Sahitya AajTak

गांधी एक लेखक, वक्ता के रूप में सहज थेः साहित्य अकादमी स्थापना दिवस व्याख्यान में रामचंद्र गुहा

साहित्य अकादमी ने अपने स्थापना दिवस पर 'महात्मा गांधी: एक लेखक और वक्ता के रूप में' विषयक व्याख्यान आयोजित किया, जिसमें प्रख्यात इतिहासकार, लेखक रामचंद्र गुहा ने अपने व्यक्त किए..

Advertisement
जय प्रकाश पाण्डेयनई दिल्ली, 14 March 2019
गांधी एक लेखक, वक्ता के रूप में सहज थेः साहित्य अकादमी स्थापना दिवस व्याख्यान में रामचंद्र गुहा साहित्य अकादमी स्थापना दिवस व्याख्यान

नई दिल्ली: महात्मा गांधी गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की तरह सृजनात्मक लेखक नहीं थे, लेकिन उनका लेखन विभिन्न भाषाओं में, जिनमें गुजराती, अंग्रेज़ी और हिंदी शामिल है में अलग-अलग तरीकों से व्यक्त होता था. गुजराती में जहां गांधी भारतीय जनता से संवाद करते दिखते हैं, वहीं अंग्रेज़ी में उनका लेखन ब्रिटिश सरकार से राजनीतिक संवाद करता हुआ नज़र आता है. ये विचार साहित्य अकादमी ने अपने स्थापना दिवस पर 'महात्मा गांधी: एक लेखक और वक्ता के रूप में' विषयक व्याख्यान के दौरान इतिहासकार, लेखक रामचंद्र गुहा ने व्यक्त किए.

अपनी बात के समर्थन में गुहा ने महात्मा गांधी के लेखन के तीन उदाहरण बताते हुए तार्किक ढंग से अपनी बात रखी. गांधी का एक लेख प्राकृतिक आपदा से संबंधित था, जो सन् 1934 के बिहार-भूकंप के वर्णन पर था, तो दूसरा मानवनिर्मित आपदा के बारे में था जो 1921 में अहयोग आंदोलन के दौरान प्रिंस वेल्स के बम्बई आगमन के विरोध को लेकर था. इसी तरह तीसरा और अंतिम उदाहरण 1940 में सर एंड्रूज की श्रद्धांजलि से जुड़ा हुआ था. जाहिर है इन तीनों ही घटनाओं में गांधी की भाषा घटनाओं के अनुसार परिवर्तित हुई है. गांधी भूकंप की घटना में जानमाल को हुए नुकसान को बड़ी संवेदना से वर्णित करते हैं, तो बम्बई की घटना में हिंदू-मुस्लिमों द्वारा पारसी और ईसाइयों पर किए गए हमलों की भर्त्सना करते हैं.

लुई फिशर की पुस्तक के एक उदाहरण से गुहा ने यह भी स्थापित किया कि गांधी एक वक्ता के रूप में  बहुत संयत रहते थे, आक्रामक नहीं थे. गांधी की खासियत यह थी कि बोलते समय वह बहुत ही सहज ढंग से अपनी बात रखते थे. उन्होंने हिंद स्वराज के एक उदाहरण के आधार पर बताया कि महात्मा गांधी का पूरा लेखन चार मुख्य विचारों- सामाजिक परिवर्तन, आर्थिक उन्नति, सांस्कृतिक एकता और अहिंसा पर केंद्रित है. उन्होंने गांधी द्वारा संपादित इंडियन ओपीनियन, यंग इंडिया, हरिजन के उदाहरणों द्वारा बताया कि इनके ज़रिये हम उनके लेखन में आए विभिन्न बदलावों को बहुत आसानी से लक्षित कर सकते हैं.

इतिहासकार रामचंद्र गुहा का तर्क था कि गांधी के विपुल लेखन का महत्त्व तब और बढ़ जाता है, जब हम देखते हैं कि उनका यह लेखन किसी तय स्थान पर बैठकर नहीं हुआ है, बल्कि तमाम यात्राओं और स्थानों पर अनेक काम करने के बीच उन्होंने ऐसा संभव कर दिखाया है. उन्होंने कहा कि के. स्वामीनाथन और सी.एन. पटेल द्वारा गांधी वांग्मय के 97 खंडों का संपादन एक विश्वस्तरीय व्यवस्थित कार्य है.

   

इस कार्यक्रम में रामचंद्र गुहा ने श्रोताओं द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर भी दिए. एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि उन्होंने कहा कि एक वकील के रूप में हम भले ही गांधी को विफल कह लें, किंतु भारतीय जनमानस से उनका संवाद नई ऊर्जा का संचरण करने वाला रहा है और जनता के अधिकारों की पक्षधरता उनका प्रमुख लक्ष्य रहा है.

कार्यक्रम के प्रारंभ में साहित्य अकादमी के पूर्व सचिव इंद्रनाथ चौधुरी ने रामचंद्र गुहा का स्वागत पुस्तकें और अंगवस्त्रम् भेंट कर किया. साहित्य अकादमी के सचिव के. श्रीनिवासराव ने साहित्य अकादमी की अब तक की यात्रा के बारे में बताते हुए रामचंद्र गुहा का श्रोताओं से विधिवत परिचय करवाया. उन्होंने बताया कि साहित्य अकादमी का  स्थापना व्याख्यान अब तक कई बड़ी साहित्यिक, अकादमिक विभूतियों द्वारा दिया जा चुका है, जिनमें कपिला वात्स्यायन, एस.एल. भैरप्पा और सीताकांत महापात्र जैसे प्रख्यात विद्वान शामिल हैं. इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में साहित्यप्रेमी, विद्वान, लेखक और छात्र मौजूद थे. अकादमी ने सभी आगंतुकों का आभार व्यक्त किया.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay