूची दुनिया में अपना डंका बजाया. उनकी रचनाएं आधुनिक समाज के व्यग्र इनसान, उसकी हड़बड़ी और अलगाव को चित्रित करतीं हैं. समकालीन आलोचकों और शिक्षाविदों, जिनमें व्लादिमिर नबोकोव जैसे सम्मानित नाम भी शामिल हैं का मानना है कि काफ्का 20 वीं सदी के सर्वश्रेष्ठ लेखकों में से एक है.

काफ्का और उनकी रचनाओं का जलवा यह था कि 'Kafkaesque' अंग्रेजी भाषा का हिस्सा बन गया, जिसका उपयोग 'बहकानेवाला', 'खतरनाक', 'जटिलता' आदि के संदर्भ में किया जाने लगा. न्यूयॉर्कर ने एक लेख में काफ्का के साहित्यिक और सामाजिक अवदान को दार्शनिक अंदाज में प्रस्तुत किया.

लेख के कुछ वाक्य यों थे, "जब काफ्का का जन्म हुआ, तब उस सदी के आधुनिक विचारों ने पनपना आरंभ किया- जैसे कि सदियों के बीच में एक नई आत्मचेतना, नएपन की चेतना का जन्म हुआ हो. अपनी मृत्यु के इतने साल बाद भी, काफ्का आधुनिक विचारधारा के एक पहलू के प्रतीक हैं- चिंता और शर्म की उस अनुभूति को, जिसे स्थिर नहीं किया जा सकता है, इसलिए शांत नहीं किया जा सकता है; चीजों के भीतर एक अनंत कठिनाई की भावना को, जो हर कदम बाधा डालती है; उपयोगिता से परे तीव्र संवेदनशीलता को, जैसे कि सामाजिक उपयोग और धार्मिक विश्वास अपनी पुरानी त्वचा के छिन जाने पर उस शरीर के समान हों, जिसे हर स्पर्श से पीड़ा पहुंचती हो."

काफ्का पर सबसे अधिक प्रभाव अपने पिता का पड़ा. काफ्का के पिता हरमन्न काफ्का यहूदी बस्ती में एक बड़ी दुकान चलाते थे और उनकी की मां जूली उनके पिता का हाथ बंटाती थी. हरमन्न को उस इलाके का एक बड़ा, स्वार्थी व दबंग व्यापारी माना जाता था. फ्रैंज काफ्का ने खुद कहा था कि उनके पिता 'शक्ति, स्वास्थ्य, भूख, आवाज की ऊंचाई, वाग्मिता, आत्म-संतुष्टि, सांसारिक प्रभुत्व, धीरज, मन की उपस्थिति और मानव प्रकृति के ज्ञान में एक सच्चे काफ्का थे'. यही वजह थी कि काफ्का का समूचा व्यक्तित्व विशाल कोमलता, विचित्र व अच्छे हास्य, कुछ गंभीर और आश्वस्त औपचारिकताओं से भरपूर था.

'खिड़की' नामक इस रचना में शामिल विंब को ही देखें. वैसे तो यह एक लघुकथा है. पर इसमें समूचा जीवन दर्शन शामिल है. 'खिड़की' का अनुवाद भी सुकेश साहनी ने किया है. कथा यों है-  जीवन में अलग-थलग रहते हुए भी कोई व्यक्ति जब-तब कहीं-कहीं किसी हद तक जुड़ना चाहेगा. दिन के अलग-अलग समय, मौसम, काम-धंधे की दशा आदि में उसे कम से कम एक ऐसी स्नेहिल बाँह की ओर खुलने वाली खिड़की के बगैर बहुत अधिक समय तक नहीं रह सकेगा. कुछ भी न करने की मनःस्थिति के बावजूद वह थके कदमों से खिड़की की ओर बढ़ जाता है और बेमन से कभी लोगों और कभी आसमान की ओर देखने लगता है, उसका सिर धीरे से पीछे की ओर झुक जाता है. इस स्थिति में भी सड़क पर दौड़ते घोड़े, उनकी बग्घियों की खड़खड़ और शोरगुल उसे अपनी ओर खींच लेंगे और अंततः वह जीवन-धारा से जुड़ ही जाएगा.

फ्रैंज काफ्का के जीवन की विसंगतियां, असीम मेधा, कला और शब्दों के प्रति संवेदना उन्हें एक महान कथाकार और कलाकार बनाती है. वह अपने भीतर के प्रतिरोध और गंभीर संशय के खिलाफ संघर्षरत लेखक थे. काफ्का की जो बहुपठित और प्रचलित रचनाएं हिंदी में छपीं उनमें ‘कायापलट’, ‘जाँच’, ‘एक भूखा कलाकार’, और ‘महल’ आदि शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay