गाये जाने, न ही याद हो जाने में रचना की सार्थकताः नवगीत का भविष्य संगोष्ठी में वक्ता

'नवगीत का भविष्य एवं भविष्य का नवगीत' विषय पर राज्य‍ कर्मचारी साहित्य संस्थान लखनऊ ने एक संगोष्ठी आयोजित की जिसमें हिंदी के कई जानेमाने गजलगो, कथाकार, कवि और साहित्यकार शामिल हुए

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 27 August 2019
गाये जाने, न ही याद हो जाने में रचना की सार्थकताः नवगीत का भविष्य संगोष्ठी में वक्ता लखनऊ में नवगीत का भविष्य और भविष्य का नवगीत विषय पर विमर्श

लखनऊः किसी भी विधा की रचना फार्म के कारण नहीं, कथ्य की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण होती है. राज्य‍ कर्मचारी साहित्य संस्थान द्वारा लखनऊ के एफल क्लब में 'नवगीत का भविष्य एवं भविष्य का नवगीत' विषय पर आयोजित संगोष्ठी में यह बात डॉ हरिओम ने कहीं. हिंदी के जानेमाने गजलगो, कथाकार, कवि एवं राज्य‍ कर्मचारी साहित्य संस्थान के अध्यक्ष डॉ हरिओम के सान्निध्य में इस विषय पर एक चर्चा संगोष्ठी का आयोजन हुआ. इस दौरान लखनऊ के एल्डिको ग्रींस का एफल क्लब सभागार स्थनीय व बाहरी गीतकारों से खचाखच भरा था.

इस संगोष्ठी में सुपरिचित नवगीतकार माहेश्वर तिवारी, डॉ इंदीवर, डॉ ओम निश्चल, ओम प्रकाश तिवारी व मधुकर अष्ठासना ने हिस्सेदारी की. यूएई से विशेष तौर पर पहुंची पूर्णिमा बर्मन की मौजूदगी उल्लेखनीय रही.

संगोष्ठी के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए संस्थागन के वरिष्ठ उपाध्याक्ष एवं सुपरिचित नवगीतकार तथा प्रथम सत्र के संचालक डॉ रविशंकर पांडेय ने आज के कविता परिदृश्य में नवगीत के भविष्य एवं भविष्य के नवगीत को लेकर अनेक ध्यातव्य बिन्दु सामने रखे तथा बीज वक्तव्य के लिए नवगीत आलोचक डा इंदीवर को आमंत्रित किया.

डॉ इंदीवर ने नवगीत के उद्भव, विकास एवं समस्याओं को सामने रखते हुए नवगीत के समक्ष मौजूदा चुनौतियों की विस्तार से चर्चा की. उन्होंने गीतांगिनी से नवगीत प्रवर्तन की बात को अस्वीकार करते हुए शंभुनाथ सिंह द्वारा पहली बार नवगीत का उल्लेख करने के बाद नवगीत की स्थापना की ऐतिहासिक भूमिका को रेखांकित किया. उन्होंने कहा कि नवगीत के मानकों का अनुपालन किए जाने की जरूरत है ताकि देश काल व परिस्थिति के अनुसार नवगीत की अपनी प्रासंगिकता व सार्थकता सिद्ध हो.
 
हिंदी कविता व गीत के समालोचक डॉ ओम निश्चल ने कहा नवगीत अभी नवगीत प्रवर्तन की दावेदारी के झगड़े को लेकर ही उलझा हुआ है इसीलिए गीत की समीक्षा के क्षेत्र में कोई उल्लेखनीय काम नहीं हो सका है. उन्होंने कहा कि कविता को लेकर भी निराला का मानक था कि मुक्त छंद का समर्थक उसका प्रवाह है इसलिए गीत को अपने छांदिक अनुशासन, प्रवाह, लय, यति और गति का ध्यान रखना होगा. यह अवश्य है कि छंद की अपनी सीमा होती है, इसलिए नई कविता के गीतकार नए काव्य की ओर मुड़ गए. पर विडंबना यह है कि नई कविता के आलोचक इसे काव्य परिसर का अंग मानने में हिचकते हैं जो कि कविता की शैलियों को नजरंदाज करना है.

डॉ निश्चल ने कहा कि नवगीत होने के पहले वह गीत है तथा इसके बावजूद वह कविता का ही एक रुप है, उससे बाहर नहीं है, इसलिए काव्यशास्त्र की कसौटियां उस पर बखूबी लागू होती हैं. नवगीत की अपनी भाषा, अपने कथ्य व शैली में आधुनिक होना होगा तथा उसे अपने नाद सौंदर्य की रक्षा करनी होगी, जिसकी बात जाने माने कवि व प्रगीतकार गिरिजाकुमार माथुर किया करते थे. गीत जीवन के क्रिया व्यापार से अलग नहीं है. उसमें वस्तु्निष्ठता आएगी तभी वह स्थानीयता, आंचलिकता, शिल्प और बिंब की दृष्टि से समृद्ध होगा. उन्होंने कहा कि गंभीर कविता तक जन मानस को पहुंचाने के लिए गीत नवगीत एक पुल बनाते हैं अत: इन्हें भी कविता के पाठ्यक्रमों में रखा जाना चाहिए जिससे समाज में छंद, लय, गीत और नवगीत के प्रति एक सुरुचि पैदा हो.
 
सुपरिचित कथाकार, गजलगो एवं राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान के अध्यक्ष डॉ हरिओम ने कहा कि हमें अवश्य सोचना चाहिए कि हम अपने लिए भविष्‍य का कौन सा मार्ग चुनना चाहेंगे. यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि समाज को क्या देकर जाना चाहेंगे. उन्होंने कहा कि मेरा विधाओं से कोई पूर्वग्रह नहीं है, न हम जेंडर या जाति-धर्म को लेकर पक्षपाती हैं. हमें यह देखना चाहिए कि सब कुछ अच्छा नहीं है तो सब कुछ खराब भी नहीं है. जैसे सड़क खराब है तो वह बनती भी है. इसी तरह रचनाप्रक्रिया का रास्ता होता है. हमें गीत गजल या कविता लिखने के पहले सोचना चाहिए कि हम इसे क्यों लिख रहे हैं. भले ही कोई गजल को न माने, गीत को न माने पर दुष्यंत ने जब गजलें लिखीं तो किसी का ध्यान उसके फार्म पर नहीं था बल्कि इस पर था कि उन्होंने लिखा क्या है. उसका कथ्य कितना मजबूत है? वह ज्ञानात्मक संवेदना व संवेदनात्मक ज्ञान, जैसा कि मुक्तिबोध ने कहा है, उसकी दृष्टि से कितना मजबूत है.

उनका कहना था कि मुक्तिबोध या तुलसी अपने काव्यरूपों के कारण नहीं बल्कि अपने कथ्य‍ के कारण महत्वपूर्ण माने जाते हैं. डॉ हरिओम ने कहा कि गाया जाना ही कविता की सार्थकता नहीं है न ही यह कि वह याद हो जाय तभी कोई अच्छी रचना है. पुराने फार्म में नई बात कहने का सलीका हो तो उस पर सबका ध्यान जाता है.सृजन का एक तरीका नवगीत भी है तो वे भी निश्चय ही कविता की कसौटियों पर कसे जाएंगे. दूसरी सबसे अहम बात यह कि सभी विधाएं अहम हैं बशर्ते उनमें प्रतिरोध का स्वर विद्यमान हो.
 
सत्र की अध्यक्षता करते हुए जाने माने नवगीतकार डॉ माहेश्वर तिवारी ने कहा कि नवगीत के भविष्य की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है. जब तक कविता में जिजीविषा व सामाजिकता है तब तक कविता और गीत की प्रासंगिकता बनी रहेगी. उन्होंने कहा नवगीतकारों को अपने अध्ययन का दायरा बढाना चाहिए. उन्होंने कहा कि नवगीत ने काफी लंबा रास्ता तय किया है तथा इसके भीतर कथ्य, शिल्प व अंदाजेबयां की शिनाख्‍त की जा सकती है.

मुंबई से पधारे नवगीतकार ओम प्रकाश तिवारी ने कहा कि नवगीत के भविष्यि को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है न इसकी जमीन खिसकी है. नई पी़ढी अपने अनुरूप नवगीत का मार्ग प्रशस्ति करेंगी. उन्होंने कहा अपने प्रयासों से उन्होंने छांदस कविता के शोध व अध्ययन के लिए राज्यपाल राम नाईक के सहयोग से अवध विश्वाविद्यालय में जगन्नाथ दास रत्नाकर शोधपीठ की स्थापना कराई थी, जिसका पर्याप्त‍ उपयोग किया जाना चाहिए.

नवगीतकार जय चक्रवर्ती ने कहा कि नवगीतों में जो प्रवाह पैदा हो रहा है उसमें छंद के मानक को लेकर शिथिलता देखी जाती है तथा उन्होंने नवगीत की प्रासंगिकता के प्रति अपनी आश्वस्ति जाहिर की. नवगीत समीक्षक मधुकर अष्ठाना ने कहा कि नवगीत की लय की फिल्मी गीतों की तरह खींचतान नहीं होना चाहिए. छंद का अनुशासन मान्य होना चाहिए.

चर्चा को आगे बढ़ाते हुए राजेंद्र वर्मा व निर्मल शुक्ल ने भी अपनी बातें रखीं. नवगीत का भविष्य और भविष्य का नवगीत संगोष्ठी का सुचारु संयोजन राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान के महामंत्री डॉ दिनेशचंद्र अवस्थी एवं वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ रविशंकर पांडेय ने किया. डॉ हरिओम ने राज्य कर्मचारियों की सर्जनात्मक अभिरुचियों के प्रोत्साहन की दिशा में संस्थान की उपलब्धियों का उल्लेख किया तथा आशा व्यक्त की कि ऐसी सर्जनात्मक गोष्ठियों भविष्य में भी की जाती रहेंगी. उल्लेखनीय है कि किसी भी राज्य में सरकारी कर्मियों के सर्जनात्मक प्रोत्सा‍हन के लिए ऐसा संस्थान नहीं है जो इस पैमाने पर कार्यक्रम करता हो और सरकारी लेखकों की सृजनधर्मिता को पुरस्कृत करता हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay