Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

'मन की बात 2.0' की पहली कड़ी में प्रेमचंद व किताबों की चर्चा, तारीफ तो बनती है प्रधानमंत्री जी!

'मन की बात 2.0' की पहली कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह से मुंशी प्रेमचंद और किताबों के पढ़ने के बारे में बात की उसे देश में पुस्तक संस्कृति को बढ़ावा देने की उनकी कोशिशों के तौर पर देखा जाना चाहिए

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 02 July 2019
'मन की बात 2.0' की पहली कड़ी में प्रेमचंद व किताबों की चर्चा, तारीफ तो बनती है प्रधानमंत्री जी! 'मन की बात' के रेडियो प्रसारण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह भलीभांति जानते हैं कि लोकसभा चुनावों में लगातार दूसरी बार शानदार जीत के साथ ही उन्होंने इतिहास रच दिया है. इस लिहाज से जनादेश के समर्थन में उनकी कूटनीतिक, प्रशासनिक और सियासी गतिविधियां तो समझ में आती हैं, पर 'मन की बात 2.0' की पहली कड़ी में उन्होंने जिस तरह से किताबों, पुस्तक संस्कृति और हिंदी लेखकों का जिक्र किया, वह न केवल उनके साहित्यप्रेमी होने का संकेत दे रहा, बल्कि यह भी कि वह किस तरह अपनी व्यस्तता के बावजूद वह न केवल स्वाध्याय, साहित्यिक कृतियों को महत्त्व दे रहे हैं, बल्कि उनका जिक्र कर दूसरों को भी इस दिशा में उन्मुख करने का प्रयास कर रहे.

प्रधानमंत्री मोदी ने देश की जनता से रेडियो पर आयोजित होने वाले इस बहुचर्चित संवाद में खासा वक्त पुस्तक चर्चा पर दिया. इस दौरान उन्होंने मुंशी प्रेमचंद और उनकी कई कहानियों का जिक्र किया. हालांकि प्रधानमंत्री पहले भी प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के पीछे मुंशी प्रेमचंद की कहानी 'ईदगाह' और उसके नायक हामिद का जिक्र कर चुके हैं. पर इस बार उन्होंने जिस तरह से करोड़ों देशवासियों से पुस्तकों की बात की वह आखर जगत के लिए तो एक सुखद संकेत है ही, देश और देशवासियों को शिक्षा, साहित्य व संस्कृति की दिशा में ले जाने वाले एक नये अभियान का भी पूर्वाभास दे रहा.

प्रधानमंत्री ने 'मन की बात' में किताबों पर अपनी बात यों रखी- "मेरे प्यारे देशवासियो, आपने कई बार मेरे मुंह से सुना होगा, 'बूके नहीं बुक', मेरा आग्रह था कि क्या हम स्वागत-सत्कार में फूलों के बजाय किताबें दे सकते हैं. तब से काफ़ी जगह लोग किताबें देने लगे हैं. मुझे हाल ही में किसी ने ‘प्रेमचंद की लोकप्रिय कहानियाँ’ नाम की पुस्तक दी. मुझे बहुत अच्छा लगा. हालांकि, बहुत समय तो नहीं मिल पाया, लेकिन प्रवास के दौरान मुझे उनकी कुछ कहानियाँ फिर से पढ़ने का मौका मिल गया.

"प्रेमचंद ने अपनी कहानियों में समाज का जो यथार्थ चित्रण किया है, पढ़ते समय उसकी छवि आपके मन में बनने लगती है. उनकी लिखी एक-एक बात जीवंत हो उठती है. सहज, सरल भाषा में मानवीय संवेदनाओं को अभिव्यक्त करने वाली उनकी कहानियाँ मेरे मन को भी छू गईं. उनकी कहानियों में समूचे भारत का मनोभाव समाहित है. जब मैं उनकी लिखी ‘नशा’ नाम की कहानी पढ़ रहा था, तो मेरा मन अपने-आप ही समाज में व्याप्त आर्थिक विषमताओं पर चला गया. मुझे अपनी युवावस्था के दिन याद आ गए कि कैसे इस विषय पर रात-रात भर बहस होती थी. जमींदार के बेटे ईश्वरी और ग़रीब परिवार के बीर की इस कहानी से सीख मिलती है कि अगर आप सावधान नहीं हैं तो बुरी संगति का असर कब चढ़ जाता है, पता ही नहीं लगता है.

"दूसरी कहानी, जिसने मेरे दिल को अंदर तक छू लिया, वह थी ‘ईदगाह’, एक बालक की संवेदनशीलता, उसका अपनी दादी के लिए विशुद्ध प्रेम, उतनी छोटी उम्र में इतना परिपक्व भाव. 4-5 साल का हामिद जब मेले से चिमटा लेकर अपनी दादी के पास पहुँचता है तो सच मायने में, मानवीय संवेदना अपने चरम पर पहुँच जाती है. इस कहानी की आखिरी पंक्ति बहुत ही भावुक करने वाली है क्योंकि उसमें जीवन की एक बहुत बड़ी सच्चाई है, 'बच्चे हामिद ने बूढ़े हामिद का पार्ट खेला था - बुढ़िया अमीना, बालिका अमीना बन गई थी.'

"ऐसी ही एक बड़ी मार्मिक कहानी है ‘पूस की रात’. इस कहानी में एक ग़रीब किसान जीवन की विडंबना का सजीव चित्रण देखने को मिला. अपनी फसल नष्ट होने के बाद भी हल्दू किसान इसलिए खुश होता है क्योंकि अब उसे कड़ाके की ठंड में खेत में नहीं सोना पड़ेगा. हालांकि ये कहानियाँ लगभग सदी भर पहले की हैं लेकिन इनकी प्रासंगिकता, आज भी उतनी ही महसूस होती है. इन्हें पढ़ने के बाद, मुझे एक अलग प्रकार की अनुभूति हुई."

याद रहे कि प्रधानमंत्री पद साल 2014 उनकी ताजपोशी के बाद से ही उनपर किताबों की बाढ़ सी आ गई है. एक आंकलन के मुताबिक अब तक उनपर साढ़े तीन सौ से अधिक पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं. इसी दौरान खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी स्कूली छात्रों को परीक्षा के तनाव से बचाने के लिए एक किताब लिखी थी, जो अनूदित होकर कई भाषाओं में छपी और उसका काफी प्रसार भी हुआ. यह कम आश्चर्य की बात नहीं है कि जो विपक्ष अकसर प्रधानमंत्री की डिग्री को लेकर सवाल उठाता है, वह साहित्य को लेकर मौन है, पर प्रधानमंत्री अक्षर और अध्ययन को फिर से मुख्यधारा में लाने की कोशिश कर रहे. उन्होंने अपने इस रेडियो संवाद में आगे कहा-

"जब पढ़ने की बात हो रही है, तभी किसी मीडिया में, मैं केरल की अक्षरा लाइब्ररी के बारे में पढ़ रहा था. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि ये लाइब्रेरी इडुक्की के घने जंगलों के बीच बसे एक गाँव में है. यहाँ के प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक पी.के. मुरलीधरन और छोटी सी चाय की दुकान चलाने वाले पी.वी. चिन्नाथम्पी, इन दोनों ने, इस लाइब्रेरी के लिए अथक परिश्रम किया है. एक समय ऐसा भी रहा, जब गट्ठर में भरकर और पीठ पर लादकर यहाँ पुस्तकें लाई गई. आज ये लाइब्ररी, आदिवासी बच्चों के साथ हर किसी को एक नई राह दिखा रही है."

प्रधानमंत्री बोल रहे हों और गुजरात का जिक्र न हो यह हो ही नहीं सकता. अपने गृह राज्य का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, "गुजरात में वांचे गुजरात अभियान एक सफल प्रयोग रहा. लाखों की संख्या में हर आयु वर्ग के व्यक्ति ने पुस्तकें पढ़ने के इस अभियान में हिस्सा लिया था. आज की digital दुनिया में, Google गुरु के समय में, मैं आपसे भी आग्रह करूँगा कि कुछ समय निकालकर अपने daily routine में किताब को भी जरुर स्थान दें. आप सचमुच में बहुत enjoy करेंगे और जो भी पुस्तक पढ़ें उसके बारे में NarendraModi App पर जरुर लिखें ताकि ‘मन की बात’ के सारे श्रोता भी उसके बारे में जान पायेंगे."

स्पष्ट है, एक लंबे अंतराल के बाद देश के प्रधानमंत्री ने बिना किसी अकादमिक आयोजन के पढ़ने, और पढ़ते ही रहने की बात कही है. इस बात के लिए उनकी तारीफ की जानी चाहिए. ऐसा वही कह सकता है, जिसे शब्दों का महत्त्व पता हो और जो खुद भी ऐसी कविता लिख सकता हो. पढ़ें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'तस्वीर के उस पार' शीर्षक वाली यह कविताः

तुम मुझे मेरी तस्वीर या पोस्टर में
ढूढ़ने की व्यर्थ कोशिश मत करो
मैं तो पद्मासन की मुद्रा में बैठा हूँ
अपने आत्मविश्वास में
अपनी वाणी और कर्मक्षेत्र में.
तुम मुझे मेरे काम से ही जानो

तुम मुझे छवि में नहीं
लेकिन पसीने की महक में पाओ
योजना के विस्तार की महक में ठहरो
मेरी आवाज की गूँज से पहचानो
मेरी आँख में तुम्हारा ही प्रतिबिम्ब है.*

*इस कविता के रचयिता नरेंद्र मोदी हैं. यह कविता साल 2007 में गुजराती में प्रकाशित उनके संकलन ‎'आँख आ धन्य छे' में छपी थी, जिसका हिंदी अनुवाद 'आँख ये धन्य है' नाम से प्रकाशित हुआ. अंजना संधीर ने इन कविताओं को हिंदी पाठकों के सामने रखा और आलोचक इला प्रसाद ने इन्हें जिंदगी की आँच में तपे हुए मन की अभिव्यक्ति बताया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay