Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

आनंद नारायण मुल्ला मानते थे कि विचारधारा से फ़नकार का लेखन प्रभावित होता है

आनंद नारायण मुल्ला की शायरी पर किसी का प्रभाव नहीं था. उन्होंने ख़ुद अपनी अलग राह बनाई. उनकी ज़िंदगी और शायरी में कोई फ़र्क़ नहीं था. यह विचार सैयदा सैयदैन हमीद ने प्रख्यात उर्दू शायर आनंद नारायण मुल्ला के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित परिसंवाद में अध्यक्षीय वक्तव्य देते हुए कही.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in 17 March 2020
आनंद नारायण मुल्ला मानते थे कि विचारधारा से फ़नकार का लेखन प्रभावित होता है साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित आनंद नारायण मुल्ला परिसंवाद

नई दिल्ली: आनंद नारायण मुल्ला की शायरी पर किसी का प्रभाव नहीं था. उन्होंने ख़ुद अपनी अलग राह बनाई. उनकी ज़िंदगी और शायरी में कोई फ़र्क़ नहीं था. यह विचार सैयदा सैयदैन हमीद ने प्रख्यात उर्दू शायर आनंद नारायण मुल्ला के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित परिसंवाद में अध्यक्षीय वक्तव्य देते हुए कही. मुल्ला के वैचारिक नज़रिए को स्पष्ट करते हुए सैयदैन हमीद ने कहा कि वह किसी भी विचारधारा से प्रभावित नहीं थे और वे मानते थे कि ऐसा करने पर फ़नकार का लेखन प्रभावित होता है और उसकी धार कमज़ोर होती है.

बीज वक्तव्य देते हुए प्रो शाफ़े क़िदवई ने कहा कि वर्तमान में मानवता पर जो ख़तरा है उसे आनंद नारायण मुल्ला ने बहुत पहले पहचान लिया था. अब ज़रूरत यह है कि हम उनकी शायरी को फिर से परखें और उस पर दोबारा विचार-विमर्श करें. आनंद नारायण मुल्ला की पौत्री अमीता मुल्ला वाटल ने कहा कि यह उनके लिए गर्व की बात है कि उनकी विरासत को एक बार फिर साहित्य अकादमी द्वारा याद किया जा रहा है और उस पर बड़े-बड़े विद्वानों द्वारा विचार-विमर्श किया जा रहा है. उन्होंने आनंद नारायण मुल्ला से संबंधित कई संस्मरण प्रस्तुत किए.

उद्घाटन वक्तव्य में प्रो गोपी चंद नारंग ने कहा कि आनंद नारायण मुल्ला को गंगा-जमुनी तहज़ीब के लिए याद रखना बेहद ज़रूरी है. उन्होंने मुल्ला के व्यक्तित्व पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उन्होंने मानवतावाद को प्राथमिकता दी और हर तरह की हिंसा का विरोध किया. इस संदर्भ में वे गाँधी के अनुयायी हैं. उन्होंने उनकी शायरी पर इक़बाल के प्रभाव को बताते हुए कहा कि उन्होंने विभाजन की त्रासदी पर जो महसूस किया, उसे बहुत पारदर्शिता के साथ प्रस्तुत किया और वह आने वाली नस्लों को राह दिखाता रहेगा.

साहित्य अकादेमी के उर्दू परामर्श मंडल के संयोजक शीन काफ़ निज़ाम ने आरंभिक वक्तव्य देते हुए कहा कि आनंद नारायण मुल्ला ने अपनी शायरी में मुहब्बत को तरजीह दी और हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए कि उर्दू को अपने मज़हब से ज़्यादा अहमियत देने के उनके फ़लसफ़े ने एक पूरी पीढ़ी को प्रभावित किया और उससे प्रेरणा लेने को प्रोत्साहित किया.

आरंभ में साहित्य अकादमी के सचिव डॉ के श्रीनिवासराव ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत अंगवस्त्रम और पुस्तकें भेंट कर किया. कार्यक्रम में मुल्ला की पौत्री डॉ अमीता मुल्ला वाटल, प्रतिष्ठित उर्दू आलोचक और साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष तथा महत्तर सदस्य प्रो गोपी चंद नारंग, मौलाना आज़ाद उर्दू विश्वविद्यालय की पूर्व कुलपति एवं योजना आयोग की पूर्व सदस्य डॉ सैयदा सैयदैन हमीद, साहित्य अकादमी के उर्दू परामर्श मंडल के संयोजक प्रख्यात उर्दू शायर शीन काफ़ निज़ाम, प्रख्यात उर्दू लेखक व आलोचक एवं इस वर्ष के अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रो शाफ़े क़िदवई, प्रो ज़हीर अली एवं डॉ दानिश इलाहाबादी ने भाग लिया.

कार्यक्रम के दूसरे सत्र की अध्यक्षता शीन काफ़ निज़ाम ने की और ज़हीर अली एवं दानिश इलाहाबादी ने अपने आलेख प्रस्तुत किए. कार्यक्रम का संचालन हिंदी संपादक अनुपम तिवारी ने किया. कार्यक्रम में उर्दू जगत से जुड़ी तमाम हस्तियां मनोरमा नारंग, चंद्रभान ख़याल, हक़्क़ानी अल क़ासमी, सरवरुल हुदा, अहमद अल्वी, नारंग साक़ी, ज़हीर बर्नी, मोईन शादाब, परवेज़ शहरयार, अबू ज़हीर रब्बानी, अतहर अंसारी, गुलाम नबी कुमार सहित तमाम महत्त्वपूर्ण लेखक, पत्रकार एवं विद्वान उपस्थित थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay