आधुनिक स्‍त्री के मन का दर्पण हैं डॉ रचना शर्मा के संकलन 'नदी अब मौन है' की कविताएं

वाराणसी में हिंदी कवयित्री डॉ रचना शर्मा के कविता संग्रह 'नदी अब मौन है' का लोकार्पण एवं उस पर चर्चा समारोह आयोजित हुआ.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 28 September 2019
आधुनिक स्‍त्री के मन का दर्पण हैं डॉ रचना शर्मा के संकलन 'नदी अब मौन है' की कविताएं डॉ रचना शर्मा के कविता संग्रह 'नदी अब मौन है' का लोकार्पण एवं चर्चा समारोह

वाराणसी: पिछले दिनों वाराणसी में हिंदी कवयित्री डॉ रचना शर्मा के कविता संग्रह 'नदी अब मौन है' का लोकार्पण एवं उस पर चर्चा समारोह आयोजित हुआ. अध्‍यक्षता करते हुए आलोचक डॉ रामसुधार सिंह ने कहा कि आधुनिकता की पदचाप ने यों तो पूरे समाज को जाग्रत किया है किन्‍तु स्‍त्रियां आज के समय में अपनी वैचारिक भूमिका में हैं. वे अंत:पुर की स्‍त्रियों की तरह पुरुषसत्‍तात्‍मक व्‍यवस्‍था से अनुकूलित नहीं हैं, वे अपना संसार, अपनी अभिव्‍यक्‍ति और अपनी इच्‍छाओं के लिए एक साफ सुथरी पृथ्‍वी चाहती हैं. रचना शर्मा अपने नए संग्रह 'नदी अब मौन है' में नए बनते स्‍त्री संसार को कविताओं में बेबाकी से मुखर करती हैं तथा वे संवेदना की गहराई में उतर कर मूल्‍यों का निर्धारण करती हैं.

डॉ सिंह पराड़कर भवन में आयोजित डॉ रचना शर्मा के कविता संग्रह 'नदी अब मौन है' के लोकार्पण सह चर्चा समारोह में बोल रहे थे. उन्‍होंने कहा कि पिछले कुछ दशकों में काफी तादाद में स्‍त्रियां रचना के क्षेत्र में सामने आई हैं तथा अपनी अभिव्‍यक्‍ति की आधुनिकता से साहित्‍य के मानचित्र पर अपनी सुनिश्‍चित जगह बनाई है. उन्‍होंने रचना शर्मा की अनेक कविताओं से उदाहरण सामने रखते हुए कहा कि रचना शर्मा यहां अधीनता में रह रही स्‍त्रियों की आजादी की बात उठाती हैं तो उनके अथक संघर्ष को भी सामने रखती हैं. इससे पूर्व कार्यक्रम के अध्‍यक्ष डॉ रामसुधार सिंह, मुख्‍य अतिथि डॉ उदयप्रताप सिंह, डॉ ओम निश्‍चल एवं प्रो  मनुलता शर्मा ने डॉ रचना शर्मा के नए कविता संग्रह 'नदी अब मौन है' का लोकार्पण किया.


समारोह के मुख्‍य अतिथि एवं हिंदुस्‍तानी एकेडमी के अध्‍यक्ष डॉ उदयप्रताप सिंह ने कविता में उदात्‍त तत्‍वों को रेखांकित करते हुए कहा कि कविता मनुष्‍य के मन का प्रक्षालन है. उन्‍होंने एक संत के कथन कि 'नारी नदी अथाह जल डूब मरा संसार/कोई साधू न मिला जो जाए उस पार' का उल्‍लेख करते हुए कहा कि नारी व नदी दोनों को समझना बहुत कठिन है पर कवयित्री रचना शर्मा ने नारी मन को समझने का सहज प्रयास किया है. वे जानती हैं कि प्रेम और स्‍त्री दोनों का अस्‍तित्‍व रहेगा तभी समाज का अस्‍तित्‍व रहेगा. उन्‍होंने कहा कि आज का समृद्ध कविता संसार यह बताता है कि कवियों के पास अपने समय के साथ साथ मानवीय पहलुओं पर कहने के लिए बहुत कुछ है जिसे उद्घाटित होना आवश्‍यक है. यह काम रचना शर्मा अपनी कविताओं में बखूबी कर रही हैं. आज देश दुनिया में जो परिवर्तन हो रहे हैं जो कुहासा व्‍यक्‍ति के मन में है उसे काटने छांटने का काम कवि ही करता है. कवि ही हमारे समय का आलोचक होता है. डॉ सिंह ने कहा कि 'नदी अब मौन है' की कविताओं में रोजमर्रा की तमाम छोटी-छोटी बातों को पिरो कर कवयित्री ने उसे एक बड़े भाव संसार में रुपायित कर दिया है जिनके भीतर स्‍त्रीचित्‍त प्रतिबिम्‍बित होता है.

हिंदी के सुधी आलोचक एवं कवि डॉ ओम निश्‍चल ने बतौर संचालक रचना शर्मा के उत्‍तरोत्‍तर समृद्ध होते काव्‍य संसार पर रोशनी डालते हुए कहा कि 'अंतरपथ' एवं 'नींद के हिस्‍से में कुछ रात भी आने दो' की रचनाकार रचना शर्मा अपने नए संग्रह में स्‍त्रियों की अलक्षित अभिव्‍यक्‍ति, सपनों और हौसलों को एक नई उड़ान देती हैं. 'अंतर पथ' की रचनाकार की यह मुखरता उसकी कई कविताओं में देखी जा सकती है. उसने प्रकृति पर्यावरण को अपनी कवि चिंता में शामिल करते हुए नदी, स्‍त्री और मां के बहाने उस अलक्षित करुणा को भेदने की चेष्‍टा की है जो अक्‍सर स्‍त्रियों के हिस्‍से में रही है. उन्‍होंने कहा कि नदी अब मौन है- केवल एक कविता ही नहीं, आज के तन्‍वंगी गंगा ग्रीष्‍म विरल वाले दौर में नदी की खामोशी और खिन्‍नता का इज़हार भी है. जिस तरह बांधों और बाधाओं से नदियों की गति अवरुद्ध है, उसी तरह स्‍त्रियों की अभिव्‍यक्‍ति के सम्‍मुख अनेक गत्‍यवरोध हैं. नदी अब मौन है-इन्ही प्रतिकूलताओं का एक प्रत्‍याख्‍यान है.

इस अवसर पर आलेख पाठ करते हुए राहुल सांकृत्‍यायन शोध संस्‍थान की निदेशक एवं कवयित्री डॉ संगीता श्रीवास्‍तव ने रचना शर्मा की कविताओं में व्‍यक्‍त मानवीय पीड़ा को उद्घाटित करते हुए कहा कि हर स्‍त्री के भीतर एक सुकोमल संसार होता है जिसे यथार्थ की धूप सुखाती रहती है. इसे ही कवि अपनी वाणी में मुखरित करता है. अपने वक्‍तव्‍य में कलाविदुषी प्रो मंजुला चतुर्वेदी ने कविताओं में कल्‍पना, संवेदना व संरचना का संतुलन की चर्चा करते हुए रचना शर्मा के काव्यसंसार भाषा की ताजगी को रेखांकित किया तथा इसे हिंदी कविता में एक हस्‍तक्षेप बताया. संस्‍कृत विदुषी प्रो मनुलता शर्मा ने विस्‍तार से कविताओं पर बात करते हुए कहा कि ये कविताएं मामूली से मामूली क्षणों को पकड़ती हैं तथा मौलिकता से अपनी बात कहती हैं. रेलवे के वरिष्‍ठ राजभाषा अधिकारी दिनेश चंद्र ने कहा कि विचार बोझिल कविताओं के इस दौर में ये कविताएं युवा कवियों की पाठशाला हैं. सोच विचार से प्रधान संपादक डा जितेंद्रनाथ मिश्र ने इन कविताओं की सहजता को इनकी विशेषता बताया. चिकित्‍सा वैज्ञानिक प्रो अरुण कुमार डे ने कविताओं में न्‍यस्‍त मार्मिकता को रेखांकित किया. आलोचक डॉ इंदीवर पांडेय ने इन कविताओं के सहज शिल्‍प की सराहना की.

इस अवसर पर डॉ.रचना शर्मा ने अपने नए संग्रह 'नदी अब मौन है' से कुछ कविताओं का पाठ किया और कहा कि इस जटिल, कोलाहल और संघर्ष भरी दुनिया में कविताएं एक शांति पाठ की तरह हैं. वे एक प्रार्थना की तरह मन में उतरती हैं तथा मनुष्‍यता के शुभ के लिए एक मंत्र का-सा प्रभाव रखती हैं. हिंद युग्‍म प्रकाशन की ओर से आयोजित इस लोकार्पण सह पुस्‍तक चर्चा का समापन आलोक विमल के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ. चर्चा का प्रारंभ डॉ श्रुति मिश्र एवं पूजा सोनकर की वाणी वंदना से हुआ. समारोह में डॉ सविता सौरभ, डॉ शांतिस्‍वरूप सिन्‍हा, डॉ बी डी दुबे, वासुदेव उबेराय, डॉ वी पी तिवारी, डॉ शुभा श्रीवास्‍तव, डॉ केशव पांडेय, मिठाई लाल, डॉ श्रुति मिश्र, डॉ आर के शर्मा, डॉ उत्‍तम ओझा, डॉ अमरनाथ शर्मा, धर्मेंद्र गुप्‍त साहिल, डॉ गीता शर्मा सहित काशी के अनेक गणमान्‍य बुद्धिजीवी, कवि, साहित्‍यकार, पत्रकार एवं संस्‍कृतिकर्मी उपस्‍थित थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay