विश्व पुस्तक दिवस पर साहित्य अकादमी का 'पुस्तकें, जिन्होंने रचा हमारा संसार' परिसंवाद संपन्न

कल राजधानी में विश्व पुस्तक दिवस पर साहित्य अकादमी को छोड़ किसी और संस्था ने पुस्तकों पर आधारित कोई विशेष आयोजन नहीं किया. अकादमी ने अवश्य अपने सभागार में 'पुस्तकें, जिन्होंने रचा हमारा संसार' विषय पर एक परिसंवाद का आयोजित किया. इस कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्र की जानीमानी हस्तियां जुटीं

Advertisement
जय प्रकाश पाण्डेयनई दिल्ली, 30 April 2019
विश्व पुस्तक दिवस पर साहित्य अकादमी का 'पुस्तकें, जिन्होंने रचा हमारा संसार' परिसंवाद संपन्न साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित परिसंवाद 'पुस्तकें, जिन्होंने रचा हमारा संसार' का दृश्य

नई दिल्ली: कल राजधानी में विश्व पुस्तक दिवस पर साहित्य अकादमी को छोड़ किसी और संस्था ने पुस्तकों पर आधारित कोई विशेष आयोजन नहीं किया. अकादमी ने अवश्य अपने सभागार में 'पुस्तकें, जिन्होंने रचा हमारा संसार' विषय पर एक परिसंवाद का आयोजित किया. इस कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्र की जानीमानी हस्तियां जुटीं और अपनी प्रिय पुस्तकों की चर्चा के साथ किताबों से अपने रिश्तों को साझा किया.

कार्यक्रम के प्रारंभ में साहित्य अकादमी के सचिव के. श्रीनिवासराव ने गमछा और पुस्तकें भेंट कर वक्ताओं का स्वागत किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पुस्तकें केवल हमारा ज्ञान नहीं बढ़ातीं बल्कि हमें विशेष बनाती हैं. उनका कहना था कि किताबें माँ जैसी होती है जो हमें बेहतर नागरिक बनने की शिक्षा देती हैं. उन्होंने कहा कि आज के दौर में किताबों के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है. उनका दावा था कि इस डिजिटल युग में भी किताबों का महत्त्व कम नहीं हुआ है.

पुस्तकों के महत्त्व को व्याख्यायित करने वाले इस परिसंवाद के पहले वक्ता के रूप में एडीशनल डिप्टी कंट्रोलर एंड आडिटर जनरल, सीएजी के.के. श्रीवास्तव ने कहा कि वह आधुनिक समाज के लिए दो लेखकों सिग्मंड फ्रायड और वल्दीवो निकोवोव की पुस्तकों को बेहद महत्त्वपूर्ण मानते हैं क्योंकि इनके जरिये ही समाज में मानसिक रोगियों के इलाज के लिए बेहतर समझ विकसित हो पाई.

उन्होंने परिसंवाद में मौजूद श्रोताओं से सिग्मंड फ्रायड की 1902 में प्रकाशित पुस्तक तथा निकोवोव की 2018 में प्रकाशित पुस्तक की जानकारी साझा करते हुए कहा कि ये पुस्तकें इसलिए भी महत्त्वपूर्ण हैं कि इनसे हमारे सपनों को व्यवस्थित रूप से विश्लेषित करने की परंपरा शुरू हो पाई, जो आगे चलकर मानसिक रोगो के इलाज में बेहद कारगर साबित हुई.

प्रख्यात नाट्यकर्मी एम. के रैना ने बताया कि उन्होंने पहली पुस्तक अपने कॉलेज के पुस्तकालय में पढ़ी थी और वह अब्राहम लिंकन द्वारा लिखी गई थी. दूसरी पुस्तक जिससे वे सबसे ज्यादा प्रभावित हुए वे गाँधी जी की आत्मकथा थी. उन्होंने कहा कि गाँधी मेरे रॉक स्टार थे और आज भी हैं. उन्होंने प्रेमचंद की कहानी 'कफन' का जिक्र करते हुए कहा कि इन सबके जरिये ही मैं अपने समाज को वर्तमान से जोड़ पाता हूँ. इसी क्रम में उन्होंने ब्रतोल ब्रेख्त के नाटक और कविताओं के साथ ही धर्मवीर भारती के कालजयी नाटक 'अंधायुग' का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हम सब को साहित्य अवश्य पढ़ना चाहिए जिससे हम मानवीय जीवन को अलग तरीके से समझ सकते हैं.

भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के संयुक्त सचिव प्रणव खुल्लर ने टालस्टॉय के वॉर एंड पीस, महाभारत जैसी महान कृतियों का जिक्र करते हुए कहा कि वे इन सबके साथ ब्रेख्त से भी प्रभावित हुए हैं. उन्होंने योगानंद की जीवनी पुस्तक 'एक योगी की आत्मकथा' का विशेष उल्लेख करते हुए कहा कि यह पुस्तक 1946 में प्रकाशित हुई थी और अभी तक 52 भाषाओं में अनूदित हो चुकी है. वैसे तो ये है तो एक योगी की आत्मकथा लेकिन उसको इतने रोचक तरीके से लिखा गया है कि आप इसे उपन्यास की तरह पढ़ते हैं. यह पुस्तक आधुनिक संसार और आध्यात्मिक संसार के बीच एक सेतु का कार्य करती है.

ईशा आआशारा आरा भारत सरकार के गृहमंत्रालय के नेटग्रिड में संयुक्त सचिव सतवंत अटवाल त्रिवेदी ने बचपन में पढ़ी गई रस्किन बाँड की किताबों और बाद में बुल्ले शाह का जिक्र करते हुए कहा कि किताबे हमें सोचने का मौका देती हैं. वे अगर हमारे साथ हैं तो हम जीवन को नए तरीके से समझने और जीने के गुर सीख सकते हैं. उन्होंने शम्सुर रहमान फारूखी की पुस्तकों तथा पुस्तक 'द लिटिल प्रिंस' का जिक्र करते हुए कहा कि पुस्तकों से हम प्यार और सादगी से जीना सीख सकते हैं.

प्रख्यात ओडिशी, छऊ और मणिपुरी नृत्यांगना सोरेन लोवेन ने उन पुस्तकों, जिन्होंने उनके जीवन को प्रभावित किया हो पर टिप्पणी करते हुए कहा कि पुस्तकों का संसार इतना विशाल है कि उसकी तुलना आसमान में चमकते सितारों से की जा सकती है, उन्होंने एनी फ्रेंक की डायरी और सिमोन द बोउआर का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदर्शनकारी कलाओं के लिए पुस्तकें एक नया दृष्टिकोण प्रदान करती हैं और उससे हमारा प्रदर्शन और जीवंत और बेहतर हो जाता है.

इस अवसर पर प्रख्यात पत्रकार एस. वेंकटनारायण तथा भारतीय डाक की सेवानिवृत्त महाप्रबंधक सुजाता चौधरी ने भी पुस्तकों से अपने संबंध के बारे में विस्तार से बातचीत की. कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लेखक, बुद्धिजीवी, छात्र एवं मीडियाकर्मी उपस्थित थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay