Sahitya AajTak
Sahitya AajTak

पर्यावरणविद् अभय मिश्रा की पुस्तक 'माटी मानुष चून' का लोकार्पण व परिचर्चा संपन्न

उपन्यास 'माटी मानुष चून' गंगा नदी के प्रति हो रहे अन्याय को रेखांकित करता है. वैसे तो इसका कथानक सन् 2095 में शुरू होता है, लेकिन पर्यावरण की दुर्दशा का चित्रण हमारे वर्तमान काल का है. गंगा सिर्फ़ नदी न रह कर हमारे समय की सबसे बड़ी त्रासदी बन कर प्रत्यक्ष है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 18 July 2019
पर्यावरणविद् अभय मिश्रा की पुस्तक 'माटी मानुष चून' का लोकार्पण व परिचर्चा संपन्न इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र में उपन्यास 'माटी मानुस चून' का लोकार्पण कार्यक्रम

नई दिल्लीः इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र में पत्रकार व पर्यावरणविद् अभय मिश्रा के उपन्यास 'माटी मानुस चून' का लोकार्पण और परिचर्चा आयोजित की गई. पर्यावरण आधारित इस उपन्यास को वाणी प्रकाशन ने छापा है. इस कार्यक्रम में आईजीएनसीए के अध्यक्ष रामबहादुर राय, सदस्य सचिव व वरिष्ठ लेखक डॉ सच्चिदानंद जोशी, जनसंपदा विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो मौली कौशल व घुमक्कड़ी परम्परा के अग्रदूत, लेखक व पत्रकार सोपान जोशी ने पुस्तक पर अपने विचार रखे. कार्यक्रम का संचालन आईजीएनसीए कलानिधि के विभागाध्यक्ष डॉ रमेश चन्द्र गौड़ द्वारा किया गया. कार्यक्रम में प्रसिद्ध पर्यावरणविद् एवं रचनाकार अनुपम मिश्र की पत्नी मंजू मिश्र भी उपस्थित थीं. ज्ञात हो कि यह उपन्यास अनुपम मिश्र की आत्मीय स्मृति को ही समर्पित है.

मौली कौशल ने पर्यावरण की दयनीय स्थिति पर रोशनी डालते हुए कहा कि हालाँकि उपन्यास सन् 2095 में शुरू होता है, लेकिन पर्यावरण की दुर्दशा का चित्रण हमारे वर्तमान काल का है. गंगा सिर्फ़ नदी न रह कर हमारे समय की सबसे बड़ी त्रासदी बन कर प्रत्यक्ष है. साक्षी, तपन और गीताश्री की कहानी हमें दॉस्तोवस्की के कथानक की याद दिलाती है. पुस्तक में गिरमिटिया देशों में जन्मी नयी पीढ़ी के दर्द का आख्यान भी है.

सोपान जोशी ने भारतीय नदियों के प्रति राजनीतिक उदासीनता को रेखांकित किया. उन्होंने कहा कि यह उपन्यास सामाजिक पत्रकार की क़लम से निकला है. यह भी जानना ज़रूरी है कि कथा सिर्फ़ यथार्थ से नहीं निभती, उसमें कल्पना का बड़ा योगदान है.
समाज की ओर से सवाल यूँ उठते हैं कि पर्यावरण के प्रति कोई संवेदना ही न हो. यह संवेदना कल्पना क्षेत्र में ही मुमकिन है. यदि चौमासे की तेज़ बारिश हिमालय से नहीं टकराती, तो भूतल नहीं बन पाता. यह पर्यावरण का संतुलन है. इस संतुलन का बिगड़ना और राजनीतिक उदासीनता हमारे समाज की सबसे बड़ी चुनौती है. इस उदासीनता को दर्शाना आसान नहीं, यह जोख़िम अभय ने उठाया है.

सच्चिदानन्द जोशी ने 'जल से जुड़े' अभय मिश्रा की तुलना तपस्वी भागीरथ से की, जिन्होंने विश्व में गंगा की पवित्रता के लिये तप किया. नदियाँ सिर्फ़ पानी देने वाली या जीवनदायिनी नहीं हैं, हमारे समाज की आत्मा हैं. हमारी शिक्षा प्रणाली ने नदियों को एक भूगोल खण्ड ही बनाया, उनसे आत्मीय संबंध नहीं बनने दिया. यह हमारी शिक्षा प्रणाली की हार है.

जोशी ने बताया कि इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र में ख़ास कार्यक्रम शुरू किये गये हैं, जिनमें नदियों के प्रति सामाजिक समावेश किया गया है. वरिष्ठ पर्यावरणविद् अनुमप मिश्र को याद करते हुए सच्चिदानन्द जोशी ने अभय मिश्रा को उन्हीं की परम्परा का भविष्य माना. जोशी ने एलिवन टॉफ्लर की 1970 में छपी पुस्तक ‘फ्यूचर शॉक’ का संदर्भ देते हुए कहा कि ‘माटी मानुष चून’ इसी लेखनी की पद्धति में नया पड़ाव है.

राम बहादुर रॉय ने अध्यक्षीय वक्तव्य में कहा कि पुस्तक पढ़ते हुए इंटेलिजेन्स एजेंसी के सबसे क़ाबिल अफ़सर मलय कृष्ण धर की याद आयी. ‘Gangland Democracy’ में धर ने ज़मीनी अपराधों का पर्दाफ़ाश किया है. ‘माटी मानुष चून’ भी इसी तरह गंगा नदी के प्रति हो रहे अन्याय को रेखांकित करती है. यह किताब गंगा नदी की ऐन्जियोग्राफ़ी है.

कार्यक्रम में सभी सम्मानित एवं श्रोताओं का धन्यवाद ज्ञापन करते हुए वाणी प्रकाशन के प्रबंध निदेशक अरुण माहेश्वरी ने कहा कि प्रसन्नता इस बात की है कि अब कार्यक्रम में पुस्तकों की चर्चा फ्लैप पढ़कर ही नहीं की जाती वरन् पुस्तक के पृष्ठ पर चर्चा की जाती है. ‘नदी के इर्द-गिर्द का समाज’ बुनकर एक नए तरह की उपन्यास की रचना की गई है.

उन्होंने कहा कि यह स्वागत योग्य कदम है कि आज की युवा प्रतिभाओं एवं वरिष्ठ लेखकों द्वारा न केवल जीवन की समस्याओं पर वरन् पर्यावरण, संस्कृति, भाषा, शिक्षा आदि विषयों पर बेहतरीन पुस्तकें लिखीं जा रही हैं, वाणी प्रकाशन द्वारा प्रकाशित, खोजबीन का आनंद, कुली लाइन्स, माटी मानुष चून आदि पुस्तकें अमेजॉन बिक्री केंद्रों पर सफ़ल मानी जा रही हैं. इसी क्रम में ज्ञान का ज्ञान, माता हिमालय पिता हिमालय आदि पुस्तकें भी शीघ्र प्रकाशित होने वाली हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay