हिंदी व्यंग्य व बाल साहित्य का नया प्रतिमान गढ़ने वाले डॉ. शेरजंग गर्ग नहीं रहे

हिंदी व्यंग्य व बाल साहित्य का नया प्रतिमान गढ़ने वाले डॉ. शेरजंग गर्ग नहीं रहे. उनके निधन की सूचना मिलते ही साहित्य जगत, खासकर व्यंग्य और बाल साहित्य से जुड़े साहित्यकारों ने गहरा शोक जताया है. 29 मई 1936 को देहरादून में जन्मे डॉ. शेरजंग हिंदी के नामीगिरामी साहित्यकारों में एक थे.

Advertisement
जय प्रकाश पाण्डेयनई दिल्ली, 22 April 2019
हिंदी व्यंग्य व बाल साहित्य का नया प्रतिमान गढ़ने वाले डॉ. शेरजंग गर्ग नहीं रहे डॉ. शेरजंग गर्ग [ फाइल फोटो ]

डॉ. शेरजंग गर्ग नहीं रहे. उनके निधन की सूचना मिलते ही साहित्य जगत, खासकर व्यंग्य और बाल साहित्य से जुड़े साहित्यकारों ने गहरा शोक जताया है. 29 मई 1936 को देहरादून में जन्मे डॉ. शेरजंग हिंदी के नामीगिरामी साहित्यकारों में एक थे. हिंदी साहित्य में इनकी प्रसिद्धि इनके शोध प्रबंध 'स्वातंत्र्योत्तर हिंदी कविता में व्यंग्य' के कारण विशेष रूप से रही. इस ग्रंथ को हिंदी हास्य-व्यंग्य की विधिवत आलोचना का आरंभिक बिंदु माना जाता है. डॉ. शेरजंग गर्ग ने इस ग्रंथ तथा अपनी एक अन्य पुस्तक 'व्यंग्य आलोचना के प्रतिमान' द्वारा व्यंग्य की गंभीर आलोचना को एक दिशा देने का प्रयत्न किया.

यही वजह है कि उनके निधन से मर्माहत चर्चित व्यंग्यकार प्रेम जनमेजय ने लिखा कि अत्यधिक दुखद समाचार मिला कि 'व्यंग्य यात्रा 'के शुभचिंतक  शेरजंग गर्ग नहीं रहे. वे सार्थक एवं गंभीर व्यंग्य के न केवल रचनाकार थे अपितु उसके अनुशासन को लेकर चिंतित एवं उस पर गम्भीरता से लिखने वाले आलोचक थे. पिछले वर्ष ही 9 मई को 'व्यंग्य यात्रा' द्वारा आयोजित कार्यक्रम में उन्हें प्रथम रवीन्द्रनाथ त्यागी स्मृति शीर्ष सम्मान से सम्मानित किया गया था. व्यंग्य यात्रा परिवार की विनम्र श्रद्धांजलि. जनमेजय की तरह ही कई साहित्यकारों, पत्रकारों ने डॉ. शेरजंग गर्ग के निधन पर गहरा दुख जताया है. ऐसे लोगों में वरिष्ठ साहित्यका ममता कालिया, डॉ दिविक रमेश, आलोक मेहता, स्मिता, धीरेंद्र अस्थाना, विनोद अग्निहोत्री, ममता किरण और लालित्य ललित आदि शामिल हैं.

डॉ. शेरजंग गर्ग अपनी गज़लों में व्यंग्य की प्रहारक शक्ति के प्रयोग के लिए भी प्रसिद्ध थे. इनकी गज़लों में वर्तमान व्यवस्था के विरूद्ध एक सार्थक आक्रोश दिखाई देता था. बहुत ही सरल भाषा में सहज प्रहार करने की इनकी क्षमता तथा इनके गज़ल कहने का अंदाज़ इन्हें मंच का चर्चित व्यक्ति बना देता रहा. बावजूद इसके उन्होंने मंच से कभी कोई समझौता नहीं किया. अपितु मंच को सही संस्कार दिए. इनका गज़ल संग्रह-'गज़लें ही गज़लें' नाम से छपा और काफी चर्चित रहा.

डॉ. शेरजंग गर्ग ने गद्य और पद्य दोनों में समाज सापेक्ष तथा मानवीय मूल्यों पर आधारित रचनाएँ लिखीं. 'चंद ताजा गुलाब मेरे नाम' काव्य संकलन उनकी काव्य प्रतिभा का तथा 'बाजार से गुजरा हूँ' उनकी गद्य व्यंग्य प्रतिभा का सजग उदाहरण है. बाल-साहित्य भी उनके योगदान को कभी विस्मृत नहीं कर सकता. ऐसे दौर में जब हिंदी साहित्य में शिशु गीत न के बराबर थे, डॉ. गर्ग ने उनकी शुरूआत की. बाल-साहित्य के प्रति उनके योगदान को देखते हुए हिंदी अकादमी दिल्ली द्वारा उन्हें साहित्यकार सम्मान व श्रेष्ठ बालसाहित्य के लिए दो बार पुरस्कृत किया गया था. वह काका हाथरसी हास्यरत्न सम्मान से  भी अलंकृत हुए थे.

उनकी चर्चित रचनाओं में कविता संग्रह- चंद ताजा गुलाब तेरे नाम, क्या हो गया कबीरों को; आलोचना- स्वातंत्र्योत्तर हिंदी कविता में व्यंग्य, व्यंग्य के मूलभूत प्रश्न; व्यंग्य- बाजार से गुजरा हूँ, दौरा अंतर्यामी का; बालसाहित्य- सुमन बालगीत, अक्षर गीत, नटखट गीत, गुलाबों की बस्ती, शरारत का मौसम, पक्षी उड़ते फुर-फुर, पशु चलते धरती पर, गीतों के इंद्रधनुष, गीतों के रसगुल्ले, यदि पेड़ों पर उगते पैसे, गीता की आँख मिचौली, नटखट पप्पू का संसार (सहलेखन), भालू की हड़ताल, सिंग बड़ी सिंग, चहक भी जरूरी महक भी जरूरी (सहलेखन), शायरी और हिंदी में काम अगणित आयाम शामिल है.

उन्होंने कई पुस्तकों का संपादन किया, जिनमें लोकप्रिय गीतकार दुष्यंतकुमार, गोपालदास नीरज, वीरेंद्र मिश्र, गिरिजाकुमार माथुर, बालस्वरूप राही के संकलनों, हिंदी ग़ज़ल शतक, बीरबल ही बीरबल शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay